• Hindi News
  • Db original
  • Uttar Pradesh Sonbhadra 21 Year Old Satyam Chaturvedi Instagram Memes, Now Earning 15 Lakhs Annually

आज की पॉजिटिव खबर:सब्जी-दवाई खरीदने के पैसे नहीं थे; 21 साल के सत्यम ने इंस्टा मीम्स बनाना शुरू किया, सालाना 15 लाख कमाई

4 महीने पहलेलेखक: नीरज झा

अभी देश में 75 करोड़ से ज्यादा लोग सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे हैं। वहीं, 23 करोड़ लोग इंस्टाग्राम चला रहे हैं। पहले जमाना कार्टून और चुटकुले का था, लेकिन अब नए दौर में इसकी जगह रील और मीम्स ने ले ली है।

आपके इंस्टाग्राम टाइम लाइन से भी हर रोज मीम्स गुजरते होंगे। आप मीम को दो-चार बार देखते होंगे, हंसते होंगे, दोस्तों के साथ शेयर करते होंगे, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इसका भी बहुत बड़ा मार्केट है। लोग मीम कंटेंट के जरिए लाखों रुपए की कमाई कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले के रहने वाले सत्यम चतुर्वेदी की उम्र करीब 21 साल है। 2019 में सत्यम ने इंस्टाग्राम पर एक मीम पेज बनाया था। आज इसके एक मिलियन से अधिक फॉलोअर्स हैं। उनके पेज और मीम कंटेंट की इतनी रीच है कि वो इतनी कम उम्र में ही हर महीने एक से 1.5 लाख तक की कमाई कर रहे हैं।

21 साल के के इंस्टाग्राम पेज के एक मिलियन से ज्यादा फॉलोअर्स हैं।
21 साल के के इंस्टाग्राम पेज के एक मिलियन से ज्यादा फॉलोअर्स हैं।

अपनी पहली कमाई को लेकर सत्यम कहते हैं, 120 रुपए की कमाई हुई थी। उसके बाद से हमने इंस्टा पर रीच को लेकर मेहनत की और अच्छे मीम कंटेंट पोस्ट करना शुरू किए। सत्यम बहुत ही गरीब परिवार से आते हैं। वो कहते हैं, हम दो भाई और एक बहन हैं। पिता किसान हैं। घर की आमदनी खेती पर निर्भर थी। जमीन भी बहुत कम है। घर की आर्थिक स्थिति बेहद खराब थी।

सत्यम अपने पुराने दिनों की एक बात बताते हैं। कहते हैं- पिता बीमार थे। अल्ट्रासाउंड करवाना था, लेकिन पैसे नहीं थे इसलिए उन्होंने नहीं करवाया। कई बार तो दवाई खरीदने तक के पैसे नहीं होते थे।

सत्यम गरीब परिवार से हैं। उनका घर खेती और मवेशियों से होने वाली कमाई पर निर्भर था।
सत्यम गरीब परिवार से हैं। उनका घर खेती और मवेशियों से होने वाली कमाई पर निर्भर था।

सत्यम कहते हैं, घर का खर्च चलाने के लिए मां दो गाय पालती थीं। गाय को खिलाने के लिए चारा खेत से खुद जाकर लाती थीं। गाय 6-7 लीटर दूध देती थी, जिसे बेचकर मां पढ़ने का पैसा भेजती थीं।

सत्यम साल 2015 में गांव से इलाहाबाद आ गए थे। वो कहते हैं, 9th क्लास में था। मां ने पढ़ने के लिए इलाहाबाद भेज दिया। आने के कुछ महीनों बाद तक पैसे की उतनी दिक्कत नहीं हुई, लेकिन उसके बाद घर वाले पैसे भेज पाने में असमर्थ थे।

कई बार ऐसा हुआ कि सब्जी खरीदने के लिए मेरे पास पैसे नहीं होते थे। कई दिनों तक दाल-चावल ही खाता रहता था। रूम का किराया दोस्तों से उधार लेकर देना पड़ता था।

सत्यम को पैसे की कमी की वजह से पढ़ाई में दिक्कत आई, लेकिन उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए कमाई का तरीका खोज निकाला।
सत्यम को पैसे की कमी की वजह से पढ़ाई में दिक्कत आई, लेकिन उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए कमाई का तरीका खोज निकाला।

सत्यम चतुर्वेदी 12वीं के बाद IAS की तैयारी करना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने एक कोचिंग में एडमिशन भी लिया था, लेकिन दूसरे महीने पैसे नहीं थे इसलिए उन्हें कोचिंग छोड़नी पड़ी। घर के हालात और पैसों की तंगी को देखते हुए सत्यम ने 2019 में अपना एक इंस्टा पेज बनाया और उस पर मीम कंटेंट डालने शुरू किए। इसका उनके दोस्त मजाक भी उड़ाते थे। कहते थे कि इसमें व्यर्थ का समय बर्बाद कर रहे हो। कुछ नहीं होने वाला।

सत्यम कहते हैं- न तो मेरे पास कोई अच्छी डिग्री थी और न ही स्किल, जिनकी बदौलत मैं कहीं नौकरी कर पाता। मैं सोशल मीडिया के जरिए कमाई का जरिया ढूंढने लगा। यूट्यूब को देखकर मीम्स कंटेंट के लिए पेज बनाया।

जब सत्यम ने धीरे-धीरे ग्रोथ करनी शुरू की तो घर वालों को शक होने लगा कि कहीं उनका बेटा कुछ गलत काम कर पैसा तो नहीं कमाने लगा है। सत्यम कहते हैं, गांव के लोग इन सभी चीजों के बारे में नहीं जानते हैं। मां-पापा नाराज होते थे। उन्हें लगता था कि मैं कुछ गलत काम कर पैसा कमा रहा हूं।

कमाई के मॉडल को लेकर सत्यम कहते हैं कि अब हर युवा सोशल मीडिया, इंस्टाग्राम चला रहा है। मीम्स देखते हैं, लाइक और शेयर करते हैं। मुझे भी अब इस काम में मजा आने लगा है। पेज रीच बढ़ने के बाद अब इसके जरिए OTT प्लेटफॉर्म पर आने वाली वेब सीरीज और दूसरे विज्ञापनों के प्रमोशन को लेकर एजेंसियां कॉन्टेक्ट करती हैं। प्रमोशन करने के अलग-अलग चार्ज होते हैं। इससे सत्यम की अच्छी-खासी कमाई हो रही है।

सत्यम बताते हैं कि उन्होंने एक महीने पहले एक प्ले स्कूल भी खोला है। अब वो ऑनलाइन कंटेंट के अलावा कुछ अलग करने की कोशिश कर रहे हैं। साथ में 7 से अधिक लोगों को रोजगार भी दे रहे हैं।