शाहीनबाग / प्रदर्शनकारियों का प्रतिनिधिमंडल एलजी से मिला, एलजी बैजल बोले- जनहित को ध्यान में रख आंदोलन करें खत्म

एलजी से चर्चा करतीं शाहीनबाग की प्रदर्शनकारी महिलाएं। एलजी से चर्चा करतीं शाहीनबाग की प्रदर्शनकारी महिलाएं।
X
एलजी से चर्चा करतीं शाहीनबाग की प्रदर्शनकारी महिलाएं।एलजी से चर्चा करतीं शाहीनबाग की प्रदर्शनकारी महिलाएं।

  • प्रदर्शनकारी बोले-स्कूल वैन व एम्बुलेंस के लिए रास्ता दिया है, पुलिस बोली-खत्म नहीं हुई परेशानी
  • उप राज्यपाल ने प्रदर्शनकारियों से आए इस प्रतिनिधिमंडल को आश्वास्त किया उनकी मांगे उचित जगह पर पहुंचाई जाएंगी

Dainik Bhaskar

Jan 22, 2020, 04:01 AM IST

नई दिल्ली . शाहीनबाग इलाके में धरना प्रदर्शन की वजह से कालिंदीकुंज रोड एक महीने से ज्यादा समय से बंद है। सड़क को खुलवाने के लिए पुलिस लगातार प्रयास कर रही है। मंगलवार को दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने प्रदर्शनकारियों से आंदोलन खत्म करने की अपील की। प्रदर्शनकारियों के प्रतिनिधिमंडल ने एलजी हाउस में मीटिंग की थी, जिसमें सर्दन रेंज के संयुक्त पुलिस आयुक्त देवेश श्रीवास्तव और इलाके के डीसीपी चिन्मय बिश्वाल शामिल हुए।


इस मीटिंग के दौरान उप राज्यपाल ने प्रदर्शनकारियों से आए इस प्रतिनिधिमंडल को आश्वास्त किया उनकी मांगे उचित जगह पर पहुंचाई जाएंगी। उन्होंने अपील की कि वे शांति व्यवस्था बनाए रखें और सडक बंद होने के कारण स्कूली बच्चों, रोगियाें, दैनिक यात्रियों व क्षेत्रीय लोगों को हो रही परेशानी को ध्यान में रख अपने आंदोलन को खत्म करें। इस प्रतिनिधिमंडल में इलाके की तीन बुजुर्ग महिलाएं भी शामिल रहीं। उपराज्यपाल को एक लिखित ज्ञापन सौंपा गया। प्रतिनिधिमंडल ने उप राज्यपाल से कहा कि हमने स्कूल वैन और एम्बुलेंस के लिए पहले ही रास्ता दे रखा है। उधर, पुलिस के अफसरों का कहना है कि बड़ी स्कूल बसों को रास्ता नहीं दिया जा रहा है। 

खुरेजी: काले रंग के गुब्बारे छोड़ अपना विरोध जताया

खुरेजी इलाके में नागरिकता कानून के विरोध में चल रहे धरना प्रदर्शन के बीच मंगलवार को लोगों ने काले रंग के गुब्बारे छोड़ अपना विरोध जाहिर किया। मकसद ये था कि शायद गुब्बारे के जरिए प्रधानमंत्री और गृह मंत्री तक उनकी बातें पहुंच गए। दोपहर से गुब्बारे छोड़ने का शुरु हुआ सिलसिला शाम तक जारी रहा। इस दौरान लगभग दस हजार गुब्बारे छोड़े गए, जिनके साथ कागज पर लिखे स्लोगन भी चस्पा किए गए। इस सबके बीच यहां धरने पर बैठी महिलाओं ने कहा कि वे प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को साथ में चाय पीने का न्यौता देगीं, जिसे लिए बाकायदा पोस्टकार्ड लिख उन तक पहुंचाए जाने की योजना है। इस प्रदर्शन में शामिल सलमा ने कहा हवा में काले गुब्बारे इसलिए छोड़ गए ताकि गृह मंत्री या प्रधानमंत्री तक उनकी बात पहुंच जाए। वे इस कानून को वापस लेने के बारे में सोचें।

सुप्रीम कोर्ट में लगाई याचिका पर आज आएगा फैसला

बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में इस मामले को लेकर डाली गई याचिका पर भी सुनवाई होनी है। लोगों को लगता है कि उनके पक्ष में कोई सकारात्मक फैसला आएगा, बाकायदा कई जगह पर महिलाएं रोजा रखकर भी अपना विरोध जाहिर कर रही हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना