खुलासा / डीटीयू के छात्र ने अपनी प्रेमिका से बात करने पर अंकित को मारा था



आरोपी आकाश। आरोपी आकाश।
X
आरोपी आकाश।आरोपी आकाश।

  • महेंद्रा पार्क में कोचिंग सेंटर टीचर मर्डर केस सुलझा
  • 7 महीने से जुटा रहा था हत्या करने की हिम्मत

Dainik Bhaskar

Oct 06, 2018, 05:15 AM IST

नई दिल्ली. महेंद्रा पार्क पुलिस और स्पेशल स्टाफ ने कोचिंग सेंटर टीचर अंकित सागर की हत्या की गुत्थी को सुलझा ली है। इस मामले में शुक्रवार को दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी में बी-टेक फाइनल इयर के एक छात्र को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने आरोपी आकाश कश्यप (21) के पास से एक टोपी, मास्क, बैग और देसी कट्टा बरामद किया है।

 

पुलिस अधिकारी की मानें तो मृतक अंकित और आरोपी आकाश की प्रेमिका के बीच अच्छी दोस्ती थी। लेकिन, 2 साल पहले दोनों के बीच सब कुछ खत्म हो गया। इसके बाद भी अंकित उससे बात करता था। इस पर आरोपी को लगा कि वह उसकी प्रेमिका को परेशान करता है।

 

आरोपी मार्च से टीचर अंकित को मारने की योजना बना रहा था और मौका पाते ही उसने 1 अक्टूबर को अंकित की गोली मारकर हत्या कर दी।  डीसीपी असलम खान ने बताया कि 1 अक्टूबर को पुलिस को सूचना मिली थी कि जहांगीरपुरी में अंकित सागर नामक एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई है।

 

पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर एसीपी, शालीमार बाग अशोक बिश्नोई की देखरेख में एक टीम का गठन किया। महेंद्रा पार्क  एसएचओ धनंजय गुप्ता की टीम ने सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली।

 

पुलिस सूत्रों ने बताया कि हत्यारोपी तक पहुंचने के लिए मृतक का एफबी अकाउंट खंगाला गया। पता चला कि अंकित करीब 20 लड़कियों से बात करता था। अब सवाल यह था कि अंकित की हत्या किस युवती से जुड़े शख्स ने की है। इसके बाद पुलिस ने अपनी जांच का केंद्र सीसीटीवी फुटेज को बनाया। एक फुटेज में वारदात की जगह के पास से आकाश महिलाओं से नजर बचाता निकलता दिखाई दिया।

 

पूछताछ में आरोपी आकाश ने बताया कि मार्च से वह अंकित को मारने की कोशिश कर रहा था। लेकिन, इसके लिए वह हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था। 7 माह बाद 1 अक्टूबर की सुबह 8.15 पर अंकित को कोचिंग सेंटर में जाकर गोली मार दी। पुलिस को आरोपी का कोई क्रिमिनल रिकॉर्ड भी नहीं मिला है।

 

अंकित सागर की हत्या के बाद उसके परिजनों ने बताया था कि वह दूसरे समुदाय की एक लड़की से 8 साल से प्रेम में था। उन्होंने लड़की के भाई पर हत्या का शक भी जताया था। बाद में पुलिस ने लड़की के भाई से पूछताछ भी की, लेकिन उसका हाथ नहीं पाया गया।

 

आकाश मार्च में होली के दौरान अपने बागपत स्थित गांव गया था। वहां से 2000 रुपए में देसी कट्टा खरीदा कर लाया था। वारदात से पहले आकाश ने अंकित के सेंटर की कई बार रेकी भी की थी। पुलिस ने आकाश का नंबर सर्विलांस पर लगा दिया था। गुरुवार रात उसकी पोजीशन जहांगीरपुरी में पाई गई। पुलिस जब उसे पकड़ने गई तो वह भागने लगा लेकिन दबोच लिया गया।

COMMENT