पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Db original
  • UP's Siddhant Quit His Job And Started Teaching Online, Got Rs 40 Lakh In Two Months. Of Business, Also Gave Employment To 35 People

आज की पॉजिटिव खबर:UP के सिद्धांत ने नौकरी छोड़ ऑनलाइन पढ़ाना शुरू किया, दो महीने में 40 लाख रु. का बिजनेस, 35 लोगों को रोजगार भी दिया

नई दिल्ली3 महीने पहलेलेखक: इंद्रभूषण मिश्र

यूट्यूब कमाई का एक अच्छा प्लेटफॉर्म है। इसके जरिए कम समय में बढ़िया कमाई की जा सकती है। इन दिनों इसका चलन भी बढ़ा है। म्यूजिक, स्पोर्ट्स, पॉलिटिक्स, ह्यूमर से एजुकेशन तक हर तरह के टॉपिक में दिलचस्पी रखने वाले लोग इसके जरिए अच्छी कमाई कर रहे हैं। खास करके यूथ इससे जुड़कर खुद का करियर बना रहे हैं। उत्तर प्रदेश के लखनऊ के रहने वाले सिद्धांत अग्निहोत्री भी उनमें से एक हैं। सिद्धांत ने दो महीने पहले यूट्यूब और ऑनलाइन ऐप के जरिए स्टूडेंट्स को पढ़ाना शुरू किया। महज दो महीने में ही उन्होंने 40 लाख का बिजनेस किया है और 35 लोगों को रोजगार भी दिया है।

दो महीने में 6 लाख सब्सक्राइबर्स हो गए
सिद्धांत एक सामान्य परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उनकी पढ़ाई-लिखाई लखनऊ में ही हुई। मास्टर्स की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने NET-JRF में कामयाबी हासिल की। चूंकि उनका इंटरेस्ट शुरू से पढ़ने-पढ़ाने को लेकर रहा तो उन्होंने एक ऑनलाइन कोचिंग संस्थान से जुड़कर पढ़ाना शुरू कर दिया। करीब 4 साल तक उन्होंने यहां काम किया। इस दौरान कमाई के साथ ही उन्हें बढ़िया टीचिंग एक्सपीरिएंस भी मिला। इसके बाद सिद्धांत को लगा कि उन्हें खुद का यूट्यूब चैनल और ऑनलाइन प्लेटफॉर्म लॉन्च करना चाहिए। ताकि कम पैसे में स्टूडेंट्स को कोचिंग का लाभ मिल सके।

सिद्धांत ने डबल मास्टर्स किया है। इसके बाद उन्होंने NET-JRF क्वालिफाई किया और एक कोचिंग में पढ़ाने लगे।
सिद्धांत ने डबल मास्टर्स किया है। इसके बाद उन्होंने NET-JRF क्वालिफाई किया और एक कोचिंग में पढ़ाने लगे।

28 साल के सिद्धांत कहते हैं कि दो साल पहले मैंने यूट्यूब पर अपना एक चैनल क्रिएट किया था, लेकिन वक्त नहीं मिलने के चलते मैं उस पर कोई खास ध्यान नहीं दे पा रहा था। इस साल कोरोना की दूसरी लहर आई तो मैंने तय किया कि अब खुद के प्लेटफॉर्म से ही बच्चों को पढ़ाऊंगा और नौकरी छोड़ दी। अप्रैल 2021 में सिद्धांत ने अपने चैनल को नए तरह से डिजाइन किया और पूरी तरह से फोकस करना शुरू कर दिया। इसका जल्द ही उन्हें बेहतर रिस्पॉन्स भी मिला। महीने भर के भीतर चार लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर्स उनके साथ जुड़ गए। अभी 6 लाख से ज्यादा उनके सब्सक्राइबर्स हैं। उनके कई वीडियोज के व्यूज 50 लाख से भी ज्यादा है।

ऑनलाइन ऐप के जरिए पढ़ा रहे हैं बच्चों को
यूट्यूब के साथ-साथ सिद्धांत अपने ऑनलाइन ऐप के जरिए भी बच्चों को पढ़ा रहे हैं। इसी साल मई में उन्होंने Study Glows नाम से अपना ऐप लॉन्च किया है। जिसके जरिए वे UPSC, PCS, BANK, IIT सहित हर तरह के कंपटेटिव एग्जाम्स की तैयारी करवाते हैं। एक महीने से भी कम समय में एक लाख से ज्यादा लोग ऐप को डाउनलोड कर चुके हैं। इतना ही नहीं 11 हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स ने उनका सब्सक्रिप्शन भी लिया है। जबकि कई स्टूडेंट्स फ्री में भी एजुकेशन का लाभ ले रहे हैं।

अगर आप खुद का भी ऑनलाइन टीचिंग ऐप लॉन्च करना चाहते हैं तो आसानी से कर सकते हैं। देश में कई ऐप डेवलपर्स हैं, जो एक कंपफर्टेबल प्राइस पर इस तरह का ऐप डेवलप करते हैं। सिद्धांत ने Classplus से अपना ऐप डेवलप कराया है। यह भारत का लोकप्रिय टीचिंग मोबाइल ऐप डेवलपर है। कोरोना के दौरान Classplus ने कई नए टीचर्स और संस्थानों के लिए इस तरह के ऐप डेवलप किया है।

कैसे पढ़ाते हैं बच्चों को, क्या है कमाई का मॉडल?

सिद्धांत के ऐप का लुक। ऐप पर कोर्स वाइज सेक्शन और उसकी टाइमिंग पहले से तय होती है। जिसकी जानकारी स्टूडेंट्स को भी होती है।
सिद्धांत के ऐप का लुक। ऐप पर कोर्स वाइज सेक्शन और उसकी टाइमिंग पहले से तय होती है। जिसकी जानकारी स्टूडेंट्स को भी होती है।

सिद्धांत बताते हैं कि यूट्यूब पर हमारे सभी वीडियो मुफ्त में उपलब्ध हैं। हम रेगुलर उस पर अपनी वीडियो टॉपिक वाइज अपलोड करते हैं। हमारे कई वीडियो की व्यूज 50 लाख से भी ज्यादा है। इसलिए यहां कितने बच्चे हमारे साथ जुड़े हैं, इसका आकलन करना मुश्किल टास्क है। जबकि ऐप पर क्लास करने के लिए कुछ फीस भरनी होती है। इसमें कोर्स और टॉपिक के हिसाब से हम पैसे लेते हैं। यह तीन सौ रुपए से लेकर एक हजार रुपए महीना तक है। जैसे 12 हजार रुपए में हम UPSC की पूरी तैयारी करवाते हैं। उसी तरह बैंक और दूसरे कोर्स के लिए अलग-अलग फीस है।

वे कहते हैं कि हर दिन का हमारा शेड्यूल फिक्स होता है और इसके बारे में स्टूडेंट्स को जानकारी पहले से होती है। वे उस वक्त ऐप के जरिए जुड़कर ऑनलाइन क्लास ज्वॉइन करते हैं। इसके साथ ही जिन बच्चों की क्लास छूट जाती है, उनके लिए हम अलग से भी रिकॉर्डेड वीडियो अपलोड करते हैं। साथ ही हर दिन क्लास के बाद उस टॉपिक के PDF नोट्स भी हम उन्हें मेल कर देते हैं। सिद्धांत कहते हैं कि हर हफ्ते हम बच्चों का टेस्ट लेते हैं और उनके लिए डाउट सेशन भी रखते हैं।

फिलहाल सिद्धांत के साथ 35 लोग जुड़े हैं। इनमें ज्यादातर टीचर्स हैं। अभी सभी कोरोना के चलते वर्क फ्रॉम होम काम कर रहे हैं। हाल ही में सिद्धांत ने लखनऊ में अपना नया ऑफिस भी लॉन्च किया है। कोरोना के बाद वे वहां से भी बच्चों को पढ़ाएंगे।

आप यूट्यूब से कैसे कमाई कर सकते हैं?
अगर आप भी यूट्यूब से जुड़कर रेवेन्यू हासिल करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको खुद का एक चैनल बनाना होगा। यह बेहद आसान प्रोसेस होता है। चैनल बनाने के बाद आपको अपने इंटरेस्ट के हिसाब से वीडियो बनाकर अपलोड करना होता है। सिद्धांत बताते हैं कि यूट्यूब चैनल शुरू करना और उस पर वीडियो अपलोड करना बहुत चैलेंजिंग टास्क नहीं होता है। कोई भी इसे आसानी से सीख सकता है। गूगल पर इसके बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध है।

लेकिन इससे कमाई करना और अपने चैनल को लोकप्रिय बनाना मुश्किल टास्क होता है। इसके लिए क्रिएटिव स्किल के साथ आपका काम भी यूनिक और दमदार होना चाहिए। आपके टॉपिक का सिलेक्शन, आपकी आवाज, लुक, किसी चीज को प्रजेंट करने का तरीका, यह सब आपकी कामयाबी के लिए मायने रखता है। सिद्धांत के मुताबिक अगर कोई पूरी तैयारी से 6 महीने-सालभर यूट्यूब को वक्त दे, उस पर यूजर्स के डिमांड के हिसाब से वीडियो अपलोड करे। अच्छी और भरोसेमंद उपलब्ध जानकारी दे, तो वह इससे अच्छी कमाई कर सकता है।

कमाई के लिए 4,000 घंटे का वॉचटाइम जरूरी
यूट्यूब अपनी शर्तों के मुताबिक कंटेंट क्रिएटर को भुगतान करता है। इसके लिए उसने कुछ पैरामीटर्स तय कर रखे हैं। जिसके मुताबिक आपके चैनल पर कम से कम एक हजार सब्सक्राइबर्स होने चाहिए। इसके साथ ही मिनिमम चार हजार घंटे का वॉचटाइम होना जरूरी है। अगर इन दोनों शर्तों को आप पूरा करते हैं तो आपका चैनल मॉनिटाइज होने लगता है और आप यूट्यूब से अच्छा रेवेन्यू जेनरेट कर सकते हैं। इससे जो भी कमाई होती है, उसका 45% हिस्सा यूट्यूब के पास जाता है और बाकी 55 % आपके पास आएगा। यह कमाई आपके चैनल पर आ रहे विज्ञापनों के जरिए होती है।

सिद्धांत कहते हैं कि यूट्यूब से रेवेन्यू जेनरेट करना कई फैक्टर्स पर निर्भर करता है। कुछ लोगों को ऐसा लगता है कि कमाई के लिए लाखों में सब्सक्राइबर्स होने चाहिए, लेकिन यह जरूरी नहीं है। अगर आपके पास हजार से ज्यादा सब्सक्राइबर्स हैं तो भी आप कमाई कर सकते हैं। इसके लिए सबसे जरूरी होता है आपके वीडियो को कितने लोग देखते हैं और कितनी देर तक देखते हैं। कई ऐसे यूट्यूबर्स हैं, जिनके सब्सक्राइबर्स कम हैं लेकिन उनकी वीडियो की व्यूज लाखों-करोड़ों में है। सिद्धांत के मुताबिक हर हजार व्यूज पर कम से कम आधा डॉलर आप अर्निंग कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : यूट्यूबर्स की कमाई पर अब अमेरिकी कानून के हिसाब से 24% तक टैक्स; भारत के कंटेंट क्रिएटर्स पर होगा कितना असर?

खबरें और भी हैं...