• Hindi News
  • Education jobs
  • Engineering graduate Zubair Rahman created online selling platform, fashion factory with just ten thousand rupees

सक्सेस स्टोरी / इंजीनियरिंग ग्रेजुएट जुबैर रहमान ने महज दस हजार रुपए से खड़ा किया ऑनलाइन सेलिंग प्लेटफॉर्म, फैशन फैक्ट्री

Engineering graduate Zubair Rahman created online selling platform, fashion factory with just ten thousand rupees
X
Engineering graduate Zubair Rahman created online selling platform, fashion factory with just ten thousand rupees

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2020, 11:21 AM IST

एजुकेशन डेस्क. तमिलनाडु के तिरुपुर में रहने वाले जुबैर रहमान ने इलेक्ट्रिकल व इलेक्ट्रॉनिक्स में इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करने के बाद एक सीसीटीवी ऑपरेटर के तौर पर अपने कॅरिअर की शुरुआत की। अपने इस काम के दौरान वे ऑफिसेज में जाकर सीसीटीवी कैमरा इंस्टॉलेशन भी किया करते थे। हालांकि अपना व्यवसाय शुरू करने की इच्छा हमेशा से ही उनके मन में बसी हुई थी, लेकिन वे यह तय नहीं कर पा रहे थे कि बिजनेस के लिए कौनसा सेक्टर सही होगा। 

सीसीटीवीज इंस्टॉल करते हुए मिला आइडिया 
एक बार सीसीटीवी इंस्टॉल करने के लिए उन्हें एक ई-कॉमर्स कंपनी में जाने का मौका मिला। वहां का काम देखने के बाद उन्हें उसके बारे में विस्तार से जानने की उत्सुकता हुई। इसी उत्सुकता के चलते उन्होंने वहां के मैनेजर से बात की और कंपनी के काम के तरीके को समझा। मैनेजर ने उन्हें बताया कि कैसे वे सामान को बाहर से सोर्स करते हैं और उसे ऑनलाइन बेच देते हैं और इसी से उनकी कमाई होती है। यहीं से जुबैर को एक नया आइडिया मिला।

यह आइडिया उन्हें इसलिए भी अच्छा लगा, क्योंकि इसमें मेन्युफैक्चरिंग का भी अलग से कोई खर्च नहीं था। इसी विचार के साथ उन्होंने फैशन फैक्ट्री नाम से एक ई-कॉमर्स कंपनी की शुरुआत की।

पकड़ी ऑनलाइन सेलिंग की राह 
रिसर्च करते हुए उन्होंने पता लगाया कि तिरुपुर से सोर्स किए जा सकने वाले सर्वश्रेष्ठ प्रॉडक्ट्स थे टेक्सटाइल्स। इसके बाद वे कई मेन्युफैक्चरर्स से मिले और अपना जॉब छोड़ दिया। उन्होंने महज दस हजार रुपए के निवेश के साथ फैशन फैक्ट्री की शुरुआत कर दी। जीएसटी, रजिस्ट्रेशन जैसे खर्चों के साथ उन्होंने थोड़ा-थोड़ा सामान खरीदा और ऑनलाइन सेल करना शुरू कर दिया।

पहले रिसर्च को अहमियत, फिर बने आंत्रप्रेन्योर 
जुबैर ने फ्लिपकार्ट और अमेजन पर अपने प्रॉडक्ट्स को लिस्ट किया। शुरुआत में उन्हें दिन में एक या दो ऑडर्स ही मिलते थे। इसके अलावा कॉम्बो पैक पर मार्जिन भी कम हो जाता था। हालांकि उनके प्रॉडक्ट्स की कम कीमत ने कस्टमर्स का ध्यान खींचा और उन्हें मिलने वाले ऑडर्स की संख्या बढ़ने लगी।

इसके कुछ ही दिनों बाद उन्होंने अपनी एक मेन्युफैक्चरिंग यूनिट की शुरुआत की। आज उनके पास दो सौ से तीन सौ ऑर्डर्स हर दिन आते हैं। जुबैर का मानना है कि बिजनेस की सफलता के लिए सबसे जरूरी है कि आप रिसर्च करें और समझें कि आप जो बिजनेस कर रहे हैं उसके लिए मार्केट तैयार है या नहीं।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना