• Hindi News
  • Db original
  • Donald Trump Ahmedabad | US President Donald Trump Namaste Trump Program 24 February Updates On Gujarat Ahmedabad Donald Trump Nagarik Abhivadan Samiti

डोनाल्ड ट्रम्प नागरिक अभिनंदन समिति कार्यक्रम की आयोजक, पर इसकी न वेबसाइट, न कोई अध्यक्ष; खर्च भी सरकार ही कर रही

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • अहमदाबाद में 24 फरवरी को नमस्ते ट्रम्प कार्यक्रम, विदेश मंत्रालय ने कहा- डोनाल्ड ट्रम्प नागरिक अभिनंदन समिति है आयोजक
  • समिति के बारे में न सरकार ने जानकारी दी, न किसी ने कुछ बोला; कार्यक्रम में 100 करोड़ रुपए खर्च होने की बात, जो गुजरात सरकार ही कर रही
  • भास्कर की पड़ताल में खुलासा- आयोजन समिति के सदस्यों को भी नहीं पता कि समिति क्यों बनी

अहमदाबाद. गुजरात के मोटेरा स्टेडियम में 24 फरवरी को "नमस्ते ट्रम्प' कार्यक्रम होगा। इस कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल होंगे। अमेरिका के ह्यूस्टन में 5 महीने पहले हुए ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम की तरह ही इसे भी भव्य बनाने की तैयारी हो रही है। हाउडी मोदी कार्यक्रम को टेक्सास इंडिया फोरम ने आयोजित करवाया था। लेकिन नमस्ते ट्रम्प का आयोजक कौन है? गुरुवार से पहले तक लग रहा था कि इसे केंद्र सरकार ही आयोजित करवा रही है या फिर गुजरात सरकार या हो सकता है कि भाजपा का कार्यक्रम होगा।


विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया था कि 'डोनाल्ड ट्रम्प नागरिक अभिनंदन समिति' कार्यक्रम की आयोजक है। ट्रम्प के भारत दौरे की जानकारी व्हाइट हाउस ने 10 फरवरी को ही दे दी थी। कुछ महीनों पहले से भी अहमदाबाद में ट्रम्प के स्वागत में ऐसा कार्यक्रम होने की बात चल रही थी। लेकिन रवीश कुमार के बयान से पहले तक कभी भी इस समिति के बारे में कोई चर्चा तक नहीं थी। यहां तक कि सरकार ने भी इससे पहले इस समिति के बारे में कोई जानकारी नहीं दी। इसकी न तो कोई वेबसाइट है। न ट्विटर अकाउंट और न ही फेसबुक पेज।

कार्यक्रम पर 100 करोड़ रुपए खर्च होंगे
डोनाल्ड ट्रम्प नागरिक अभिनंदन समिति एक निजी संस्था है और निजी संस्था के कार्यक्रम में सरकारी खर्च क्यों किया जा रहा है? न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रम्प के दौरे पर सरकार 80 से 85 करोड़ रुपए खर्च कर रही है। कुछ खबरों में 100 करोड़ रुपए खर्च की भी बात हो रही है। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी लगातार इस कार्यक्रम को लेकर मीटिंग कर रहे हैं। भास्कर की पड़ताल में पता चला कि आयोजन के खर्च को सरकार के खाते में दिखाने से बचने के लिए समिति बनाई गई। इसके जरिए बड़े काॅर्पाेरेट्स, सरकारी कंपनियां और सहकारी संगठन भी सीएसआर के तहत चंदा दे सकते हैं।

  • डोनाल्ड ट्रम्प नागरिक अभिनंदन समिति के नाम पर बवाल क्यों?

1) समिति है भी, तो इसकी कहीं जानकारी क्यों नहीं?
इंटरनेट पर इस समिति के बारे में कोई जानकारी मौजूद नहीं है। इसकी न कोई वेबसाइट है। न ही कोई ट्विटर अकाउंट और न ही कोई फेसबुक पेज। यहां तक कि इस समिति का अध्यक्ष कौन है? इसके सदस्य कौन-कौन हैं? इस बारे में भी किसी को नहीं पता। न ही सरकार ने इस बारे में कोई जानकारी दी।
अहमदाबाद पश्चिम के सांसद डॉ. किरीट सोलंकी समिति के सदस्य हैं। उन्होंने भास्कर से कहा कि शुक्रवार सुबह ही उन्हें फोन आया तो इसका पता चला। खर्च समिति को उठाना है, इसके लिए फंड कहां से और कैसे आएगा, इस सवाल पर उन्होंने कहा, ऐसा किसने कहा? एक अन्य सदस्य हसमुख पटेल ने कहा कि समिति के काम के बारे में शनिवार को 12 बजे मीटिंग में तय होगा। फंड के बारे मेंं भी मीटिंग में चर्चा होगी।

2) आयोजक समिति है, तो कार्यक्रम के पास एएमसी और कलेक्टर से क्यों मिल रहे?
अहमदाबाद के पुलिस कमिश्नर आशीष भाटिया ने पहले कह चुके हैं कि कार्यक्रम के लिए इन्विटेशन पास अहमदाबाद म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन (एएमसी) या कलेक्टर से ले सकते हैं। अब अगर कार्यक्रम का आयोजक समिति है तो पास एएमसी और कलेक्टर से क्यों मिल रहे हैं?

  • कुछ सवाल, जो विदेश मंत्रालय के बयान के बाद खड़े हो रहे

1) सरकार आयोजक नहीं, तो सरकार ने इसके लिए वेबसाइट क्यों बनाई?
सरकार ने namastepresidenttrump.in वेबसाइट भी बनाई है। इस वेबसाइट को गुजरात सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी ने डेवलप किया है। लेकिन इस वेबसाइट पर "About Us' का पेज ही नहीं है। इस वेबसाइट के नाम से ट्विटर और फेसबुक पर भी अकाउंट बनाया गया है। 

2) समिति आयोजक है, तो पोस्टर-बैनर में उसका जिक्र क्यों नहीं?
अहमदाबाद में ‘नमस्ते ट्रम्प’ कार्यक्रम के मोदी-ट्रम्प की फोटो के साथ 10 हजार पोस्टर, बैनर, होर्डिंग, विज्ञापन लगाए जा चुके हैं। लेकिन किसी भी बैनर या पोस्टर पर डोनाल्ड ट्रम्प नागरिक अभिनंदन समिति का नाम तक नहीं है। अहमदाबाद की मेयर ने शुक्रवार को ट्वीट किया, मैं अभिनंदन समिति की प्रमुख हूं। बाद में उन्होंने मोबाइल स्विच ऑफ कर दिया। कमेटी के कुछ सदस्य बाेले कि उन्हें कुछ पता ही नहीं है। उल्टा वे अपनी भूमिका पूछ रहे थे।

3) स्टेडियम का उद्घाटन क्यों नहीं हो सकता?
स्टेडियम का उद्घाटन करना हाे तो आयोजक के रूप में जीसीए का नाम होगा। अभी तक जीसीए के प्रमुख का चुनाव नहीं हुआ है। ऐसे में ट्रम्प के अभिनंदन पर होने वाला खर्च भी जीसीए के खाते में आ जाता।  

डिप्टी सीएम नितिन पटेल बोले- सरकार का कार्यक्रम में सीधा रोल नहीं
डोनाल्ड ट्रम्प नागरिक अभिनंदन समिति के बारे में जब भास्कर ने गुजरात के डिप्टी सीएम नितिन पटेल से बात की तो उन्होंने कहा- सरकार का इसमें सीधा रोल नहीं है। हमारा काम तो व्यवस्था करना था। मेरा निजी तौर पर मानना है कि यह समिति शहर के नागरिकों की हो सकती है।


इस बारे में और ज्यादा जानने के लिए अहमदाबाद की मेयर बिजल पटेल को 5 बार फोन भी किया, लेकिन उनका फोन रात साढ़े 8 बजे तक बंद आ रहा था। गुजरात भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता भरत पंड्या और प्रशांत वाला का फोन भी बंद था। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, मेयर बिजल पटेल और अहमदाबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के कमिश्नर विजय नेहरा को ट्वीट कर भी इस बारे में जानने की कोशिश की, लेकिन उनकी ओर से भी कोई जवाब नहीं आया।

शनिवार को बैठक भी हुई
डोनाल्ड ट्रम्प नागरिक अभिनंदन समिति की शनिवार को बैठक भी हुई। इसमें गुजरात यूनिवर्सिटी के कुलपति हिमांशु पंड्या, पद्मभूषण से सम्मानित बीवी दोषी, चेम्बर ऑफ कामर्स के दुर्गेश बुच पहुंचे। समिति में पद्मश्री प्राप्त 8 लोगों को भी शामिल करने की चर्चा है।