भास्कर खास / एफएनजी के लिए नोएडा ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर बनाया जाएगा अंडरपास, फरीदाबाद जाना होगा आसान

हाइवे के करीब 17 किमी हिस्से का 70 प्रतिशत काम पूरा किया जा चुका है। हाइवे के करीब 17 किमी हिस्से का 70 प्रतिशत काम पूरा किया जा चुका है।
X
हाइवे के करीब 17 किमी हिस्से का 70 प्रतिशत काम पूरा किया जा चुका है।हाइवे के करीब 17 किमी हिस्से का 70 प्रतिशत काम पूरा किया जा चुका है।

  • नहीं मिलेगा एनएच का दर्जा क्योंकि किसी राजधानी से न तो शुरू होता है और न समाप्त

दैनिक भास्कर

Dec 28, 2019, 02:20 AM IST

नोएडा . फरीदाबाद-नोएडा-गाजियाबाद (एफएनजी) मार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग की तर्ज पर तैयार किया जा रहा है। हाइवे के करीब 17 किमी हिस्से का 70 प्रतिशत काम पूरा किया जा चुका है। अब एक्सप्रेस-वे के नीचे अंडरपास बनाकर इसे हरियाणा से जोड़ने की तैयारी की जाएगी। यह अंडरपास पुशबैक तकनीक से बनाया जाएगा। सेक्टर-168 के पास यमुना नदी पर पुल के जरिए इसे हरियाणा से जोड़ा जाएगा। इससे फरीदाबाद जाने वाले लोगों को दिल्ली जाने की जरूरत नहीं होगी।

एफएनजी हाईवे गाजियाबाद के एनएच-24 को नोएडा के छिजारसी, बहलोलपुर, सोरखा, सेक्टर 112, 140, एक्सप्रेसवे, सेक्टर-168 होकर फरीदाबाद के गांव लालपुर में आकर निकलेगा। इससे वाहन चालकों को राहत मिलेगी। नोएडा प्राधिकरण ने एनएचएआई को पत्र लिखकर इसे नेशनल हाइवे का दर्जा देने के लिए कहा था। प्राधिकरण ने बताया कि सिर्फ उन्हीं सड़कों को नेशनल हाइवे की श्रेणी में रखा जा सकता है जो एक राज्य की राजधानी को दूसरे राज्य की राजधानी को जोड़े। यहा जिसकी सामप्ति एक राजधानी से हो। 

तीन-तीन लेन का बनेगा अंडरपास , यातायात को नहीं करना पड़ेगा डायवर्ट

एक्सप्रेस-वे से जुड़े गांवों को बेहतर कनेक्टिविटी के लिए यहा तीन अंडरपास बनाए जाने है। यह चौथा अंडरपास होगा जो कि महामाया फ्लाईआेवर से 11.0 किलोमीटर पर बनाया जाएगा। प्राधिकरण के तीन अंडरपास से यह बिल्कुल अलग होगा। इसे कुल छह लेन का बनाया जाएगा। तीन लेन जाने के लिए और तीन आने के लिए। यह अंडरपास आगे सेक्टर-168 पर यमुना नदी पर प्रस्तावित पुल से जुड़ जाएगा। और हाइवे फरीदाबाद तक जाएगा। पुशबैक तकनीक का प्रयोग किया जाएगा। इसमे ड्रमों की मदद से एक्सप्रेस-वे के भार को सहन किया जाएगा अंडरपास बनने के बाद ड्रमों को हटा लिया जाएगा। इसी तकनीक का प्रयोग सेक्टर-62 में मॉडल टाउन अंडरपास के लिए किया गया था। इससे एक्सप्रेस-वे पर रूट डायवर्जन की जरूरत नहीं होगी। 

एफएनजी को फरीदाबाद से जोड़ने के लिए एक्सप्रेस-वे के नीचे अंडरपास बनाया जाएगा । इसे पुश बैक तकनीक से बनाने का निर्णय लिया गया है। एससी गौड़ सीपीए, नोएडा प्राधिकरण (एनसीआर प्लानिंग बोर्ड)
इनर सड़कों का भार कम करने की कोशिश |प्राधिकरण एफएनजी को जल्द पूरा करना चाहता है। ताकि इनर सड़कों पर भार कम हो सके ।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना