दिल्ली / 2021 तक नोएडा से एक्सटेंशन और ग्रेनो तीनों हो जाएंगे मेट्रो से कनेक्ट



Noida extension and Noida Metro project to be started by 2021
X
Noida extension and Noida Metro project to be started by 2021

  • 4 साल से पेंडिंग प्रोजेक्ट को दिसंबर 2018 में ग्रेनो प्राधिकरण ने हरी झंडी दी थी
  • 2662 करोड़ रुपए होंगे खर्च, 1.23 लाख यात्री कर सकेंगे सफर

Dainik Bhaskar

Feb 27, 2019, 01:38 AM IST

नोएडा. ग्रेटर नोएडा से नोएडा एक्सटेंशन और नोएडा को जोड़ने वाली प्रस्तावित मेट्रो को 2021 तक शुरू करने की योजना है। इसके बन जाने से नोएडा से ग्रेटर नोएडा में मेट्रो का एक तरह से लूप तैयार हो जाएगा, जिससे लोगों को बेहतर ट्रांसपोर्ट सिस्टम मिल जाएगा।

 

इस योजना की डीपीआर के मुताबिक, प्रस्तावित मेट्रो लाइन सेक्टर-51 स्थित एक्वा लाइन मेट्रो स्टेशन से जुड़कर पर्थला गोलचक्कर, ग्रेनो वेस्ट के किसान चौक होते हुए ग्रेनो  के नॉलेज पार्क-5 तक जाएगी। नोएडा से ग्रेनो  के बीच कुल 14.9 किमी. की लंबाई होगी।

 

इस परियोजना पर 2662 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसमें नोएडा-ग्रेनो प्राधिकरण की 25:75 फीसद राशि खर्च पहले से निर्धारित है। बता दें कि पिछले 4 साल से पेंडिंग इस प्रोजेक्ट को दिसंबर 2018 में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने हरी झंडी दी थी। इसके बाद शासन को भेज दिया था। अभी हाल में ही नोएडा-ग्रेटर नोएडा मेट्रो को हरी झंडी दिखाने आए सीएम आदित्यनाथ ने शासन से भी नोएडा एक्सटेंशन मेट्रो को अप्रूवल मिलने की घोषणा की थी।

 

डीपीआर के तहत अनुमान है कि वर्ष 2021 में जब मेट्रो को चलाया जाएगा तब तक इस पर 1.23 लाख यात्री आवाजाही करने लगेंगे। सेक्टर-71 व 72 से नोएडा एक्सटेंशन की तरफ किसान चौक को जाने वाली सड़क पर  सर्फाबाद गांव की तरफ सर्विस रोड से मेट्रो ट्रैक बनाने की योजना है।

 

यह ट्रैक सेक्टर-51 स्टेशन से शुरू होगा। इसमें 3.33 किलोमीटर मेट्रो रूट का निर्माण नोएडा में किया जाना प्रस्तावित है। सेक्टर-51 के बाद सेक्टर-122 और सेक्टर-123 में मेट्रो स्टेशन बनना प्रस्तावित है। इसके बाद हिंडन नदी को पार करने के बाद ग्रेनो वेस्ट का पहला मेट्रो स्टेशन किसान चौक सेक्टर-4 में प्रस्तावित है।

 

2015 में ग्रेनो एक्सटेंशन रूट का हुआ था सर्वे : नोएडा से ग्रेनो के लिए एक्वा लाइन मेट्रो का निर्माण कार्य मई 2015 में शुरू हुआ था। उसी समय नोएडा-ग्रेनो वेस्ट पर मेट्रो रूट का सर्वे हुआ था। प्राधिकरण ने 21 दिसंबर 2016 को 191वीं बोर्ड बैठक में प्रस्ताव पास किया था। इसी प्रस्ताव को 24 दिसंबर 2016 को ग्रेनो प्राधिकरण की 107वीं बोर्ड बैठक में पास कर शासन के पास मंजूरी के लिए भेज गया था, लेकिन वो पेंडिंग में चला गया था। पुरानी डीपीआर में संशोधन के साथ 3 दिसंबर 2018 प्राधिकरण की बोर्ड बैठक में पास करा दिया गया था। निर्माण के लिए एनएमआरसी को नोडल एजेंसी चुना गया था और अप्रूवल के लिए भेजा गया था।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना