--Advertisement--

विश्व आॅर्थराइटिस दिवस आज / देश में हर छठा व्यक्ति आॅर्थराइटिस से परेशान, युवाओं के भी घुटनों में होनेे लगा दर्द



Every sixth person in the country is disturbed with arthritis
X
Every sixth person in the country is disturbed with arthritis
  • खराब दिनचर्या, खानपान, टेंशन, मोटापा व आनुवांशिकी भी बीमारी की वजह
  • जोड़ों में दर्द को आयुर्वेद से आसानी से 6 से 8 महीने के इलाज से दूर किया जा सकता है

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 07:33 AM IST

नोएडा. अब युवाओं में भी ऑर्थराइटिस की दिक्कत सामने आ रही है। खासकर 25 से 35 साल की आयु वर्ग के युवकों में घुटने में परेशानी होने की बात आ रही है। जिसके लिए खराब दिनचर्या, खानपान, टेंशन, मोटापा और आनुवांशिकी मुख्य वजह है। विश्व ऑर्थराइटिस दिवस को लेकर गुरुवार को नोएडा सेक्टर-62 में हुए कार्यक्रम में डॉ. प्रताप चौहान ने कहा कि देश में प्रत्येक छठा व्यक्ति इस बीमारी से पीड़ित है।

 

2012 से 2018 के बीच हुए एक सर्वे से पता चला है कि देश में सबसे ज्यादा यूपी में जोड़ों के दर्द से पीड़ित लोग हैं। जोड़ों में दर्द को आयुर्वेद से आसानी से 6 से 8 महीने के इलाज से दूर किया जा सकता है। 12 अक्टूबर को विश्व ऑर्थराइटिस दिवस है। गुरुवार को नोएडा में अलग-अलग स्थानों पर ऑर्थराइटिस के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए कार्यक्रम हुए।

 

मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल भी खतरनाक

यदि आप मोबाइल फोन का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं तो संभल जाएं। ऐसा न हो कि आप ऑर्थराइटिस के मरीज बन जाएं। यह बात गुरुवार को कनॉट प्लेस में आयोजित प्रेस वार्ता में डॉ. किरन सेठ ने कही। उन्होंने बताया कि देश में आर्थराइटिस से जुड़े मरीजों की संख्या कई गुना बढ़ रही है। पिछले वर्ष 180 मिलियन की पहचान भारत में हुई है। अनुमान है कि साल 2025 तक देश में करीब 300 मिलियन तक मरीजों की संख्या पहुंच सकती है। सफदरजंग अस्पताल के स्पोर्ट्स इंजरी सेंटर के डॉ. हिमांशु कटारिया का कहना है कि वरिष्ठ नागरिकों की पैदल बाहर जाना, पार्क और क्लब में दोस्तों से मिलना शामिल है।

 

समस्या है ताे यह करें

  • दिक्कत होते ही घुटने से संबंधित व्यायाम शुरू करें
  • साइकल चलाना चाहिए और तैराकी करना फायदा देगा
  • विटामिन-डी की कमी से बचने को धूप में रहें।

क्या न करें

  • एक के ऊपर एक पैर मोड़कर नहीं बैठिए।
  • घर में या अन्य जगह भी आलथी-पालथी मार कर नहीं बैठें।
  • भारतीय शौचालयों का उपयोग जहां तक हो सके कम करें।
--Advertisement--
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..