• अन्य शहर

चुनाव / तीन राज्यों में 41 मंत्री हारे: राजस्थान के 22 मंत्री अपनी सीट नहीं बचा पाए

Dainik Bhaskar

Dec 12, 2018, 04:55 PM IST


ministers of mp Rajasthan and Chhattisgarh lost  election
ministers of mp Rajasthan and Chhattisgarh lost  election
ministers of mp Rajasthan and Chhattisgarh lost  election
ministers of mp Rajasthan and Chhattisgarh lost  election
X
ministers of mp Rajasthan and Chhattisgarh lost  election
ministers of mp Rajasthan and Chhattisgarh lost  election
ministers of mp Rajasthan and Chhattisgarh lost  election
ministers of mp Rajasthan and Chhattisgarh lost  election
  • comment

  • मध्यप्रदेश : शिवराज कैबिनेट के 13 मंत्री हार गए, 2013 में 10 मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ा था
  • राजस्थान: वसुंधरा सरकार के 30 में से 8 मंत्री ही जीत पाए
  • छत्तीसगढ़: रमन सिंह समेत 4 ही मंत्री जीत सके

जयपुर/भोपाल/रायपुर.  मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने सत्ता गवां दी है। इन राज्यों में भाजपा सरकार के 41 मंत्री भी हार गए। इनमें मध्यप्रदेश के 13, राजस्थान के 20 और छत्तीसगढ़ के 8 मंत्री शामिल हैं। छत्तीसगढ़ में तो रमन सिंह कैबिनेट के सिर्फ चार मंत्री (मुख्यमंत्री समेत) अपनी सीट बचा पाए। राज्य में 12 मंत्री हैं। 
 

मध्यप्रदेश

 

  • शिवराज कैबिनेट में कुल 31 मंत्री थे। 13 मंत्री चुनाव हार गए। वजह एंटी-इनकम्बेंसी रही है। अगर 2013 के चुनावों की बात की जाए तो तब शिवराज सरकार के 10 मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ा था।
  • भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि टिकट वितरण में गड़बड़ी हुई। मोह के कारण कुछ लोगों के टिकट नहीं काटे गए, जिसका नुकसान हुआ। व्यक्तिगत एंटी-इनकम्बेंसी थी, इसलिए हमने बाद में 200 पार के नारे को बदलकर चौथी बार शिवराज का नारा दिया था। 

 

मप्र में ये मंत्री हारे

नाम विधानसभा क्षेत्र 
उमाशंकर गुप्ता दक्षिण-पश्चिम
शरद जैन जबलपुर उत्तर
जयभान पवैया ग्वालियर सीट
दीपक जोशी हाटपीपल्या
अंतरसिंह आर्य सेंधवा
ललिता यादव बड़ा मलहरा
रुस्तम सिंह मुरैना
ओमप्रकाश धुर्वे शहपुरा
बालकृष्ण पाटीदार खरगोन
लाल सिंह आर्य गोहद
केदार कश्यप नारायणपुर
अर्चना चिटनीस बुरहानपुर

 

 

राजस्थान

 

वसुंधरा राजे सरकार के आधे से ज्यादा मंत्री हार गए। वंसुधरा समेत 30 मंत्रियों (दो मंत्रियों ने बेटों को टिकट दिलाया था) में से सिर्फ 8 ही दोबारा विधानसभा पहुंचने में कामयाब हो पाए। इनमें 4 मंत्री वे भी हैं, जो टिकट नहीं मिलने पर भाजपा से बागी होकर मैदान में उतरे थे।


ये मंत्री हारे

 

नाम

विधानसभा क्षेत्र

अरुण चतुर्वेदी

सिविल लाइन्स

राजपाल सिंह

झोटवाड़ा

प्रभुलाल सैनी

अंता

यूनुस खान

टोंक

अजय सिंह

डेगाना

राम प्रताप

हनुमानगढ़

गजेंद्र सिंह

लोहावट

श्रीचंद कृपलानी

निंबाहेड़ा

अमराराम

पदपचरा

कृष्णेंद्र कौर

नदबई

ओटाराम देवासी

सिरोही

सुनील कटारा

चौरासी

बंसीधर बाजिया

खंडेला

कमसा मेघवाल

भोपालगढ़

सुरेंद्र पाल

श्रीकरणपुर

बाबूलाल वर्मा बारां-अटरू
राजकुमार रिणवा रतनगढ़ 
सुरेंद्र गोयल जैतारण
हेम सिंह भड़ाना  थानागाजी
धनसिंह रावत बांसवाड़ा

 

 

छत्तीसगढ़
मुख्यमंत्री रमन सिंह के अलावा चुनावों में कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर, खाद्य मंत्री पुन्नू लाल मोहिले ही अपनी सीटें बचा पाए।  

 

ये मंत्री हारे

 

नाम विधानसभा क्षेत्र 
राजेश मूणत रायपुर पश्चिम
प्रेमप्रकाश पांडेय भिलाई नगर
भैयालाल राजवाड़े बैकुंठपुर
रामसेवक पैकरा प्रतापपुर
अमर अग्रवाल  बिलासपुर
दयालदास बघेल नवागढ़
केदार कश्यप नारायणपुर
महेश गागड़ा बीजापुर

COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन