--Advertisement--

योजना / सीमाओं की रखवाली के लिए 14 हजार गांवों को बना रहे हैं स्मार्ट



सिंबोलिक इमेज सिंबोलिक इमेज
X
सिंबोलिक इमेजसिंबोलिक इमेज

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2018, 04:01 AM IST

मुकेश कौशिक, नई दिल्ली. देश में बन रहीं 100 स्मार्ट सिटीज़ की चर्चा खूब रहती है। लेकिन अब अंतरराष्ट्रीय सीमा को चाक चौबंद करने के लिए करीब 14 हजार गांवों को स्मार्ट बनाने का काम शुरू हो गया है। इस योजना के तहत पूरे देश में जहां भी अंतरराष्ट्रीय सीमा है, उसके दस किलोमीटर के दायरे में पड़ने वाले गांवों की तस्वीर बदली जा रही है।

 

गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि योजना का मकसद यह सुनिश्चित करना है कि सीमा का कोई भी गांव ऐसा न रहे जहां रोड, कनेक्टिविटी, बिजली-पानी आदि की  कोई परेशानी हो। यह सब इसलिए किया जा रहा है ताकि यहां से पलायन रुके। अक्सर बुनियादी सुविधाओं के अभाव में लोगों के शहरों की ओर चले जाने से सीमावर्ती इलाके खाली हो रहे हैं जिसकी वजह से सुरक्षा बलों के लिए रहने वाला सपोर्ट सिस्टम खत्म हो रहा है।

 

 

इस परियोजना के लिए अभी तक केंद्र की ओर से जारी किए गए 126 करोड़ रुपये की लागत से सात राज्यों में 61 विलेज विकसित भी हो चुके हैं। इनकी समीक्षा की जानी है। यह काम गृह मंत्रालय बार्डर एरिया डवलपमेंट प्रोग्राम के तहत किया जा रहा है। ये गांव जम्मू कश्मीर, पंजाब, राजस्थान, गुजरात, बिहार, उत्तराखंड और पूर्वोत्तर के सातों राज्यों के हैं। गृह मंत्रालय के अनुसार इन स्मार्ट विलेज का चयन करते समय यह देखा गया कि वहां बड़ी आबादी रहती हो और उसके दायरे में पांच से छह छोटे गांव आते हैं।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..