जेएनयू हिंसा / एक्टिविस्ट छात्रों ने दहशत फैलाई, उनके पीछे शिक्षकों का गुट: वीसी

जेएनयू के कुलपति एम जगदेश कुमार ने 5 जनवरी को हुई हिंसा के बाद शनिवार को छात्रों के साथ बैठक की। जेएनयू के कुलपति एम जगदेश कुमार ने 5 जनवरी को हुई हिंसा के बाद शनिवार को छात्रों के साथ बैठक की।
X
जेएनयू के कुलपति एम जगदेश कुमार ने 5 जनवरी को हुई हिंसा के बाद शनिवार को छात्रों के साथ बैठक की।जेएनयू के कुलपति एम जगदेश कुमार ने 5 जनवरी को हुई हिंसा के बाद शनिवार को छात्रों के साथ बैठक की।

  • वीसी एम. जगदेश ने छात्रों के साथ की बैठक, बोले- बाहरी छात्र अवैध रूप से हॉस्टल में रह रहे, हिंसा में उनका हाथ संभव 

Dainik Bhaskar

Jan 12, 2020, 04:28 AM IST

नई दिल्ली . जेएनयू के कुलपति एम जगदेश कुमार ने 5 जनवरी को हुई हिंसा के बाद शनिवार को छात्रों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि कुछ एक्टिविस्ट छात्रों ने इस हद तक दहशत फैलाई कि कई छात्रों को हॉस्टल तक छोड़ना पड़ा। इन एक्टिविस्ट छात्रों को शिक्षकों का ही एक गुट शह दे रहा है, जो माहौल खराब करना चाहता है। कुलपति ने यह भी कहा कि कई बाहरी छात्र अवैध ढंग से हॉस्टल में रह रहे हैं। हिंसा में उन्हीं का हाथ हो सकता है।

कुलपति ने कहा कि हमने छात्रों की सुरक्षा बढ़ा दी है। जो छात्र घर चले गए हैं, वह यूनिवर्सिटी लौट आएं। यहां 13 जनवरी से कक्षाएं शुरू हो जाएंगी। वहीं दूसरी आेर हिंसा के मामले की जांच के लिए पांच सदस्यीय समिति का गठन किया गया है। जेएनयू प्रशासन ने कहा है कि हिंसा के बाद बाहरी और अनधिकृत छात्रों के प्रवेश पर रोक लगाने के लिए सुरक्षा ऑडिट किया जा रहा है। 

हिंसा पर दिल्ली पुलिस ने वॉट्सएप ग्रुप से 37 लोगों की पहचान की

विशेष जांच दल ने 37 लोगों की पहचान की है। सूत्रों के मुताबिक 60 लोगों के एक वॉट्सएप ग्रुप से इन लोगों की पहचान की गई है। यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट नाम के इस ग्रुप में शामिल इन लोगों का भी जेएनयू हिंसा में हाथ माना जा रहा है। इससे पहले पुलिस ने जिन 9 लोगों के नाम लिए थे, उनमें विश्वविद्यालय छात्र संगठन की अध्यक्ष आइशी घोष भी शामिल हैं। आइशी ने विरोध जताते हुए पुलिस पर पूर्वाग्रह से काम करने का आरोप लगाया है।
 

जेएनयू पर बोले गावसकर, देश मुश्किल में, लेकिन उबर जाएगा
भारत के महान बल्लेबाज सुनील गावसकर ने शनिवार को भरोसा जताया कि देश भर में छात्रों के विरोध प्रदर्शन से बने मौजूदा ‘मुश्किल’ हालात से भारत उबर जाएगा, जैसे अतीत में वह कई संकट की स्थितियों से निपटने में सफल रहा है। पिछले कुछ हफ्तों में देश भर में छात्रों का विरोध प्रदर्शन देखने को मिला है। गावसकर ने यह बातें 26वें लाल बहादुर शास्त्री स्मृति व्याख्यान के दौरान कही। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना