• Hindi News
  • Db original
  • VHP To Launch Nationwide Campaign From December 21 Regarding Religious Conversion And Love Jihad

विश्व हिंदू परिषद का ऐलान:देश में बन रहे मिनी पाकिस्तान और मिनी वेटिकन के खिलाफ शुरू होगा युद्ध, कहा- असली अल्पसंख्यकों के खिलाफ षड्यंत्र नहीं होने देंगे

नई दिल्ली6 महीने पहलेलेखक: संध्या द्विवेदी

अगले कुछ महीनों में यूपी समेत 5 राज्यों में चुनाव होने हैं। लिहाजा धर्म परिवर्तन, लव जिहाद और लैंड जिहाद जैसे सियासी मुद्दों को लेकर माहौल गरमाने लगा है। विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने 21 दिसंबर से इन मुद्दों के खिलाफ देश भर में आंदोलन का ऐलान किया है।

इसके तहत VHP के कार्यकर्ता घर-घर जाकर कैंपेन करेंगे। VHP प्रवक्ता विनोद कुमार बंसल ने भास्कर से कहा कि देश की डेमोग्राफी में बदलाव आ रहा है। देश में मिनी पाकिस्तान और मिनी वेटिकन बन रहे हैं। ताज्जुब तो यह है कि देश के प्रशासन को इसकी खबर नहीं है। इसको लेकर हमें चिंता करनी चाहिए।

बंसल से मिलने जब दैनिक भास्कर की रिपोर्टर संध्या द्विवेदी पहुंचीं तो वे फोन पर व्यस्त थे। वे किसी से पूछ रहे थे कि क्या वहां धर्म परिवर्तन 'चंगाई' सभाओं के जरिए हो रहा है? आंकड़ा क्या होगा? प्रशासन क्या कर रहा है? पूरे देश में VHP धर्म परिवर्तन के आंकड़ों को लेकर एक सर्वे भी कर रही है। इस काम को अंजाम देने वाली संस्थाओं की मौजूदगी और बदल रही डेमोग्राफी इस सर्वे का मुख्य हिस्सा हैं। हालांकि, अभी यह काम बेहद शुरुआती दौर में है। उन्होंने हमसे उदाहरण के लिए सर्वे का एक छोटा हिस्सा साझा किया।

VHP का दावा- सरकारी जमीनों पर अतिक्रमण करके बनाए गए चर्च
बंसल से पूछा गया कि धर्म परिवर्तन से जुड़ा कोई डेटा आपका संगठन तैयार कर रहा है? इस पर उन्होंने कहा- 'बिल्कुल, अभी हमने मध्यप्रदेश के झाबुआ जिले का एक डेटा तैयार किया। वहां पिछले करीब 3 दशक में 53 चर्च बने। जानकर हैरानी होगी कि इनका कोई आंकड़ा प्रशासन के पास नहीं है। यह सब सरकारी जमीन पर बने हैं।

साफ है ये चर्च सरकारी जमीन पर अतिक्रमण किए हुए हैं, लेकिन प्रशासन को तो यह पता ही नहीं कि चर्च बनाने की अनुमति किसने दी? सरकारी जमीन पर कब्जा कैसे हुआ? हुआ तो फिर कब्जे के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं हुई? यह भी नहीं पता कि कितने लोग हिंदू, बौद्ध, सिख और जैन से ईसाई बने? मुस्लिम बने?'

VHP प्रवक्ता विनोद कुमार बंसल कहते हैं कि देश की डेमोग्राफी बदल रही है, लेकिन प्रशासन को इसकी खबर तक नहीं है।
VHP प्रवक्ता विनोद कुमार बंसल कहते हैं कि देश की डेमोग्राफी बदल रही है, लेकिन प्रशासन को इसकी खबर तक नहीं है।

वे कहते हैं- 'हमारे पास यह डेटा RTI से आया। झाबुआ जिले में तहसीलवार ढंग से हमने RTI लगाई। तीन मुख्य सवाल पूछे। यहां कितने चर्च हैं? कितने लोगों ने धर्म परिवर्तन के लिए आवेदन किया? कितने चर्च बनाने की अनुमति दी गई? अब जवाब भी सुनिए- इसका कोई सटीक आंकड़ा नहीं। जानकारी नहीं। प्रशासन अनजान है। लब्बोलुआब साफ है कि जिले की बदल रही डेमोग्राफी के बारे में प्रशासन को कुछ पता नहीं।'

यह पूछने पर कि आपने केवल मिशनरियों पर निशाना नहीं साधा बल्कि इस्लाम को भी आड़े हाथों लिया, आपने मिनी वेटिकन के साथ भारत में बन रहे मिनी पाकिस्तान का भी जिक्र किया? बंसल बोले- 'हां, लव जिहाद का भंडाफोड़ तो अब सबके सामने होने लगा है। उत्तर प्रदेश में जिस तरह से कार्रवाई हुई और नेटवर्क सामने आया तो इसमें अब किसी को कहने की जरूरत नहीं कि इस्लामिक संस्थाएं किस तरह से भारत में साजिश कर रही हैं। इस्लामिक नेटवर्क तलवार के बल पर धर्म परिवर्तन करवाने पर आमादा है।'

कैसे करेंगे, धर्म परिवर्तन के खिलाफ देशव्यापी अभियान?
बंसल बताते हैं- 21 दिसंबर से पूरे देश में एक साथ यह अभियान छेड़ा जाएगा। इस अभियान में VHP डोर टु डोर पहुंचेगी। लोगों को इस चिंता से अवगत कराने के साथ ही उन्हें कुछ कंटेंट भी देगी, जिससे लोग समझ सकें कि देश कितनी बड़ी साजिश से गुजर रहा है।'

'यह अभियान एक महीने या फिर ज्यादा दिनों तक भी चल सकता है। इस अभियान का मकसद सीधा है- देश में बन रहे मिनी पाकिस्तान और मिनी वेटिकन के खिलाफ एक धर्म युद्ध शुरू करना।'

वे कहते हैं कि हमने इस अभियान से पहले सांसद संपर्क अभियान 29 नवंबर से ही शुरू किया है। एक तरह से 21 दिसंबर को शुरू होने वाला अभियान अभी चल रहे सांसद संपर्क अभियान का एक्सटेंशन ही है। अभी हम सांसदों से मिलकर उन्हें उनके इलाके के बारे में इस चिंता से अवगत करा रहे हैं। कुछ किताबें और कुछ सामग्री उन्हें बांट रहे हैं, ताकि वे उन्हें पढ़ें और फिर उन इलाकों का दौरा करें।

केवल बहुसंख्यक नहीं, अल्पसंख्यक भी धर्म परिवर्तन के निशाने पर

VHP प्रवक्ता विनोद कुमार बंसल बताते हैं कि हमने अपना अभियान तेज कर दिया है। हम लगातार अलग-अलग क्षेत्रों में जा रहे हैं।
VHP प्रवक्ता विनोद कुमार बंसल बताते हैं कि हमने अपना अभियान तेज कर दिया है। हम लगातार अलग-अलग क्षेत्रों में जा रहे हैं।

VHP की चिंता में केवल हिंदू ही नहीं बल्कि सिख, बौद्ध और जैन भी हैं। बंसल पंजाब के मोगा जिले का उदाहरण देकर समझाते हैं। वे कहते हैं अभी वहां हजारों की संख्या में धर्म परिवर्तन कराने की खबर हमें लगी। उस कार्यक्रम में पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी भी जाने वाले थे। VHP ने प्रोटेस्ट किया। पंजाब के मुख्यमंत्री को सूचना दी। तब जाकर वह कार्यक्रम टला। पंजाब में तो कई इलाके धर्म परिवर्तन का अड्डा बन गए हैं। बौद्ध और जैनों के बीच भी अब धीरे-धीरे धर्म परिवर्तन की कोशिशें होने लगी हैं।

हम बहुसंख्यक हैं, हमारी संख्या को लगातार कम करने की कोशिश हो रही है। अगर असली अल्पसंख्यकों के बीच धर्म परिवर्तन की रफ्तार लगातार बढ़ती गई तो फिर ये लोग तो डेमोग्राफी से गायब हो जाएंगे। बंसल कहते हैं- स्यूडो सेकुलरिज्म में जिन्हें अल्पसंख्यक कहा गया दरअसल वे अल्पसंख्यक है हीं नहीं। अल्पसंख्यक तो जैन, बौद्ध हैं। अपीजमेंट की पॉलिटिक्स ने असली अल्पसंख्यकों को कभी संबोधित ही नहीं किया।

इस्लाम का हथियार 'लव जिहाद' तो मिशनरीज चंगाई सभाओं के जरिए करा रहे धर्म परिवर्तन
बंसल बताते हैं कि लव जिहाद तो अब आम प्रचलित शब्द है। धर्म परिवर्तन के लिए इस्लाम में यह सबसे बड़ा हथियार है, लेकिन मिशनरीज के पास इन दिनों चंगाई सभाओं जैसा खतरनाक हथियार है। यह सभाएं दरअसल लोगों को भ्रमित करती हैं। जैसे कुछ लोग किसी गांव या शहर में जाकर उन लोगों को तलाशते हैं जो बीमार हैं, दिव्यांग हैं।

वे उनसे कहेंगे कि हमारे ईसा मसीह आपको ठीक कर देंगे। धोखे में लोग वहां चले जाते हैं। उनसे संपर्क में रहने लगते हैं। फिर आस्था का झूठा खेल खेलकर इन भोले लोगों को बरगलाया जाता है। बकायदा उनके सामने कुछ लोगों ठीक करने का नाटक भी किया जाता है। कुछ लोग यही प्रचार करने का काम करते हैं कि उन्हें फलां पादरी ने छुआ तो वे ठीक हो गए। अभी तक केवल गरीब दलितों या फिर आदिवासियों के बीच ही मिशनरीज जाकर उन्हें पैसों का लालच देकर धर्म परिवर्तन करा रहे थे, लेकिन अब तो वे उन्हें आस्था के नाम पर बरगला रहे हैं।

अल्पसंख्यक आबादी में किसका कितना हिस्सा?
साल 2011 की जनगणना के मुताबिक, देश में मुस्लिम कुल आबादी का 14.2%, तो सिख 1.72% थे। जैन 0.4%, जबकि बौद्ध 0.70 हैं। ईसाई आबादी 2.3% है। पियू रिसर्च के आंकड़ों के मुताबिक 2020 में भारत में मुस्लिम आबादी बढ़कर 15.5% हो गई है।

खबरें और भी हैं...