पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Db original
  • TMC Will Field Its Candidate In UP, Punjab And Uttarakhand Elections To Be Held Next Year

अब बंगाल के बाहर दम भरेंगी दीदी:अगले साल होने वाले UP, पंजाब और उत्तराखंड चुनाव में TMC उतारेगी अपने उम्मीदवार, पार्टी का नाम बदलने पर भी बन रही रणनीति

नई दिल्ली11 दिन पहलेलेखक: संध्या द्विवेदी
  • कॉपी लिंक

बंगाल चुनाव में सीधा मोदी-शाह से टक्कर लेने के बाद ममता बनर्जी अब TMC को देशव्यापी कलेवर देने में जुट गई हैं। इसको लेकर पार्टी के भीतर से TMC के नाम में भी बदलाव करने का सुझाव दिया गया है। सूत्रों की मानें तो नाम को लेकर काम भी शुरू हो गया। TMC के आगे या पीछे कुछ ऐसा जोड़ने के लिए ब्रेन स्टार्मिंग शुरू भी हो गई है जिसमें अखंड भारत की आत्मा झलके। UP में खासतौर पर बसपा के वरिष्ठ नेता और रणनीतिकार सतीश चंद्र मिश्रा के साथ भी पार्टी संपर्क बनाए हुए है।

पश्चिम बंगाल चुनाव के दौरान भाजपा ने उन पर जमकर आरोप मढ़े तो दीदी ने भी कसर नहीं छोड़ी। भाजपा के 200 पार सीट पाने के मंसूबों पर दीदी ने अपनी आक्रामक शैली से पानी फेर दिया। अब TMC सूत्रों के मुताबिक ममता बनर्जी अगले साल होने वाले उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब में होने वाले चुनाव में अपने उम्मीदवार उतारेंगी। इसके लिए अभी से तैयारी भी शुरू हो गई है।

क्या है तैयारी?

उत्तर प्रदेश में TMC ने संपर्क साधना भी शुरू कर दिया है। लगभग मरणासन्न हो चुकी बहुजन समाज पार्टी (BSP) के कई नेता उनके संपर्क में हैं। सूत्रों की मानें तो मायावती के बेहद करीबी सतीश चंद्र मिश्रा से भी उनका संपर्क बना हुआ है। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि TMC इन राज्यों में अपने सहयोगी की तलाश करेगी या फिर अकेले ही चुनाव लड़ेगी।

बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान प्रचार करती हुई ममता बनर्जी। 200 से ज्यादा सीटों के साथ एक बार फिर से बंगाल में दीदी की वापसी हुई है।
बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान प्रचार करती हुई ममता बनर्जी। 200 से ज्यादा सीटों के साथ एक बार फिर से बंगाल में दीदी की वापसी हुई है।

लेकिन, TMC के एक बड़े नेता कहते हैं, 'हमारी पहली प्राथमिकता इन राज्यों में जड़ जमाने की है। लिहाजा, अगर हमें लगेगा कि सहयोगी के साथ चुनाव लड़कर हम सत्तासीन पार्टी को चुनौती दे सकते हैं तो दूसरी पार्टी के साथ गठबंधन से बिल्कुल भी ऐतराज नहीं होगा।'

इन राज्यों में चुनाव का प्रमुख संभावित मुद्दा कोरोना काल का 'कुप्रबंधन' रहेगा। अब क्योंकि बंगाल की मुख्यमंत्री खुद एक महिला हैं इसलिए इन राज्यों में महिला वोटर के लिए रणनीति बनाई जा रही है। इसके अलावा किसान समुदाय के मुद्दों को उठाने के बारे में भी विचार चल रहा है। कम से कम दो राज्यों उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में भाजपा को चुनौती देने के लिए भाजपा के ही नक्शेकदम पर चलने की तैयारी हो रही है। यानी भाजपा के असंतुष्ट नेताओं से संपर्क साधकर उन्हें अपने खेमे में लाने की तैयारी की जा रही है।

उत्तर प्रदेश में ऐसे उद्योगपतियों के घरानों से संपर्क साधने की कोशिश हो रही है जो ठप हो चुके हैं। उन्हें बंगाल बुलाकर सस्ते दामों में जमीन देने के साथ दूसरी सहूलियत देने की प्लानिंग भी चल रही है। हालांकि अभी यह प्लानिंग के शुरुआती चरण में ही है।

पार्टी का नाम बदलने की तैयारी

अब जबकि तृणमूल बंगाल से निकलकर देश के अन्य राज्यों और फिर 2024 में लोकसभा चुनाव में पूरे देश में अपने उम्मीदवार उतारने की तैयारी में जुट गई है। ऐसे में पार्टी के नाम में भी बदलाव करने के सुझाव पार्टी के भीतर से TMC प्रमुख को दिए गए हैं। पार्टी के नाम के आगे कुछ ऐसा जोड़ने को लेकर ब्रेन स्टॉर्मिंग चल रही है जो पार्टी को केवल राज्य नहीं बल्कि भारतीय पार्टी का दर्जा दिलाए। कुछ सुझाव आ भी चुके हैं, लेकिन अभी इसको लेकर गहन विचार किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...