हत्याकांड / 71 गांवों की महापंचायत, मृतक के पिता बोले- धर्म, संप्रदाय और राजनीति में नहीं पड़ना, हमें न्याय चाहिए



father of deceased need justice
X
father of deceased need justice

  • महापंचायत में बुलाए गए थे 2 हजार लोग, पहुंचे 4 हजार
  • लोगों ने मार्च निकालकर मोती नगर चौराहे को किया जाम

Dainik Bhaskar

May 17, 2019, 02:21 AM IST

नई दिल्ली. बसई दारापुर में ध्रुवराज हत्या कांड मामले में पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने की मांग के साथ गुरुवार को इलाके में एक पंचायत बुलाई गई। पंचायत में मौजूद मृतक ध्रुवराज के पिता वेद प्रकाश त्यागी महापंचायत में बैठे सब कुछ देख रहे थे। वह बहुत ज्यादा कुछ नहीं बोल पा रहे थे, लेकिन इतना जरूर कहा- हमें धर्म, संप्रदाय और राजनीति में नहीं पड़ना। हमें बस न्याय चाहिए और  दोषियों को सजा दी जाए। हम 50 साल से से गांव में रह रहे है। गांव में आजतक किसी से ना लडाई हुई है, ना किसी से दुश्मनी है। इसके बावजूद परिवार पर ऐसा कहर बरपा है। मेरे परिवार के साथ जो हुआ वो हो गया है लेकिन अब हम चाहते हैं कि इलाके की स्थिति ना बिगड़े और कोई ऐसी घटना ना घटे। जिससे अन्य लोगों को किसी प्रकार की क्षति हो। 

 

पंचों की मांग: परिवार को 5 करोड़ मुआवजा मिले

बसई दारापुर गांव में त्यागी समाज की ओर से बुलाई गई महापंचायत में दिल्ली-एनसीआर के करीब 71 गांवों के 2 हजार पंचों को बुलाया गया था। लेकिन मामले की गंभीरता के चलते पंचायत में 2 हजार की बजाय 3 से 4 हजार लोग संवेदना प्रकट करने पहुंचे। पंचों ने शोक जताने के बाद लोगों ने दिल्ली सरकार से मांग की है कि मृतक परिवार को 5 करोड़ रुपए और बेटा-बेटी को सरकारी नौकरी दी जाए। इसके अलावा किराएदार रखने से पहले उसका वैरिफिकेशन भी कराया जाना चाहिए। आरोपी परिवार भी किराए के मकान में रहता है, उसे वहां से खाली कराने की मांग की है। 

 

मृतक के भाई ने भी माहौल बिगाड़ने नहीं दिया 

मृतक के भाई तापेश्वर त्यागी ने बताया कि विभिन्न संगठन से जुड़े कुछ लोग उनसे मिलने के लिए आए थे। वे लोग इलाके का माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे थे। उन्हें ऐसा करने से रोका गया। वहीं दोपहर करीब 2 बजे गाजियाबाद के डासना से एक महंत आए। वह भी लोगों को भड़काने की कोशिश कर रहे थे। तापेश्वर ने उनसे माहौल को न बिगाड़ने की गुजारिश की। त्यागी ब्राह्मण समाज, दिल्ली प्रदेश के अध्यक्ष सुनील त्यागी ने बताया कि 30 युवाओं की एक टीम गांव में उन ठिकानों की निगरानी करेगी, जहां आपराधिक तत्व गुट बनाकर नशा करते हैं।

 

लोगों का फूटा गुस्सा

हत्या कांड की घटना के बाद से इलाके में तनाव की स्थिति बनी हुई है। गुस्साए स्थानीय लोगों ने गुरुवार को इलाके में मार्च निकाला। दोपहर 3 बजे के बाद मोती नगर चौराहे को जाम कर दिया था। इस दौरान दूसरे संप्रदाय के एक युवक की भीड़ ने पिटाई कर दी। पुलिस ने बीच-बचाव कर शख्स की जान बचाई। दिल्ली पुलिस ने एहतियातन पुलिसकर्मियों के अलावा अर्द्धसैनिक बल के जवानों को भी गांव में तैनात कर दिया है।

 

बेटा अब अब भी लड़ रहा जिंदगी की जंग

मोती नगर इलाके के बसई दारापुर गांव में शनिवार रात 2 बजे बेटी से छेड़छाड़ का विरोध करने पर बदमाशों ने पिता व बेटे पर चाकू से हमला कर दिया था। जिसमें इलाज के दौरान पिता ध्रुवराज त्यागी की मौत हो गई थी जबकि बेटा अनमोल घटना के पांचवे दिन भी जिंदगी की लड़ाई लड़ रहा है। पुलिस ने मामले में पहले 2 नाबालिग समेत 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस जांच में पता चला कि एक आरोपी 2 महीने पहले ही बालिग हो गया था, जिसकी पहचान गुडडू के रूप में हुई है। आरोपियों की पहचान पिता जहांगीर, उसकी पत्नी, बेटी रशिदा (30) बेटा शमसे आलम के रूप में हुई है। अब गिरफ्तार 6 आरोपियों में से अब एक नाबालिग है।

COMMENT