रिजल्ट एनालिसिस / लोकसभा के मुकाबले भाजपा ने 16% जनाधार खोया, आप ने 36% लोग जोड़े

BJP lost 16% of the base as compared to Lok Sabha, AAP added 36%
BJP lost 16% of the base as compared to Lok Sabha, AAP added 36%
X
BJP lost 16% of the base as compared to Lok Sabha, AAP added 36%
BJP lost 16% of the base as compared to Lok Sabha, AAP added 36%

  • 2015 के मुकाबले भाजपा का जनाधार 6% से ज्यादा बढ़ा पर सीटें नहीं, कांग्रेस सिर्फ 7 सीटों पर जमानत बचा पाई 
  • पटेल नगर सुरक्षित सीट के उम्मीवार राजकुमार आनंद के खाते में आए

दैनिक भास्कर

Feb 12, 2020, 07:46 AM IST

नई दिल्ली सीट से आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने तीसरी बार चुनाव लड़कर जीत हासिल की। उन्हें 61 प्रतीशत वोट मिले। दूसरे नंबर पर रहे सुनील यादव को 32 प्रतिशत वोट मिले, जबकि कांग्रेसी उम्मीदवार रोमेश सब्बरवाल 4 प्रतिशत। यह सीट इसलिए खास बन गई थी क्योंकि वहां सबसे ज्यादा 28 प्रत्याशी चुनाव में खड़े हुए थे। इस सीट पर कुल 76530 में से 395 वोट नोटा को भी पड़े।  साल 2013 में पहली बार चुनाव लड़े अरविंद केजरीवाल ने पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को 18405 मतों से हराया था। तब उन्हें 44269 वोट मिले। जबकि वर्ष 2015 में दूसरी बार में उन्हें 64 प्रतिशत 57213 वोट मिले थे। इस बार पिछली बार के मुकाबले उनके वोट शेयर में तीन फीसदी की गिरावट आई है।

इस संसदीय सीट पर सबसे ज्यादा वोट पटेल नगर सुरक्षित सीट के उम्मीवार राजकुमार आनंद के खाते में आए। बगावत कर एनसीपी से लड़े सुरेन्द्र को केवल 908 वोट आए। प्रतिशत के लिहाज से सबसे ज्यादा मत करोलबाग सुरक्षित सीट से विशेष रवि को पड़े। जीतने वाले अन्य आप उम्मीदवारों में ग्रेटर कैलाश से सौरभ भारद्वाज, कस्तूरबा नगर से मदनलाल, मालवीय नगर से सोमनाथ भारती, राजिन्द्र नगर से राघव चढ्‌ढा, आरके पुरम से प्रमिला टोकस और मोती नगर से शिव चरण गोयल शामिल हैं। इनमें राघव चढ़ढा को छोड़ बाकी पहले भी विजयी रह चुके हैं।

मटिया महल सीट शोएब ने 50 हजार वोटों से जीत ली

चांदनी चौक लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वाली 10 विधानसभाओं में से 7 पर बीजेपी ने जीत दर्ज की थी। मगर विधानसभा चुनाव में इन बंपर जीत वाली सीटें भी आप की लहर के सामने ध्वस्त हो गईं। लोकसभा चुनाव में शालीमार बाग विधानसभा में बीजेपी प्रत्याशी डॉ हर्षवर्धन को सबसे ज्यादा 72,278 वोट मिले थे। तलोकसभा चुनाव के मुकाबले दिल्ली विधानसभा चुनाव की बात की जाए तो शालीमार बाग में बीजेपी उम्मीदवार को 54267 वोट ही मिले और वह आम आदमी पार्टी की प्रत्याशी से 3440 वोट से हार गईं। यह सीट 2015 के विधानसभा चुनाव में भी आम आदमी पार्टी जीती थी। इसके अलावा त्रिनगर विधानसभा भी बीजेपी 10710 वोट से हार गई। आम आदमी पार्टी की प्रीति तोमर बीजेपी के तिलकराम गुप्ता से 10710 वोट से जीतीं। प्रीति यहां से विधायक जितेंद्र तोमर की पत्नी हैं। साल 2015 में जितेंद्र तोमर 22311 वोट से जीते थे। मटिया महल विधानसभा सीट पर जीत का अंतर सबसे ज्यादा रहा। यहां आम आदमी पार्टी के शोएब इकबाल ने बीजेपी के रविंद्र गुप्ता को 50241 वोट से हरा दिया।

लोकसभा सीट पर मिले वोट

पार्टी  
 
 2020      2019     2015
कांग्रेस     49248      290910      117609
बीजेपी    
 
388091     519055     35154
आप    573797    

144551    

56025

पटपड़गंज सीट ने थाम दी सांसें, अंत में सिसोदिया जीते

पूर्वी दिल्ली संसदीय क्षेत्र की सबसे महत्वपूर्ण सीट पटपड़गंज पर आप के तीसरी बार प्रत्याशी और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को भाजपा प्रत्याशी ने कड़ी टक्कर दी। सिसोदिया ने भाजपा के रविंद्रर नेगी को 3209 वोट से हराया। जबकि पिछले चुनाव में यह अंतर करीब 28716 वोट का था। इस सीट पर आप को टक्कर मिलने का कारण पहाड़ी वोटर का एक तरफ भाजपा को वोट करना और अंतिम समय में भाजपा के राष्ट्रवाद का प्रभाव से वोट पड़ना है। वहीं, शाहीन बाग प्रदर्शन वाली ओखला सीट पर आम आदमी पार्टी के अमानतुल्ला खान को आसान जीत मिली। यहां पर भाजपा के उन पर हमले ने मुस्लिम मतदाताओं ने खुलकर उनके पक्ष में मतदान किया। अमानतुल्ला खान ने भाजपा प्रत्याशी को 72468 वोट से हराया। वहीं, गांधी नगर सीट पर आप के पूर्व विधायक और भाजपा प्रत्याशी ने अनिल बाजपेयी ने आप के नवीन चौधरी को 6079 वोट से शिकस्त दी। इनकी जीत के पीछे कांग्रेस के अरविंद लवली के अच्छा वोट लेना है। वहीं, आप के सीट बदलने पर कोंडली से कुलदीप कुमार और त्रिलोकपुरी से रोहित कुमार ने जीत दर्ज की है। जंंगपुरा से आप के प्रवीण कुमार ने भाजपा प्रत्याशी को 16063 वोट से हराया। लक्ष्मी नगर से भाजपा प्रत्याशी अभय वर्मा ने लक्ष्मी नगर से आप प्रत्याशी नितिन त्यागी को 880 वोट से आश्चर्य जनक जीत दर्ज की है।

लोस में जो सीट भाजपा ने 1 लाख से जीती, वहां भी हार

पश्चिमी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली मटियाला विधानसभा बीजेपी 28 हजार से ज्यादा वोट से हार गई है। यहां आम आदमी पार्टी के गुलाब सिंह ने बीजेपी के राजेश गहलौत को हराया है। साल 2019 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी ने यह विधानसभा एक से ज्यादा वोट के अंतर से जीती थी। पश्चिमी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी के प्रवेश वर्मा को चुनाव में मटियाला विधानसभा में सबसे ज्यादा 149366 वोट मिले थे। यहां दूसरे नंबर पर कांग्रेस के महाबल मिश्रा थे। उन्हें 44596 वोट मिले। इस तरह बीजेपी यह सीट 104770 वोट से जीती। आम आदमी पार्टी यहां तीसरे नंबर पर रही थी। इसी लोकसभा क्षेत्र में एक अन्य विधानसभा सीट विकासपुरी ऐसी थी जहां बीजेपी 83165 वोट से जीती थी। लोकसभा क्षेत्र की यह दोनों विधानसभा सीटें ही बीजेपी हार गई। मटियाला सीट बीजेपी 28075 वोट से हारी है। आम आदमी पार्टी के गुलाब सिंह ने बीजेपी के राजेश गहलौत को हराया है। विधानसभा चुनाव में इस लोकसभा सीट पर सबसे ज्यादा अंतर से विकासपुरी में जीत दर्ज हुई है।

लोकसभा सीट पर मिले वोट

पार्टी    
 
2020      2019      2015
कांग्रेस     49302      287162      123910
बीजेपी    
 
618622     865648     475250
आप     838401     251873    797177

कांग्रेस-राजग गठबंधन को सिर्फ 59313 वोट मिले

उत्तर पूर्वी दिल्ली संसदीय सीट पर आम आदमी पार्टी ने सात सीटें जीती हैं जबकि घौंडा, करावल नगर और रोहताश नगर में भाजपा का कमल खिला। भाजपा ने इस सीट पर विधानसभा 2015 के मुकाबले भाजपा ने 1,43,587 वोट भी विस चुनाव 2020 में बढ़ाए। यहां की 10 सीटों पर जिसमें एलजेपी को दी गई सीमापुरी और जेडीयू को दी गई बुराड़ी सीट के नंबर जोड़ लें तो 6,17, 612 वोट मिले हैं। हालांकि लोकसभा चुनाव 2019 के मुकाबले 98,464 वोट बढ़े भी हैं। प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी इस सीट से सांसद हैं। ोहताश नगर से जीते जितेंद्र महाजन 2013 में पहली बार विधायक बने थे। उत्तर पूर्वी दिल्ली सीट पर आम आदमी पार्टी ही नहीं बल्कि सबसे अधिक मार्जिन से जीत दर्ज करने का नाम बुराड़ी से आप प्रत्याशी संजीव झा के नाम है जिन्होंने 62.81 फीसदी के साथ 1,39,368 वोट लिए और 88158 वोट से जेडीयू प्रत्याशी शैलेंद्र कुमार को हराया। इसी तरह भाजपा के टिकट पर घोंडा से विधायक बने अजय महावर ने 28370 वोट से जीत दर्ज की। ये भाजपा के भी 8 प्रत्याशियों में सबसे बड़ी जीत है। उत्तर पूर्वी से लोस 2019 में पूर्व सीएम शीला दीक्षित चुनाव लड़ी थीं जो अब नहीं रही। लेकिन कांग्रेस ने उनके नाम पर चुनाव लड़ा और इस सीट की एक आरजेडी सहित 10 सीटों पर कांग्रेस को सिर्फ 59313 वोट मिले।

सांसद रमेश बिधूड़ी भतीजे को भी नहीं दिला सके जीत

दक्षिण दिल्ली सीट पर भाजपा से सांसद रमेश विधूड़ी दूसरी बार भी अपने भतीजे विक्रम विधूड़ी को जीत दिलाने में कामयाब नहीं हो सके। तुगलकाबाद विधानसभा सीट उनका गढ़ या कहें घर की सीट मानी जाती रही है, लेकिन इस भी उन्हें निराशा ही हाथ लगी। लगातार दूसरी बार आप प्रत्याशी सही राम पहलवान ने विक्रम विधूड़ी को पराजित कर दिया। इस संसदीय सीट पर आप के दस प्रत्याशियों में नौ को जीत हासिल हुई, वहीं हाल ही में आप में शामिल हुए बदरपुर विधानसभा चुनाव से लड़े रामसिंह नेताजी को हार का सामना करना पड़ा। उन्हें पुराने विरोधी भाजपा के रामवीर सिंह िवधूड़ी ने 3719 वोट से पराजित किया। उनका खेल बिगाड़ने में आप के बागी उम्मीवार नारायण दत शर्मा का बड़ा हाथ रहा। वह टिकट नहीं मिलने से नाराज होकर बसपा सीट पर चुनावी दंगल में उतर गए थे। इस लोकसभा सीट से एक खास चेहरा कालकाजी जी से चुनाव लड़ी आतिशी का था, जिन्हाेंने भाजपा प्रत्याशी धर्मबीर सिंह और प्रदेश अध्यक्ष कांग्रेस सुभाष चोपडा की बेटी शिवानी चोपड़ा को भारी मतों से हरा दिया। देवली प्रत्याशी प्रकाश जारवाल इस सीट पर सबसे ज्यादा वोट 92575 ले सके। वहीं पहली बार कांग्रेस के साथ गठबंधन कर आरजेडी ने इस सीट पर निर्मल कुमार सिंह को मैदान में उतारा था, जिन्हें केवल 547 वोट ही मिल सके।

आप के खाते में 9 सीटें, बस रोहिणी सीट भाजपा के पास

नार्थ-वेस्ट की दस में से 9 सीटों पर दूसरी बार कब्जा कर लिया है। इनमें से केवल रोहिणी की सीट पर बीजेपी के प्रत्याशी विजेंद्र गुप्ता विजयी रहे। 2015 में भी बीजेपी ने रोहिणी की यह सीट जीती थी। आप ने प्रत्याशी बदलकर सीट पर कब्जा करने की कोशिश की थी, जीतने में सफल नहीं हो सका। आप पार्टी ने इन दस सीटों पर जीत सुनिश्चित करने के लिए बवाना, मुंडका, सुलतानपुर माजरा, और रोहिणी से अपने 4 नए प्रत्याशियों पर भरोसा जताया था। लेकिन रोहणी सीट के राजेश नामा बंसीवाल को छोड़कर सभी ने जीत हासिल की। एक अन्य महत्वपूर्ण सीट मंगोलपुरी की है, जहां से दूसरी बार राखी बिडलान ने जीत हासिल की है। राखी पिछली विधानसभा में डिप्टी स्पीकर रही थीं। 2020 में आम आदमी पार्टी को नार्थ वेस्ट की इन नौ सीटों पर कुल 788,316 वोट मिले है, जबकि बीजेपी को 613,936 और कांग्रेस को 78,998 मत मिले है। आम आदमी पार्टी और बीजेपी में वोटों का अंतर केवल 174, 318 का रहा है। जबकि 2015 हुए विधानसभा चुनावों में आप और बीजेपी में यह अंतर 654, 085 था। 

लोकसभा सीट पर मिले वोट

पार्टी    
 
2020     2019      2015
कांग्रेस     78,998      236882      37419
बीजेपी  
 
 613,936     848663     1496246
आप     788,316    294766     842161

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना