• Hindi News
  • Career
  • CBSE Board Exams 2020: Solve sample paper for time management from 10:30 am to 1:30 am, practice 5 years of maths questions

प्रिपरेशन / टाइम मैनेजमेंट के लिए सुबह 10:30 से 1:30 तक सॉल्व करें सैंपल पेपर, मैथ्स के 5 सालों के सवाल की करें प्रैक्टिस

CBSE Board Exams 2020: Solve sample paper for time management from 10:30 am to 1:30 am, practice 5 years of maths questions
X
CBSE Board Exams 2020: Solve sample paper for time management from 10:30 am to 1:30 am, practice 5 years of maths questions

दैनिक भास्कर

Feb 20, 2020, 07:07 PM IST

एजुकेशन डेस्क. फिलॉसोफर प्लेटो के अनुसार, मैथ्स सिर्फ उन्हें अपना सीक्रेट शेयर करती है, जो उसे सच्चे मन से अपनाने की कोशिश करते हैं। ऐसा ही कुछ आपके टीचर्स और पेरेंट्स भी कहते होंगे। जितनी प्रैक्टिस करोगे मैथ्स उतने ही अच्छे तरीके से समझ में आएगी। टीचर्स और पेरेंट्स के बोलने के बावजूद आप में से कई ऐसे स्टूडेंट्स होंगे जो मैथ्स की बुक से भी डरते होंगे।

वहीं एसएसटी में आप अलग-अलग तरह के सवालों से परेशान होंगे। मैप में क्या कहा गया है और कौनसी तारीख को क्या हुआ। यह एक चुनौती रहती है ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि रिवीजन कैसे किया जाए। आइए जानिए इन सब्जेक्ट के एक्सपर्ट के जरिए कुछ ट्रिक्स और टिप्स जो आपके के लिए मददगार होंगे।

एसएसटी - दिशाओं के आधार पर मैप की प्रैक्टिस करें
एजुकेशनिस्ट संजय पाराशर के मुताबिक एग्जाम्स में ज्यादा समय नहीं रहा है इसलिए बच्चे अभी उन सवालों पर फोकस करें जो उन्हें अच्छे से याद हैं। एसएसटी फैक्ट्स बेस्ड सब्जेक्ट है, जिसमें विस्तार से लिखने के लिए कहा जाता है। एक बार टाइपोलॉजी को समझ कर, पाइंटर्स बनाएं। पाइंटर्स को जवाब में बताना आपके लिए आसान होगा। साथ ही प्रैक्टिस के दौरान मैप को ईस्ट, वेस्ट, नॉर्थ व साउथ में बांट कर मैप के सवालों को तैयार करें। इससे आप उस एरिया को समझने में कभी गलती नहीं करेंगे। वहीं स्टूडेंट्स एसएसटी में टाइम मैनेजमेंट का ख्याल नहीं रख पाते, इसके लिए सबसे बेहतर है सैंपल पेपर को 10:30 से 1:30 बजे के टाइम में क्लीयर करें। इससे आपका टाइम मैनेजमेंट सही हो पाएगा।

मैथ्स - 5 सालों के सवाल की प्रैक्टिस कर के जाएं
मैथ्स से ज्यादा स्कोरिंग सब्जेक्ट नहीं है। एक्सपर्ट प्रतिभा जैन ने बताया कि सम सॉल्व करने का सबसे बड़ा टूल फॉर्मूले होते हैं। हां, उन्हें याद करना ही सबसे मुश्किल है लेकिन उन्हें किताब खोलने से पहले प्लेन पेपर पर लिख कर रिवाइज़ करें। इससे आप ज्यादा से ज्यादा फॉर्मूले याद रख पाएंगे। मैथ्स ऐसा सब्जेक्ट नहीं है जिसे पढ़कर समझ पाएंगे। ऐसे में इस समय उन फॉर्मूलों पर काम करें, जिनमें आपको डाउट है। इसके बाद पांच साल के पेपर को सॉल्व करना शुरू करें। पांच साल के सैंपल पेपर से आप पेपर पैटर्न देख पाएंगे और इससे सम्स सॉल्व करने की स्पीड बेहतर होगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना