बजट सत्र / मोदी-शाह समेत नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ली; प्रधानमंत्री बोले- हमारे लिए विपक्ष का हर शब्द मूल्यवान



X

  • एनडीए-2 सरकार के पहले सत्र में 5 जुलाई में आम बजट पेश किया जाएगा
  • सदन की कार्यवाही से पहले राष्ट्रपति ने वीरेंद्र कुमार को प्राेटेम स्पीकर की शपथ दिलाई
  • संसद का सत्र 39 दिन चलेगा, 30 बैठकें निर्धारित; तीन तलाक, जम्मू-कश्मीर आरक्षण विधेयक आएगा
  • इस सत्र में 10 अध्यादेश पास कराना जरूरी, 46 विधेयक दोबारा पेश होंगे

Dainik Bhaskar

Jun 17, 2019, 08:35 PM IST

नई दिल्ली. 17वीं लोकसभा के पहले सत्र में साेमवार को सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह ने हिंदी में शपथ ली। प्रोटेम स्पीकर वीरेंद्र कुमार मंगलवार को भी नवनिर्वाचित सांसदों को शपथ दिलाएंगे। इससे पहले मोदी ने कहा कि लोकतंत्र में विपक्ष का सशक्त होना जरूरी है। उनका हर शब्द मूल्यवान है, वे लोकसभा में अपने नंबरों की चिंता छोड़ दें। उम्मीद है कि सभी दल सदन में उत्तम चर्चा करेंगे। इससे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वीरेंद्र कुमार को प्राेटेम स्पीकर पद की शपथ दिलाई। कुमार मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ से सांसद हैं।

 

अब 19 जून को लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव हाेगा। 20 जून को राष्ट्रपति लोकसभा और राज्यसभा दोनों सदनाें की संयुक्त बैठक को संबोधित करेंगे। इसी दिन राज्यसभा के सत्र की शुरुआत हाेगी। संसद का यह सत्र 26 जुलाई तक चलेगा। 5 जुलाई को पहली बार महिला वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बजट पेश करेंगी।

 

सांसदों ने इन भाषाओं में शपथ ली

हिंदी: नितिन गडकरी, स्मृति ईरानी, नरेंद्र सिंह तोमर, रविशंकर प्रसाद, गजेंद्र सिंह शेखावत, रमेश पोखरियाल निशंक, संतोष कुमार गंगवार, गिरिराज सिंह, अर्जुन मुंडा, डॉ. महेंद्र नाथ पांडे, राव इंद्रजीत सिंह, किरण रिजीजू, प्रह्लाद सिंह पटेल, फग्गन सिंह कुलस्ते, अर्जुन राम मेघवाल, जनरल वीके सिंह, कृष्ण पाल गुर्जर
संस्कृत: डॉ. हर्षवर्धन, श्रीपद यशो नाइक, अश्विनी चौबे
पंजाबी: हरसिमरत कौर बादल, डॉ. जितेंद्र सिंह
मराठी: अरविंद गणपत सावंत, रावसाहेब पाटील दानवे
कन्नड़: सदानंद गौड़ा, प्रह्लाद जोशी

अंग्रेजी: राहुल गांधी

तेलुगु: जी किशन रेड्‌डी

 

हमारे लिए विपक्ष की हर भावना मूल्यवान: मोदी

  • मोदी ने कहा, ''इस चुनाव में पहले की तुलना में अधिक मात्रा में महिलाओं का वोट करना खास रहा। कई दशकों के बाद एक सरकार को दोबारा पूर्ण बहुमत के साथ और पहले से अधिक सीटों के साथ जनता ने सेवा करने का अवसर दिया। जब पांच वर्ष का हमारा अनुभव है। जब सदन चला है, स्वस्थ वातावरण में चला है तब देशहित के निर्णय भी अच्छे हुए हैं। आशा करता हूं कि सभी दल उत्तम प्रकार की चर्चा, जनहित के फैसले और जनआकांक्षाओं की पूर्ति की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं इसका विश्वास।''
  • ''लोकतंत्र में विपक्ष का सशक्त होना अनिवार्य शर्त है। प्रतिपक्ष के लोग नंबर की चिंता छोड़ दें। देश की जनता ने उन्हें जो नंबर दिया। लेकिन हमारे लिए उनकी हर भावना मूल्यवान है। जब सदन में हम उस चेयर पर एमपी के रूप में बैठते हैं तो पक्ष विपक्ष से ज्यादा निष्पक्ष का ज्यादा महत्व होता है। मैं उम्मीद करता हूं कि पक्ष विपक्ष से ज्यादा निष्पक्ष होकर हम इस सदन की गरिमा उठाने का प्रयास करेंगे।''

 

तीन तलाक समेत कई अहम बिल आएंगे

इस सत्र में तीन तलाक समेत कई महत्वपूर्ण बिल भी पेश किए जाएंगे। इस सत्र में पिछली सरकार के समय लागू 10 अध्यादेशों को रद्द कर उनके स्थान पर विधेयक पास कराना भी जरूरी है। साथ ही पिछली लोकसभा के साथ रद्द हो चुके 46 विधेयकों को भी आवश्यक बदलाव करके लाया जाएगा। हालांकि, इस बारे में राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद ही सरकार स्थिति स्पष्ट करेगी।

 

4 जुलाई को आर्थिक सर्वेक्षण, 5 जुलाई को आम बजट

 

  • 17 जून: साेमवार काे 17वीं लाेकसभा के पहले सत्र की शुरुआत हाेगी।
  • 18 जून: पहले 2 दिन प्राधानमंत्री समेत 543 नए सांसदों की शपथ होगी। 
  • 19 जून: नए लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव होगा। यह 17वां स्पीकर होगा।
  • 20 जून: लोकसभा और राज्यसभा के संयुक्त सत्र में राष्ट्रपति का संबाेधन।
  • 4 जुलाई: वित्त मंत्रालय का आर्थिक सर्वेक्षण आएगा।
  • 5 जुलाई: नई सरकार का पहला आम बजट आएगा। 

 

ये अहम बिल लाएगी सरकार

 

  • केंद्रीय शैक्षणिक संस्थान (शिक्षक संवर्ग में आरक्षण) विधेयक 2019। 
  • आधार और अन्य कानून (संशोधन) विधेयक 2019। 
  • मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) या ट्रिपल तलाक विधेयक 2019।   
  • जम्मू-कश्मीर आरक्षण (संशोधन) विधेयक 2019।
  • अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता केेंद्र विधेयक 2019।
  • विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र (संशोधन) विधेयक 2019।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना