पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Db original
  • Ranipur (Jhansi) Update | Ground Report From Uttar Pradesh Bunkar Village Ranipur; All You Need To Know

बंबई से बनारस: तेरहवीं रिपोर्ट:वे जंग लगी लूम की मशीनें देखते हैं, कूड़े में कुछ उलझे धागों के गुच्छे हैं; कहते हैं, कभी हम सेठ थे, फिर मजदूर हुए, अब गांव लौटकर जाने क्या होंगे

झांसी5 महीने पहलेलेखक: विनोद यादव और मनीषा भल्ला
  • कॉपी लिंक
श्याम लाल और दिनेश आर्य हरिद्वार से गांव रानीपुर लौटे हैं। घर में पुरानी जंग लगी लूम की मशीने रखी हुई हैं। पहले रानीपुर के घर-घर में बुनकर हुआ करते थे। रानीपुर टैरीकॉट के नाम से यहां का कपड़ा देशभर में फैमस था।
  • बुनकरों का यह गांव ‘रानीपुर टैरीकॉट’ के नाम से पूरी दुनिया में मशहूर था, इसे झांसी का छोटा मनचेस्टर कहते थे, जैसे-जैसे सूरत चमकता गया इनका काम बंद होता गया
  • आसपास के गांवों में इन बुनकरों की संख्या 80,000 है, सभी के सभी यहां से पलायन कर चुके थे अब 20 साल बाद ज्यादातर वापस लौट रहे हैं

दैनिक भास्कर के जर्नलिस्ट बंबई से बनारस के सफर पर निकले हैं। उन्हीं रास्तों पर जहां से लाखों लोग अपने-अपने गांवों की ओर चल पड़े हैं। नंगे पैर, पैदल, साइकिल, ट्रकों पर और गाड़ियों में भरकर। हर हाल में वे घर जाना चाहते हैं, आखिर मुश्किल वक्त में हम घर ही तो जाते हैं। हम उन्हीं रास्तों की जिंदा कहानियां आप तक ला रहे हैं। पढ़ते रहिए...

13वीं रिपोर्ट, बुनकरों के गांव से:

श्याम लाल और दिनेश आर्य घर में रखी जंग लगी लूम की मशीने खोल-खोल कर देख रहे हैं। एक ओर कूड़े में धागों के उलझे गुच्छे हैं। दोनों आज हरिद्वार से गांव रानीपुर लौटे हैं। पुराने दिन याद करते हुए कहते हैं, ‘कभी हम सेठ हुआ करते थे, फिर मजदूर हो गए, अब गांव लौटे हैं, पता नहीं अब क्या होंगे।’ खेती के लिए इनके पास जमीनें नहीं हैं। लूम का काम खत्म हो चुका है। फिलहाल गांव में मजदूरी भी नहीं है।

आज रानीपुर गांव के लोगों के पास न तो धागा है और न ही मशीनें।
आज रानीपुर गांव के लोगों के पास न तो धागा है और न ही मशीनें।

दिनेश और श्यामलाल गांव के दस लोगों के साथ आज ही तीस हजार रुपए में टेंपो ट्रैवलर से गांव लौटे हैं। 12 लोगों के लिए हर एक सवारी ने 2500 रुपए दिए। ये लोग वहां मोती-माला की दुकानों पर काम किया करते थे। हैरानी की बात यह है कि एक जमाने में ये लोग यहां के संपन्न लोग हुआ करते थे। मजबूरी ऐसी रही कि पुश्तैनी लूम का काम छोड़कर ये लोग धीरे-धीरे पलायन करने लगे। सूरत और चीन के सामान की वजह से यहां के माल की मांग कम होती चली गई। नेताओं और सरकारों ने कभी इस ओर ध्यान नहीं दिया। सरकारी अनदेखी के चलते दुनिया में मशहूर यहां का कारोबार बर्बाद हो गया।

बंद पड़ीं लूम अपनी कारोबार खत्म होने की कहानी खुद बयां करती है।
बंद पड़ीं लूम अपनी कारोबार खत्म होने की कहानी खुद बयां करती है।

दिनेश आर्य का कहना है, ‘इसे झांसी का छोटा मेनचेस्टर कहते थे। बुनकरों का यह गांव ‘रानीपुर टैरीकॉट’ के नाम से पूरी दुनिया में मशहूर था। हमारे बनाए कालीन, कपड़े, तौलिए, गमछे यहां से मंडी में जाते थे, जिसे देशभर के होलसेलर खरीदा करते थे। लेकिन जैसे-जैसे गुजरात का सूरत शहर चमकता गया हमारा काम ठंडा होता चला गया। धागा महंगा हो गया। हमें घाटा होने लगा, सरकारों ने हमारी मदद नहीं की, हमारा सामान होलसेलरों ने खरीदना बंद कर दिया। धीरे-धीरे लूम को जंग लगने लगी।’

लोग गांव तो लौट आए हैं, लेकिन कपड़ा बाजार खत्म हो चुका है।
लोग गांव तो लौट आए हैं, लेकिन कपड़ा बाजार खत्म हो चुका है।

1999 तक लूम पर बने कपड़े में इस इलाके का देशभर में जलवा रहा लेकिन फिर धीरे धीरे लोगों ने लूम का काम छोड़ दिया। बुनकर मज़दूर बन गए। सूरत समेत दूसरे शहरों की ओर पलायन कर मजदूरी करने लगे। श्यामलाल का कहना है कि अब हम 2000 के बाद गांव लौटे हैं, लेकिन न तो हम बुनकर रहे और न मजदूर। खेती के नाम पर किसी के पास जमीन नहीं है। इसलिए अभी पता ही नहीं है कि हम लोग क्या करेंगे।

श्यामलाल का कहना है कि अगर हम कपड़ा बुनना शुरू भी करें तो हमारा कपड़ा बिकता ही नहीं है, किसे और कहां बेचे और न ही अब रानीपुर के कप़ड़े की मांग है। धर्मेंद्र का कहना है कि टर्नओवर की जहां तक बात है तो करोड़ों में था। यहां तक कि बुनकर समाज के बिहारीलाल मंत्री भी रह चुके हैं। रानीपुर समेत आसपास के गांवों में इन बुनकरों की संख्या 80,000 है। सभी के सभी यहां से पलायन कर चुके थे। लौट तो आए हैं लेकिन बुनाई का काम बंद है। यहां का कपड़ा बाज़ार खत्म हो चुका है।

बंबई से बनारस तक मजदूरों के साथ भास्कर रिपोर्टरों के इस 1500 किमी के सफर की बाकी खबरें यहां पढ़ें:

बंबई से बनारस Live तस्वीरें / नंगे पैर, पैदल, साइकिल से, ट्रकों पर और गाड़ियों में भरकर अपने घर को चल पड़े लोगों की कहानियां कहतीं चुनिंदा तस्वीरें

पहली खबर: 40° तापमान में कतार में खड़ा रहना मुश्किल हुआ तो बैग को लाइन में लगाया, सुबह चार बजे से बस के लिए लाइन में लगे 1500 मजदूर

दूसरी खबर: 2800 किमी दूर असम के लिए साइकिल पर निकले, हर दिन 90 किमी नापते हैं, महीनेभर में पहुंचेंगे

तीसरी खबर: मुंबई से 200 किमी दूर आकर ड्राइवर ने कहा और पैसे दो, मना किया तो गाड़ी किनारे खड़ी कर सो गया, दोपहर से इंतजार कर रहे हैं

चौथी खबर: यूपी-बिहार के लोगों को बसों में भरकर मप्र बॉर्डर पर डंप कर रही महाराष्ट्र सरकार, यहां पूरी रात एक मंदिर में जमा थे 6000 से ज्यादा मजदूर

पांचवीं खबर: हजारों की भीड़ में बैठी प्रवीण को नवां महीना लग चुका है और कभी भी बच्चा हो सकता है, सुबह से पानी तक नहीं पिया है ताकि पेशाब न आए

छठी खबर: कुछ किमी कम चलना पड़े इसलिए रफीक सुबह नमाज के बाद हाईवे पर आकर खड़े हो जाते हैं और पैदल चलने वालों को आसान रास्ता दिखाते हैं

सातवीं खबर: 60% ऑटो-टैक्सी वाले गांव के लिए निकल गए हैं, हम सब अब छह-आठ महीना तो नहीं लौटेंगे, कभी नहीं लौटते लेकिन लोन जो भरना है

आठवीं खबर: मप्र के बाद नजर नहीं आ रहे पैदल मजदूर; जिस रक्सा बॉर्डर से दाखिल होने से रोका, वहीं से अब रोज 400 बसों में भर कर लोगों को जिलों तक भेज रहे हैं

नौवीं खबर: बस हम मां को यह बताने जा रहे हैं कि हमें कोरोना नहीं हुआ है, मां को शक्ल दिखाकर, फिर वापस लौट आएंगे

दसवीं खबर: रास्ते में खड़ी गाड़ी देखी तो पुलिस वाले आए, पूछा-पंचर तो नहीं हुआ, वरना दुकान खुलवा देते हैं, फिर मास्क लगाने और गाड़ी धीमी चलाने की हिदायत दी

ग्यारहवीं खबर: पानीपत से झांसी पहुंचे दामोदर कहते हैं- मैं गांव आया तो जरूर, पर पत्नी की लाश लेकर, आना इसलिए आसान था, क्योंकि मेरे साथ लाश थी

बारहवीं खबर : गांव में लोग हमसे डर रहे हैं, कोई हमारे पास नहीं आ रहा, जबकि हमारा टेस्ट हो चुका है और हमें कोरोना नहीं है, फिर भी गांववालों ने हउआ बनाया

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ग्रह स्थितियां बेहतरीन बनी हुई है। मानसिक शांति रहेगी। आप अपने आत्मविश्वास और मनोबल के सहारे किसी विशेष लक्ष्य को प्राप्त करने में समर्थ रहेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से मुलाकात भी आपकी ...

और पढ़ें