--Advertisement--

दिल्ली / सड़कों के गड्‌ढ़ों ने 5 साल में 15 हजार जानें लीं, इतनी मौतें तो बॉर्डर पर भी नहीं हुईं: सुप्रीम कोर्ट



Supreme Court remarks on bad roads
X
Supreme Court remarks on bad roads

  • कोर्ट ने कहा कि संबधित अथॉरिटी सड़कों का मेंटेनेंस ढंग से नहीं कर रहीं
  • गड्‌ढों की वजह से मौतों पर सुप्रीम कोर्ट की रोड सेफ्टी कमेटी ने रिपोर्ट सौंपी

 

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 09:31 AM IST

नई दिल्ली. सड़कों पर गड्‌ढ़ों के कारण हुए हादसों में पांच साल के दौरान 14,926 मौतों पर चिंतित सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि इस तरह लोगों की जान जाना अस्वीकार्य है। कोर्ट ने कहा कि सड़कों पर गड्‌ढों की वजह से जितने लोगों की जान गई है, उतनी मौतें तो शायद बॉर्डर पर या आतंकी हमलों में भी नहीं हुई होंगी।

 

जस्टिस मदन बी लोकुर की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि 2013 से 2017 के दौरान सड़कों पर गड्‌ढों की वजह से हुई मौतों का आंकड़ा दिखाता है कि संबधित अथॉरिटी सड़कों का मेंटेनेंस ढंग से नहीं कर रहीं। सड़कों पर गड्‌ढों की वजह से मौतों पर सुप्रीम कोर्ट की रोड सेफ्टी कमेटी ने रिपोर्ट सौंपी है।

 

सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज केएस राधाकृष्ण की अध्यक्षता वाली कमेटी की रिपोर्ट पर केंद्र से जवाब मांगा गया है। देशभर में रोड सेफ्टी के मुद्दे पर सुनवाई के दौरान कोर्ट ने 20 जुलाई को भी कहा था कि सड़कों पर गड्‌ढ़ों के कारण इतने लोग मर चुके हैं, जितने आतंकी हमलों में भी नहीं मरे होंगे। ऐसे मामलों में मुआवजा भी दिया जाना चाहिए।  

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..