एक्सपर्ट ओपिनियन / एक्टर बनना चाहता हूं लेकिन पेरेंट्स प्रतियोगी परीक्षा के लिए प्रेरित कर रहे हैं, क्या करूं?

I want to become an actor but parents are pushing for competitive exam, what should I do?
X
I want to become an actor but parents are pushing for competitive exam, what should I do?

  • एक्सपर्ट से जानिए करियर की उलझनों का समाधान कैसे करें

Dainik Bhaskar

Dec 06, 2019, 05:01 PM IST

एजुकेशन डेस्क. मैं एक्टर बनना चाहता हूं लेकिन पेरेंट्स प्रतियोगी परीक्षा देने के लिए प्रेरित कर रहे हैं, क्या करूं... शादी के बाद कौन सा करियर चुनूं...., एमबीए और इंजीनियरिंग के बाद कॅरियर किस क्षेत्र में बनाऊं.... ऐसे कई सवाल हमारे पास आए, जिसका जवाब भास्कर के करियर काउंसलर एक्सपर्ट योगिता यश रावत ने दिए। एक्सपर्ट से जानिए करियर की उलझनों का समाधान कैसे करें.... 


1.सवाल : मैं 29 वर्ष की हूं। मेरा एक तीन साल का बेटा है। मैंने एलएलबी के बाद एक होटल में अच्छे पद पर काम किया, लेकिन बच्चा छोटा होने की वजह से मैंने जाॅब छोड़ दी थी। अब मैं फिर से जॉब शुरू करना चाहती हूं, परंतु मेरी समझ में नहीं आ रहा है कि शुरुआत कहां से करूं। इंटरव्यू में गैप को लेकर उठने वाले सवालों से भी मुझे डर है और मैं डिमोटिवेट हो रही हूं जिससे मेरा स्वभाव बिगड़ रहा है। -शिखा, जयपुर

एक्यपर्ट ओपिनियन : मातृत्व अगर कॅरिअर में बाधा होता तो शायद इंदिरा गांधी, इंदिरा नूई या करीना कपूर खान जैसी शख्सियतें आज इतनी ख्यातनाम न होतीं। आप सबसे पहले एक निश्चित प्लान बनाइए। अपने पति और परिवार के अन्य सदस्यों से उसके बारे में आत्मविश्वास के साथ चर्चा कीजिए। उनका भरोसा जीतिए और जिम्मेदारियां तय कीजिए कि कौन क्या भूमिका निभाएगा जैसे अगर आप काम शुरू करती हैं तो आपकी अनुपस्थिति में आपके बच्चे की देखभाल कौन करेगा आदि। वैसे आपका बच्चा 3 साल का है तो आने वाले सत्र में आप उसे स्कूल में दाखिल कर सकती हैं। उसके स्कूल जाने के बाद आप भी अपने काम के लिए निकल जाएं। शुरुआत में आप किसी ऐसी संस्था का चुनाव करें जहां आपका और आपके बच्चे का समय मैच हो जाए। आप पार्ट-टाइम या सिंगल शिफ्ट वाली जाॅब को प्राथमिकता दीजिए। अगर आपने एडमिनिस्ट्रेशन सेक्टर में अनुभव प्राप्त किया है तो आप किसी स्कूल अथवा कोचिंग में बैक ऑफिस या काउंसलिंग का काम कर सकती हैं। रही बात आपके इंटरव्यू की तो आपको पता होना चाहिए कि सभी संस्थाओं में मातृत्व अवकाश का प्रावधान भी होता है तो फिर मातृत्व सुख के बाद वापसी का प्रावधान क्यों नही होगा? सम्भवतः अगर उस कम्पनी में नहीं तो किसी और में सही, लेकिन आपको सफलता जरूर मिलेगी। सुखद बात यह है कि आप अभी भी कॅरिअर को लेकर सजग हैं। आप सिर्फ ’उपाय’ पर केन्द्रित रहिए, समस्या अपने आप दूर हो जाएगी।


2.सवाल : मैं ग्रेजुएशन के प्रथम वर्ष में हूं। मेरा बचपन से ही सपना था कि मैं एक बॉलीवुड एक्टर बनूं। समय के साथ अब मेरी यह इच्छा इतनी बढ़ गई है कि मैं कुछ और सोच ही नहीं पा रहा हूं जबकि मेरे परिजन मुझे प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने के लिए प्रेरित करते हैं। कभी-कभी मेरा मन करता है कि मैं सब कुछ छोड़कर मुम्बई चला जाऊं। मैं बड़ी उलझन में हूं, कृपया मेरा मार्गदर्शन करें।-आदित्य, पटना

एक्यपर्ट ओपिनियन: एक्टिंग एक विधा है जिसमें भी पढ़े-लिखे लोगों की जरूरत होती है, क्योंकि किसी भी फिल्म के लिए स्क्रिप्ट को पढ़ना-समझना पड़ता है। एक्टिंग के क्षेत्र में प्रोफेशनल व्यवहार की आवश्यकता होती है, प्रेस-मीडिया इत्यादि से मिलना पड़ता है। इन सभी बातों के चलते अगर आप पढ़े-लिखे हों तो इस बात का आपको फायदा जरूर मिलेगा। इसके अतिरिक्त यह आप भी जानते हैं कि पढ़े-लिखे लोगों का सम्मान तो सब जगह होता है, इसलिए आप कम से कम अपनी ग्रेजुएशन तो पूरी  कीजिए। दूसरी बात, एक्टिंग को लेकर जब आपने इतना मन बना ही लिया है तो पढ़ाई के साथ-साथ अपने क्षेत्र के किसी थिएटर ग्रुप को भी जॉइन कर लीजिए ताकि आप एक्टिंग की बारीकियां समझ सकें। एक्टिंग में पारंगत हो सकें, इसके लिए आप नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (एनएसडी) जैसे देश के सर्वोच्च संस्थानों में एडमिशन ले सकते हैं। इसके साथ ही आप अपने सामान्य ज्ञान, रीडिंग एबिलिटी, पर्सनैलिटी डेवलपमेंट, वॉइस मॉड्युलेशन आदि पर भी ध्यान दीजिए। ध्यान रहे, किसी किरदार को पर्देया मंच पर उतारने के लिए आपकी पढ़ाई और समझ, दोनों काम आते हैं, इसलिए एक्टिंग को सिर्फ हीरोगिरी तक ही न समझें। आपको यह भी पता होना चाहिए कि पर्दे पर अपना रंग जमाने वाले नसीरुद्दीन शाह, ओम पुरी, अमिताभ बच्चन, मनोज बाजपेयी, जॉन अब्राहम जैसे कलाकारों ने भी बेसिक एजुकेशन पूरी की है। उम्मीद है कि आपको इस उत्तर से अपने आगे के मार्ग के लिए उचित प्रेरणा मिलेगी।


3.सवाल : मैं एक कॉलेज स्टूडेंट हूं और लेखक बनना चाहता हूं, लेकिन जब भी मैं किसी प्रकाशक को अपना लेख भेजता हूं तो वह रिजेक्ट हो जाता है। मैं फिल्म्स की स्क्रिप्ट्स भी लिखना चाहता हूं। मैं किस तरह इस क्षेत्र में आगेबढ़ सकता हूं, कृपया भविष्य के लिए मार्गदर्शन करें। -अशोक नेमा


एक्यपर्ट ओपिनियन : कहा जाता है कि अच्छा बोलने के लिए अच्छा सुनना जरूरी होता है, ठीक वैसे ही अच्छा लिखने के लिए अच्छा साहित्य पढ़ना भी जरूरी होता है। इससे आपको लेखन की शैली, भाषा के प्रयोग, विषय व ज्ञान पर पकड़ जैसी चीजें सीखने को मिलेंगी। आपको पता होगा कि हमारे देश में कालांतर में कितने बेहतरीन लेखक हुए हैं, उन कालजयी लेखकों को आपको पढ़ना चाहिए, साथ ही आज के संदर्भ को बेहतर तरीके से समझने के लिए आपको वर्तमान लेखकों को भी पढ़ना चाहिए। आपको अपने कॉलेज में होने वाली वाद-विवाद प्रतियोगिताओं में भाग लेना भी फायदेमंद होगा। यदि आपके कॉलेज स्तर पर किसी मैगजीन या न्यूजलैटर का प्रकाशन किया जाता है तो आपको अपनी रचनाएं उसमें प्रकाशित करवानी चाहिए। इस तरह धीरे-धीरे आपको स्वीकार्यता मिल सकेगी। इसके अतिरिक्त आप स्थानीय स्तर पर अन्य प्लेटफॉर्म्स की तलाश भी करते रहिए। ध्यान रखें, साहित्य लेखन लंबी पारी खेलने जैसा होता है। धीरे-धीरे आपको आगे बढ़ने के लिए मार्गदर्शन मिलता जाएगा। फिल्म्स या नाटकों के लिए स्क्रिप्ट लेखन की जानकारी जुटाने के लिए आप किसी थिएटर ग्रुप से जुड़ सकते हैं। अपना हौसला बनाए रखिए।


4.सवाल : अभी कुछ समय पहले ही मैंने एमबीए कम्प्लीट किया है। समस्या यह कि मैंने एमबीए से पहले इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन किया था, लेकिन अब मुझे यह समझ नही आ रहा है कि मुझे जॉब इंजीनियरिंग के आधार पर ढूंढनी चाहिए या एमबीए के आधार पर। कृपया मेरा मार्गदर्शन करें। -सुनिधि परन


एक्यपर्ट ओपिनियन: यदि आप इंजीनियरिंग के आधार पर नौकरी ढूंढती हैं तो इंटरव्यू में आपको दो प्रश्नों के उत्तर देने के लिए तैयार रहना चाहिए- पहला यह कि आपने इंजीनियरिंग के बाद एमबीए क्यों किया? और दूसरा यह कि क्या आप इंजीनियर के तौर पर खुद को सफल नहीं देखतीं? आपके प्रश्न से यह मालूम चलता है कि आप महत्वाकांक्षी हैं, लेकिन अच्छे कॅरिअर के लिए केवल महत्वाकांक्षी होना ही काफी नहीं होता। महत्वाकांक्षी होने के साथ-साथ आपको सही योजनाएं बनाने और उनके क्रियान्वयन पर भी ध्यान देना होगा। इंजीनियरिंग के बाद आपनेनिश्चित तौर पर कॅरिअर में कुछ अच्छे ऑप्शंस मिलने की उम्मीद लगाई होगी, इसलिए आपने आगे एमबीए किया होगा। आपको पता होना चाहिए कि एमबीए, प्रबंधन क्षेत्र की एक डिग्री है। इंजीनियरिंग के साथ इसका कॉम्बिनेशन तब और अच्छा बनता जब आप अपनी कोर ब्रांच की कम्पनी में एक-दो साल काम कर चुकी होतीं। इसके बाद आपके एमबीए करने से आपके लिए पद और वेतनवृद्धि, दोनों मिलने के मौके बढ़ जाते, लेकिन क्योंकि अभी तक जॉब नहीं की है तो आप किसी भी क्षेत्र से अपने कॅरिअर की शुरुआत कर सकती हैं। हालांकि आपको किसी भी सेक्टर की जॉब का चुनाव करते समय उस क्षेत्र से जुड़े सवालों के लिए तैयारी कर लेनी चाहिए।


5.सवाल : मैं एक किसान परिवार से हूं। मेरी उम्र 19 वर्ष है और मैं बीए द्वितीय वर्ष में अध्ययनरत हूं। मेरा सपना आईएएस बनना है, लेकिन पैसे और पर्याप्त संसाधनों की कमी के कारण मैं दिल्ली या कहीं और कोचिंग नहीं ले सकता। हालांकि मैं ऑनलाइन (यूट्यूब) और सेल्फ स्टडी माध्यमों से तैयारी कर रहा हूं। मेरे पिता ने भी मुझे तैयारी करने के लिए सिर्फ दो वर्ष का समय दिया है। क्या मैं बिना कोचिंग लिए भी आईएएस बन सकता हूं? इन सभी परिस्थितियों में मुझे क्या करना चाहिए, कृपया मार्गदर्शन करें।- महेन्द्र सौऊ, राजस्थान


एक्यपर्ट ओपिनियन: नदियां बहना शुरू करती हैं तो फिर राह के पत्थर कहां देखती हैं! जब आपने यह तय कर ही लिया है कि आपको आईएएस ही बनना है तो फिर अपने ही ऊपर शंका क्यों? मैं अक्सर आप जैसे स्टूडेंट्स से कहती हूं कि अपने सपनों को कुछ खास लोगों के अलावा किसी से साझा न करें, क्योंकि ज्यादातर लोग प्रेरित करने के बजाए राह की समस्याओं और शंकाओं के बारे में ही बात करते हैं। इससे अक्सर मनोबल टूट जाता है। आप चुपचाप सघन परिश्रम करें, सर्वोत्तम परिणाम अपने आप आएंगे और अपने परिवार को भरोसा दें कि आप सक्षम हैं। ध्यान रखें यदि हर कोई दिल्ली जाकर आईएएस बन जाता तो न जाने कितनी स्टूडेंट्स अब तक सिविल सर्वेंट्स बन चुके होते। मध्य प्रदेश के एक छोटे-से गांव का लड़का जिसके पिता वेतन के रूप में मात्र 350 रुपए प्रतिमाह पाते थे, अपनी मेहनत से आज कलेक्टर बन चुका है। सफलता किसी जगह, व्यक्ति या जाति की मोहताज नहीं होती, बस इसके लिए सही दिशा और मेहनत का चयन करना पड़ता है। आईएएस सिलेबस के अनुसार विषयों का चुनाव कर उन्हें यूनिट वाइज पढ़िए और समझिए। पिछले 5-10 वर्षों के प्रश्नपत्र सॉल्व कीजिए। आप मानसिक रूप से इस बात के लिए भी तैयार रहें कि यदि आप एक बार में सफल न हो पाएं तो आप फिर से परीक्षा देंगे। अपनी तैयारी पर यकीन रखिए और सकारात्मक सोचिए।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना