महिला दिवस / मेलानिया ट्रम्प को जहां से जाना था, वहां 100 बार से ज्यादा चलकर देखा: भावना

मेलानिया ट्रंप को इन्ही तीनों ने दिल्ली से रूबरू कराया। मेलानिया ट्रंप को इन्ही तीनों ने दिल्ली से रूबरू कराया।
X
मेलानिया ट्रंप को इन्ही तीनों ने दिल्ली से रूबरू कराया।मेलानिया ट्रंप को इन्ही तीनों ने दिल्ली से रूबरू कराया।

  • अमेरिका की फर्स्ट लेडी कर मैरी, मनु गुलाटी और भावना सावनानी ने की थी अगुवाई
  • भावना ने कहा- अमेरीकी एम्बेसी ने 5-6 स्कूल देखे, रिसर्च किया और फिर  नानकपुरा का स्कूल फाइनल किया

दैनिक भास्कर

Mar 08, 2020, 02:28 AM IST

नई दिल्ली (अखिलेश कुमार) . दिल्ली सरकार के सरकारी स्कूल की टीम ने इस साल अमेरिका की फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रम्प की सर्वोदय को-एड सीनियर सैकेंडरी स्कूल नानकपुरा मोती बाग-2 में 27 फरवरी को अगुवाई की। दिल्ली के स्कूल में हैप्पीनेस करिकुलम देखने कोई बड़ी हस्ती आएगी ये जानकारी विभाग के नोडल ऑफिसर ने मेंटर टीचर्स की टीम को फरवरी के पहले हफ्ते में दी लेकिन ये नहीं बताया कि मेलानिया ट्रम्प आएंगी। फिर करीब 18-20 दिन पहले बताया गया कि अमेरिकी राष्ट्रपति की पत्नी यानी अमेरिका की फर्स्ट लेडी आएंगी। फिर यूएस एम्बेसी ऑफिसर्स ने स्कूल देखना शुरू किया कि जहां वो रुकेंगे उसके नजदीक का स्कूल हो।

दिल्ली सरकार के स्कूल की मेंटर टीचर मनू गुलाटी (टीजीटी इग्लिश) और भावना सावनानी (टीजीटी साइंस), सर्वोदय को-एड सीनियर सैकेंडरी स्कूल नानकपुरा मोती बाग-2 की स्टाफ सेक्रेटरी मैरी ने वरिष्ठ अधिकारियों की अगुवाई में तैयारी की। भावना ने भास्कर से बताया कि एम्बेसी ने 5-6 स्कूल देखे, रिसर्च किया और फिर ये नानकपुरा का स्कूल फाइनल किया। एक घंटे का टाइम बताया गया था लेकिन करीब 1 घंटा 40 मिनट रुकीं। माॅडल टाउन स्कूल का बैंड था और भारत व यूएस के फ्लैग लिए बच्चों ने स्वागत किया। भारतीय संस्कृति के हिसाब से तिलक लगाने, आरती उतारने और माला पहनाकर स्वागत किया गया। स्कूल में जब मेलानिया ट्रम्प आईं तो रिसीव स्कूल प्रिंसिपल मनाेज पांडेय ने किया।

हमारी टीम रिसेप्शन, बच्चाें के बीच अाैर स्टेज पर थी। हैप्पीनेस करिकुलम में माइंड फुलनेस, स्टोरी टेलिंग, एक्टिविटीज और एक्सप्रेशन की क्लास दिखाई गई। यहां आभार दीवार पर बच्चों ने थैंक्यू सन, थैंक्यू फार्मर लिखा तो उस दीवार पर मेलानिया ट्रम्प ने थैंक यू स्कूल फॉर वेलकमिंग लिखा। संस्कृति की झलक में राजस्थान के पधारो म्हारे देश जनकपुरी स्कूल और पंजाबी में गिद्दा-दल्लूपुरा के स्कूल के बच्चों ने किया। बच्चों ने सवाल भी पूछे, प्राइमरी के बच्चों पर फोकस था। फर्स्ट लेडी के स्वागत और देश में पहली बार ऐसे कार्यक्रम की जिम्मेदारी को लेकर भावना ने भास्कर से कहा 12-12 घंटे जुटे रहे। हमें जानकारी पहले से थी लेकिन साफ कहा गया था कि बाहर किसी को इसकी जानकारी नहीं होनी चाहिए। ये अनुभव हमेशा याद रहेगा। भावना सावनानी ने भास्कर से कहा- जिस रास्ते से मेलानिया ट्रम्प को गुजरना था, उस रास्ते पर 100 बार से ज्यादा चलकर देखा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना