• Hindi News
  • Db original
  • UPSC Topper Interview : UPSC 2020 Woman Topper Jagrati Awasthi Share Tips To Crack Exam

खुद्दार कहानी:लाखों की सैलरी वाली सरकारी नौकरी छोड़ी, पहली बार में प्री भी क्वालिफाई नहीं कर सकीं, लेकिन हौसला कायम रखा, अब बनी UPSC सेकेंड टॉपर

भोपाल25 दिन पहलेलेखक: वैभव पलनीटकर

भोपाल की एक 24 साल की लड़की। मौलाना आजाद नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग करने के बाद BHEL में नौकरी करने लगती है। अच्छी खासी सैलरी और पोजिशन के बाद भी उसका मन नौकरी में नहीं लगता है। उसे बार-बार लगता है कि वह जो करना चाहती है, वह नौकरी करते हुए नहीं कर पा रही है। एक दिन अचानक वह नौकरी छोड़ देती है और UPSC की तैयारी में जुट जाती है। पहली बार में कामयाबी हाथ नहीं लगती, लेकिन दूसरी बार जब रिजल्ट आता है तो देशभर में लोगों की जुबां पर उसका नाम होता है। वह नाम है जागृति अवस्थी का, जिसने UPSC 2020 में देशभर में सेकेंड रैंक हासिल की है। आज की खुद्दार कहानी में पढ़िए जागृति की कामयाबी की कहानी उन्हीं की जुबानी...

सवाल: पहली बार में आप प्री क्वालिफाई नहीं कर सकीं और दूसरी बार में सीधे सेकेंड टॉपर, कैसे तय किया यह सफर?
जवाब:
पहली बार असफल होने के बाद सबसे पहले मैंने कहां कमी रह गई, इसको लेकर एनालिसिस किया। इसके बाद मुझे रियलाइज हुआ कि पहली बार में सिलेबस पूरा नहीं हुआ था, प्रैक्टिस नहीं थी, रिवीजन नहीं किया था। दूसरी बार में मैंने सवालों की प्रकृति समझने के लिए ही एक महीने का वक्त दिया, अच्छी तरह से सिलेबस को समझा। सवालों की बार-बार प्रैक्टिस की, रिवीजन किया। इस दौरान कोविड संक्रमण रहा, लेकिन फिर भी मैं डटी रही।

24 साल की जागृति ने मौलाना आजाद नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है।
24 साल की जागृति ने मौलाना आजाद नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है।

सवाल: BHEL की प्रतिष्ठित नौकरी छोड़ने का फैसला कैसे लिया?
जवाब:
बचपन से ही हम सुनते थे कि कलेक्टर बहुत बड़ी चीज होती है। एग्जाम के बारे में तो नहीं जानती थी, लेकिन धीरे-धीरे पता चला कि सिविल सर्विसेज एग्जाम होता है। चूंकि मैं मिडिल क्लास फैमिली से हूं तो हमेशा फाइनेंशियल रूप से स्थिर होने के बारे में भी विचार करना होता है। दिमाग में हमेशा यही रहता था कि अगर कुछ नहीं करूंगी तो पेरेंट्स पर बोझ रहेगा। इसलिए मैंने दो साल नौकरी की और सेविंग की। जब नौकरी में स्थिरता आई तो मैंने सोचा मेरी दिलचस्पी क्या है। मुझे लोगों से मिलना-जुलना, बात करना अच्छा लगता है। तो सिविल सर्विसेज एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां ऐसा करने का मौका मिलता रहेगा।

सवाल: UPSC की तैयारी में आने वालों के सवाल रहते हैं, कितने घंटे पढ़ाई करती थीं, कितनी सारी मोटी-मोटी किताबें पढ़ीं, क्या खाती थीं, कौन सी कोचिंग की, टाइम कैसे मैनेज करती थीं?
जवाब:
पढ़ाई करने को कभी भी घंटों से नहीं नापना चाहिए। मैं तय करती थी कि मुझे इतने दिनों में फलां-फलां टॉपिक खत्म करने हैं। वैसे मैं 8-10 घंटे तो हर दिन पढ़ा ही करती थी। मैंने दिल्ली जाकर कोचिंग भी जॉइन की थी। लेकिन तभी कोविड आ गया और मैं वापस भोपाल अपने घर से ही तैयारी करने लगी। अब तो ऑनलाइन कोचिंग, लेक्चर, नोट्स की भी भरमार है, इन चीजों की मदद भी ले सकते हैं। लेकिन 90% योगदान आपकी खुद की मेहनत का ही होगा।

सवाल: प्री एग्जाम को क्लियर करने की आपकी रणनीति क्या रही?
जवाब:
दूसरे अटेंप्ट में मुझे प्री एग्जाम के पहले डर लग रहा था। मैंने एग्जाम से दो महीने पहले से ही रोजाना एक मॉक टेस्ट देना शुरू किया। इस तरह से मैंने 60 बार एग्जाम की प्रैक्टिस की। इसलिए मुझे कोई दिक्कत नहीं हुई। मेरा मानना है कि जो लोग UPSC करना चाहते हैं, उन्हें पहले तो विषय को अच्छी तरह से पढ़ना चाहिए, और जब प्री करीब हो तो मॉक टेस्ट के जरिए प्रैक्टिस बढ़ाना चाहिए।

जागृति कहती हैं कि मैं जब भी कभी परेशान होती तो मेरे माता-पिता इस दौरान सपोर्ट करते थे, मेरा हौसला बढ़ाते थे।
जागृति कहती हैं कि मैं जब भी कभी परेशान होती तो मेरे माता-पिता इस दौरान सपोर्ट करते थे, मेरा हौसला बढ़ाते थे।

सवाल: इंजीनियरिंग करने के बाद भी आपने सब्जेक्ट के रूप में सोशियोलॉजी क्यों लिया?
जवाब:
लोगों को सोशियोलॉजी स्कोरिंग सब्जेक्ट इसलिए लगता है कि बहुत सारे लोग ये विषय बतौर ऑप्शनल लेते हैं। इसकी वजह ये है कि ये विषय समाज के प्रति आपकी समझ मजबूत करता है। मेन्स, इंटरव्यू, निबंध हर स्तर पर सोशियोलॉजी विषय मदद करता है। जॉब में जाने के बाद भी ये विषय मदद करता है। इसलिए मैंने ये विषय चुना।

सवाल: इंटरव्यू में आपसे पूछा गया सबसे कठिन और इंटरेस्टिंग सवाल कौन सा रहा और आपने उसका जवाब कैसे दिया?
जवाब:
इंटरव्यू में कुछ सवाल तो बहुत ही चौंकाने वाले रहे। जैसे- बोर्ड ने मेरे 12वीं क्लास के एडिशनल सब्जेक्ट संस्कृत से जुड़े कुछ सवाल किए, उन्होंने पूछा कि गायत्री मंत्र किसने लिखा है? कालिदास की रचनाएं बताइए? उन्होंने कुछ फिल्मों के नाम बताए और पूछा कि इसमें किस एक्टर ने काम किया है? तो ये सवाल चौंकाने वाले रहे। इंटरव्यू वार्तालाप की तरह ही होता है। अगर आप एक जागरूक नागरिक की तरह पेश आएं तो अच्छा इंपेक्ट पड़ता है।

इंटरव्यू में कुछ गंभीर सवाल भी पूछे गए, जैसे कि अफगानिस्तान मुद्दे पर क्या भारत को चीन के साथ ज्यादा मिलकर काम करने की जरूरत है? तो इसके जवाब में मैंने कहा कि हां चीन हमारा पड़ोसी देश है और इसे हम बदल नहीं सकते। अफगानिस्तान की परिस्थिति को देखते हुए भारत के लिए जरूरी है कि काउंटर-टेररिज्म पर काम करना चाहिए। अमेरिका से भी हम रिश्तों को संतुलित बनाए रखने की कोशिश कर रहे हैं।

जागृति को दूसरी बार में कामयाबी मिली है। ऐसे तो वह सेकेंड टॉपर हैं, लेकिन लड़कियों की कैटेगरी में वह टॉपर हैं।
जागृति को दूसरी बार में कामयाबी मिली है। ऐसे तो वह सेकेंड टॉपर हैं, लेकिन लड़कियों की कैटेगरी में वह टॉपर हैं।

सवाल: UPSC की तैयारी के लिए लगातार मेंटल स्टेबिलिटी की जरूरत होती है। आपने इसे कैसे मैनेज किया?
जवाब:
हर सुबह मैं उठकर सोचा करती थी कि 'मैंने नौकरी छोड़ी है, मुझे इस बात का अफसोस नहीं करना है।' जीवन में उतार-चढ़ाव तो सबके आते ही हैं, मैं भी कई बार खुद को परेशानी में पाती थी। ऐसे वक्त में मेरे मां-पिता ने काफी सपोर्ट किया।

अब रैपिड फायर राउंड के सवाल जवाब

  • पसंदीदा एक्टर- डेनियल रेडक्लिफ
  • पसंदीदा एक्ट्रेस- रेखा
  • पसंदीदा फिल्म- स्त्री
  • पसंदीदा पॉलिटिशियन- लाल बहादुर शास्त्री
  • पसंदीदा ऑइडियोलॉजी- फंक्शनलिज्म
  • प्रेरक व्यक्तित्व- सुधा मूर्ति
  • इतिहास का सबसे पसंदीदा किरदार- सुभाष चंद्र बोस
  • अगर IAS ना बनतीं तो दूसरा विकल्प क्या होता?- एकेडमिक्स और रिसर्च में जाती
खबरें और भी हैं...