पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

देशभर में डाॅक्टर हड़ताल पर रहे, भटकते रहे परेशान मरीज; दिल्ली में 50 हजार प्रभावित

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • ममता ने अस्पतालाें में पुलिस का नाेडल अधिकारी तैनात करने का निर्देश दिया
Advertisement
Advertisement

कोलकाता/नई दिल्ली . पश्चिम बंगाल के डाॅक्टराें के समर्थन में साेमवार काे देशभर में डाॅक्टर हड़ताल पर रहे। इसके चलते स्वास्थ्य सेवाएं बुरी तरह प्रभावित रहीं। ज्यादातर अस्पतालाें के बाहर दूर-दराज से अाए मरीज अाैर तीमारदार राेते-बिलखते अाैर मदद की गुहार लगाते दिखे। दिल्ली डॉक्टरों की हड़ताल से सबसे ज्यादा प्रभावित हुई। यहां करीब 50 हजार मरीज इलाज के लिए भटकते रहे। इंडियन मेडिकल एसाेसिएशन (अाईएमए) का दावा है कि करीब तीन लाख डाॅक्टर इस हड़ताल में शामिल हुए। 

 

दूसरी तरफ, शाम काे पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हड़ताल पर बैठे जूनियर डाॅक्टराें के साथ बैठक की। इसके बाद डाॅक्टराें ने हड़ताल खत्म करने का एेलान कर दिया। उल्लेखनीय है कि कोलकाता में दो जूनियर डॉक्‍टरों की पिटाई के बाद 11 जून से डॉक्टर हड़ताल पर थे। इनके समर्थन में देशभर के डाॅक्टर लामबंद हाे गए थे।

 

दिल्ली: 1300 से ज्यादा सर्जरी टलीं, डॉक्टर से कहासुनी के बाद एम्स में भी हड़ताल, 4 दिन बाद आज मिलेगा इलाज 

 

कोलकाता के मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर्स से मारपीट और वहां के डॉक्टर्स की हड़ताल के समर्थन में सोमवार को दिल्ली के तमाम प्राइवेट-सरकारी अस्पतालों में डॉक्टर्स हड़ताल पर रहे। इसके चलते मरीजों को परेशानी का सामना पड़ा। हड़ताल के चलते 1300 से ज्यादा सर्जरी टल गईं और 50 हजार से ज्यादा मरीजों को इलाज नहीं मिल पाया।  एम्स, सफदरजंग समेत दिल्ली के करीब 25 सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित रहीं। एम्स पहले सोमवार की हड़ताल से बाहर था, लेकिन रविवार रात एम्स ट्रामा सेंटर मेंे मरीज के परिजन और डॉक्टर के बीच झगड़ा होनेे के चलते एम्स भी इस हड़ताल में शामिल हो गया। 

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप अपनी रोजमर्रा की व्यस्त दिनचर्या में से कुछ समय सुकून और मौजमस्ती के लिए भी निकालेंगे। मित्रों व रिश्तेदारों के साथ समय व्यतीत होगा। घर की साज-सज्जा संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत हो...

और पढ़ें

Advertisement