जेएनयू हिंसा / दो छात्रों ने दर्ज कराए बयान, पीसीआर को कॉल करने वालों को भी पुलिस बना सकती है चश्मदीद

जेएनयू के बाहर मंगलवार को तैनात सुरक्षाकर्मी। जेएनयू के बाहर मंगलवार को तैनात सुरक्षाकर्मी।
X
जेएनयू के बाहर मंगलवार को तैनात सुरक्षाकर्मी।जेएनयू के बाहर मंगलवार को तैनात सुरक्षाकर्मी।

  • पुलिस की टीम ने 3 जनवरी से 5 जनवरी की डिटेल हासिल की
  • विवि में सबूत जुटाने के लिए फिर पहुंची एफएसएल टीम

Dainik Bhaskar

Jan 15, 2020, 05:00 AM IST

नई दिल्ली . जेएनयू हिंसा मामले की जांच कर रही एसआईटी क्राइम ब्रांच की टीम ने दो छात्रों के बयान लिए। सुचेता तालुकदार और प्रिय रंजन कुमार नाम के इन छात्रों से पुलिस टीम ने 3 जनवरी से 5 जनवरी की डिटेल हासिल की। इन दोनों ने ही पुलिस के सामने किसी भी तरह की हिंसा में अपना हाथ नहीं होने की बात कही। जांच से जुड़े पुलिस अधिकारियों का कहना है सभी छात्रों से बारी -बारी बयान लिए जा रहे हैं। फिर बयानों को क्रॉस चेक कर उनकी भूमिका को चेक किया जाएगा, इस दौरान पता चल जाएगा कौन छात्र झूठ बोल रहा है और कौन सच। पुलिस छात्रों के खिलाफ सबूत भी एकत्रित कर रही है। उधर, फिर एफएसएल की टीम ने कैंपस पहुंच जांच पड़ताल की। 

अक्षत अवस्थी और रोहित शाह का मोबाइल शनिवार से बंद
जिन लोगों ने घटना को लेकर पचास से ज्यादा पीसीआर कॉल की थी, उन्हें भी पूछताछ में शामिल किया जाएगा। ताकि वे अपनी बात रख सकें। पुलिस इन्हें विश्वास में लेकर आगे चश्मदीद भी बना सकती है। वहीं दूसरी ओर स्टिंग चैनल के ऑपरेशन में नजर आए अक्षत अवस्थी व रोहित शाह का मोबाइल शनिवार से बंद है। पुलिस पता लगाने की कोशिश में लगी है।

प्रिय रंजन व सुचेता से अलग-अलग बात की गई, तस्वीरें दिखाईं गईं
पुलिस सूत्रों के मुताबिक मंगलवार को प्रिय रंजन और सुचेता से अलग-अलग बात की गई। दोनों को वे वायरल वीडियो और तस्वीरें दिखाईं गईं जिसमें वे नजर आए थे। ये दानों भी पुलिस द्वारा दिखाए गए नौ संदिग्धों की श्रेणी में शामिल हैं। दोनों ही छात्रों ने डिटेल में अपने बारे में जानकारी दी और पक्ष रखा। सुचेता ने डेढ़ पेज का बयान दिया है। बतां दे सुचेता एसएफआई की काउंसलर है, जबकि प्रिय रंजन कुमार माही मांडवी हॉस्टल में रहता है। 

जेएनयू में पढ़ाई शुरू, स्थिति सामान्य

जेएनयू में बुधवार को विंटर सेमिस्टर के लिए बिना लेट फीस के रजिस्ट्रेशन का अंतिम दिन है। इसके बाद 16-20 जनवरी के बीच रजिस्ट्रेशन कराने के लिए लेट फीस देनी होगी। जेएनयू प्रशासन ने मंगलवार को प्रेस बयान जारी करके कहा कि क्लास शुरू हुई और कैंपस का माहौल शांतिपूर्ण रहा। जो बाहर गए हुए हैं उनके रजिस्ट्रेशन की सुविधा भी दी है। कई स्कूल और सेंटर में क्लास शुरू हुई और बाकी के लिए टाइम टेबल अधिसूचित करके वेबसाइट पर अपलोड किया गया। एमफिल व पीएचडी की मौखिक परीक्षाएं शुरू हो गई और कुछ का शेड्यूल फाइनल किया गया।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना