पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खड़गपुर से ग्राउंड रिपोर्ट, जहां आज वोटिंग है:यहां TMC के कैंडिडेट प्रदीप सरकार भगवा कपड़े पहनते हैं; उनके होर्डिंग भी भगवा रंग के, कहते हैं- भगवा BJP की संपत्ति नहीं

खड़गपुरएक महीने पहलेलेखक: विशाल पाटडिया
  • कॉपी लिंक
खड़गपुर सदर सीट के लिए आज वोट डाले जा रहे हैं। यहां भाजपा और तृणमूल में सीधी लड़ाई है। इसे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष का गढ़ माना जाता है। - Dainik Bhaskar
खड़गपुर सदर सीट के लिए आज वोट डाले जा रहे हैं। यहां भाजपा और तृणमूल में सीधी लड़ाई है। इसे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष का गढ़ माना जाता है।
  • प्रदीप सरकार महेंद्र सिंह धोनी के दोस्त हैं, उन पर बनी फिल्म में भी वे नजर आए थे
  • 2016 में यह सीट बीजेपी ने जीती थी, लेकिन बाद में उपचुनाव में प्रदीप बड़े अंतर से जीते

खड़गपुर सदर सीट पर BJP ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, शुभेंदु अधिकारी, पीयूष गोयल, मनोज तिवारी, दिलीप घोष जैसे स्टार प्रचारक BJP के लिए प्रचार कर चुके हैं। TMC के उम्मीदवार और स्थानीय युवा प्रदीप सरकार ने यहां BJP की नींद उड़ा दी है। इस सीट पर हुए उपचुनाव में उन्होंने 20 हजार मतों से जीत हासिल की थी। ये जीत इसलिए अहम थी, क्योंकि लोकसभा चुनाव में इसी सीट पर BJP को 45 हजार वोटों की लीड मिली थी।

ये सीट BJP के लिए अब प्रतिष्ठा का सवाल भी बन गई है, क्योंकि साल 2016 के विधानसभा चुनावों में BJP ने जो सीटें जीतीं थीं, उनमें ये भी शामिल है। दिलीप घोष ने यहां से जीत हासिल की थी। प्रदीप सरकार खेल में रुचि रखते हैं और खड़गपुर सदर में क्रिकेट टूर्नामेंट कराने के लिए जाने जाते हैं। यहां वे कपिल देव, अजहरुद्दीन, सनथ जयसूर्या, एमएस धोनी जैसे बड़े खिलाड़ियों को खेलने के लिए बुला चुके हैं। वे धोनी के दोस्त भी हैं क्योंकि धोनी खड़गपुर में ही टीटी हुआ करते थे। प्रदीप सरकार एमएस धोनी पर बनी फिल्म में भी दिख चुके हैं। उन्होंने फिल्म के एक सीन में धोनी को ट्रॉफी थमाई थी।

खड़गपुर सदर सीट को जीतने के लिए भाजपा ने पूरा जोर लगा रखा है। जगह-जगह भाजपा के बैनर-पोस्टर नजर आ रहे हैं।
खड़गपुर सदर सीट को जीतने के लिए भाजपा ने पूरा जोर लगा रखा है। जगह-जगह भाजपा के बैनर-पोस्टर नजर आ रहे हैं।

खड़गपुर सदर में एक अप्रैल को मतदान होना है। प्रधानमंत्री मोदी भी इस सीट को अहमियत दे रहे हैं। उन्होंने IIT खड़गपुर के दीक्षांत समारोह में हिस्सा लिया था और यहां एक मल्टीस्पेशिलिटी हॉस्पिटल का उद्घाटन भी किया था।

यहां 30% वोटर तेलुगु हैं

खडगपुर को मिनी इंडिया भी कहा जाता है क्योंकि यहां भारत के लगभग सभी प्रांतों के लोग रहते हैं। यहां आंध्र प्रदेश, तेलंगना, राजस्थान, ओडिशा, गुजरात, उत्तर प्रदेश और बिहार के लोग भी बड़ी तादाद में रहते हैं। यहां तेलुगु भाषी लोगों की आबादी 30% है जो बांग्लाभाषियों के बाद सबसे ज्यादा हैं। भास्कर ने एक स्थानीय तेलुगु पार्षद से बात की। उनका कहना था, 'हम यहां दशकों से रह रहे हैं क्योंकि हमारे पूर्वज रेलवे में नौकरी करने यहां आए थे। हालांकि अब सरकार पहले की तरह नौकरियां नहीं देती है।'

विकास का सबसे बड़ा मुद्दा है रेलनगर

पिछले महीने प्रधानमंत्री ने खड़गपुर में रैली की थी। उन्होंने यहां पांच बार बांग्ला बोला था। और बंगाली अस्मिता का मुद्दा उठाया था।
पिछले महीने प्रधानमंत्री ने खड़गपुर में रैली की थी। उन्होंने यहां पांच बार बांग्ला बोला था। और बंगाली अस्मिता का मुद्दा उठाया था।

खड़गपुर दो चीजों के लिए जाना जाता है। एक तो सबसे लंबा रेलवे प्लेटफॉर्म और दूसरा यहां का IIT। यहां रेलवे परिसर शहर के बीचोबीच है जिसे लेकर राज्य और केंद्र सरकार के बीच विवाद भी रहता है। TMC विधायक प्रदीप सरकार कहते हैं, 'रेलवे का इलाका कई सालों से विकास से वंचित है क्योंकि केंद्र सरकार यहां बिजली, सड़क, पानी आदि की परियोजनाओं का काम नहीं होने देती है। रेलवे ने नौकरियां देना भी बंद कर दिया है जो कि एक बड़ा मुद्दा है।'

सरकार को प्रिय है भगवा

प्रदीप सरकार हैं तो TMC पार्टी से, लेकिन उनका रंग भगवा है। वे भगवा रंग का ही कुर्ता पहनते हैं और शहर में लगे उनकी होर्डिंग का रंग भी भगवा ही है। जब उनसे पूछा गया कि क्या वो BJP के लोगों को रिझाने के लिए ऐसा करते हैं तो उन्होंने कहा, 'भगवा BJP की संपत्ति नहीं है। मैं भी हिंदू हूं और मुझे भी भगवा पहनने के सभी अधिकार हैं। विवेकानंद भी तो भगवा रंग ही पहनते थे।'

प्रदीप सरकार के बड़े-बड़े कटआउट्स लगे हैं। वे पिछली बार उपचुनाव में यहां से जीते थे। उन्होंने भाजपा के उम्मीदवार को हराया था।
प्रदीप सरकार के बड़े-बड़े कटआउट्स लगे हैं। वे पिछली बार उपचुनाव में यहां से जीते थे। उन्होंने भाजपा के उम्मीदवार को हराया था।

ममता प्रदीप को अपनी कार से विधानसभा लेकर गईं थीं

प्रदीप सरकार ने जब साल 2019 का विधानसभा उपचुनाव जीता था तब वो ममता बनर्जी से मिलने पहुंचे थे। तब ममता बनर्जी उन्हें अपनी कार में बिठाकर विधानसभा लेकर गईं थीं। उस समय ये बड़ी खबर बनी थी। सरकार कहते हैं, 'ये मेरे लिए गर्व का वो पल था जिसे मैं जिंदगी भर नहीं भूल सकता हूं।'

खड़गपुर सदर की बदकिस्मती

खड़गपुर सदर को लेकर ये भी कहा जाता है कि जो भी पार्टी यहां जीतती है, वह सरकार नहीं बना पाती है। 2016 में BJP के दिलीप घोष यहां से जीते थे। 2011 में ये सीट कांग्रेस के पास थी। अब देखना ये होगा कि इस बार खड़गपुर सदर की बदकिस्मती का ये सिलसिला टूटता है या नहीं।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

और पढ़ें