दिल्ली मेट्रो / यलो लाइन पर सुल्तानपुर से कुतुब मीनार मेट्रो स्टेशन के बीच ट्रैक पर फंसी 2 मेट्रो ट्रेन, 5600 यात्री फंसे



पिछले गेट से निकले यात्री। पिछले गेट से निकले यात्री।
Two metro trains hanging on track between Sultanpur and Qutab Minar Metro Station on Yellow Line
Two metro trains hanging on track between Sultanpur and Qutab Minar Metro Station on Yellow Line
Two metro trains hanging on track between Sultanpur and Qutab Minar Metro Station on Yellow Line
X
पिछले गेट से निकले यात्री।पिछले गेट से निकले यात्री।
Two metro trains hanging on track between Sultanpur and Qutab Minar Metro Station on Yellow Line
Two metro trains hanging on track between Sultanpur and Qutab Minar Metro Station on Yellow Line
Two metro trains hanging on track between Sultanpur and Qutab Minar Metro Station on Yellow Line

  • ओएचई टूटने से 2 घंटे तक मेट्रो में फंसे रहे 5600 यात्री
  • 2 टीमें 10 बजे ट्रैक पर उतारी गईं, रिपेयर करने में 3 घंटा 15 मिनट का टाइम लगा
  • दोबारा ऑपरेशन 1.28 बजे शुरू हुआ, 4 घंटे के बाद सेवाएं शुरू हो सकीं
  • 9:27 बजे से 11 बजकर 50 मिनट तक कुतुब मीनार से सुल्तानपुर सेक्शन के बीच सर्विस पूरी तरह से बंद रही
  • 9:32 बजे समयपुर बादली से कुतुबमीनार और सुल्तानपुर से हुडा सिटी सेंटर के बीच दो लूप में सर्विस शुरू की गई
  • 10:50 बजे कुतुब मीनार और सुल्तानपुर सेक्शन के बीच कनेक्टिविटी के लिए 29 बसें उतारने का दावा डीएमआरसी ने किया, लेकिन सड़क पर ट्रैफिक जाम में यात्रियों को नहीं मिली

Dainik Bhaskar

May 22, 2019, 04:32 AM IST

नई दिल्ली. दिल्ली मेट्रो रेल ने मंगलवार को यलो लाइन पर बुरी तरह डिरेल हो गई। सुबह 9:27 बजे कुतुब मीनार से सुल्तानपुर स्टेशन के बीच ओवरहेड इलेक्ट्रिक वॉयर (ओएचई) टूटने से सेवाएं बाधित हुईं, जो दोपहर बाद 1.28 बजे ही बहाल हो सकीं। ट्रेन को बिजली देने वाला ओएचई टूटा तो दो ट्रेन के अंदर 5600 यात्रियों की सांस थम-सी गईं। मेट्रो यात्रियों ने कहा कि दो स्टेशनों के बीच ट्रेन के अंदर एसी बंद होने से बुरी हालत हो गई। वहीं दूसरी सबसे लंबी इस लाइन के सभी स्टेशनों पर भारी भीड़ लग गई।

 

डीएमआरसी ने बताया कि लूप लाइन, सिंगल लाइन में सर्विस चलाई लेकिन इंटरचेंज स्टेशनों का बुरा हाल था। कई जगह स्टेशन के गेट बंद करने पड़े। करीब 4 घंटा ट्रेन का रास्ता इस सेक्शन पर जाम रहा तो सुल्तानपुर से कुतुब मीनार के बीच के रास्तों पर वाहन चालकों के साथ ही पैदल यात्रियों को भी जाम में फंसना पड़ा। डीएमआरसी का दावा है कि 29 बसें सुल्तानपुर से कुतुब मीनार के बीच कनेक्टिविटी के लिए उतारीं लेकिन यात्रियों ने कहा कि बसें नहीं मिली। वो बसें भी ट्रैफिक जाम में फंस गईं। डीएमआरसी ने बेशक 1.28 बजे पर सेवाएं बहाल करने का दावा किया।

 

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने मांगा डीएमआरसी से जवाब
सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया कि परिवहन मंत्री से मेट्रो सर्विस में बांधा पर विस्तृत रिपोर्ट मांगने और जिस अधिकारी की खामी है, उसकी जिम्मेदारी तय करने के लिए कहा है। इसके बाद परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने डीएमआरसी के प्रबंधन निदेशक मंगू सिंह को 2011 से अब तक के ब्रेकडाउन पर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया।

 

मेट्रो में आई खराबी तो मैनेजर को किया मेल, मेट्रो काम नहीं कर रही है- आज छुट्‌टी पर हूं

पीक ऑवर में यलो लाइन पर मेट्रो सर्विस में आई खराबी के चलते दिल्ली से गुड़गांव या गुड़गांव से दिल्ली के अलग-अलग क्षेत्रों में काम करने के लिए आने वाले अपने-अपने ऑफिस नहीं पहुंच सके। सुल्तानपुर स्टेशन के आस-पास जो यात्री फंसे वो सड़क के रास्ते भी ऑफिस टाइम पर नहीं पहुंच सके। नूपुर गर्ग ने ट्वीट किया- मैंने रास्ते से मैनेजर को मेल किया कि आज मेट्रो काम नहीं कर रही है। मैं आज ऑफिस नहीं आ पाऊंगी। इसके अलावा कई जगह देखा गया तो जाम में फंसने के हालात में जहां जगह मिली, वहां लैपटॉप स्टार्ट करके काम में जुट गए। सोशल मीडिया पर ऐसी फोटो भी शेयर की गई। 

 

ओएचई को यूं समझें
मेट्रो ट्रेन को बिजली सप्लाई ओवरहेड इलेक्ट्रिक वॉयर(ओएचई) से मिलती है। ओएचई से ट्रेन के ऊपर लगे पेंटोग्राफ(कोच के ऊपर लगी लोहे की दो रॉड) के माध्यम से ट्रेन के मोटर तक करंट पहुंचता है। इसमें ओएचई टूट जाने या पेंटोग्राफ के नुकसान में ट्रेन ऑपरेशन बंद हो जाता है। ट्रेन का पेंटोग्राफ टूटने पर ट्रेन हटाकर सर्विस शुरू की जा सकती है जबकि ओएचई टूटने पर पूरा तार बदलना होता है। डीएमआरसी अधिकारी बताते हैं कि सिस्टम में पुराने तारों को चेकिंग करके बदला जाता है। ये ओएचई क्यों टूटी, इसकी जांच होगी।

 

डीएमआरसी 5000 से अधिक यात्रियों को दो स्टेशन के बीच में ट्रेन इमरजेंसी हालात में फंसने पर बिना किसी तरह के चोट लगे सुरक्षित स्टेशन तक पहुंचाया। शॉर्ट नोटिस में बसें उपलब्ध कराईं और चुनौती वाले हालात में सर्विस बहाल करने का काम शुरू किया। मेट्रो में हाई फ्रीक्वेंसी के बीच गड़बड़ी को सही किया गया। -अनुज दयाल, कार्यकारी निदेशक, कारपोरेट कम्यूनिकेशन

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना