पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Election 2021
  • West bengal
  • Election Commission Rejects West Bengal CM Mamata Banerjee Allegations | Disruption In Polling At Booth In Nandigram Assembly Constituency, Nandigram Assembly Constituency, Assembly Election 2021, WB Assembly Election 2021

बंगाल की CM को EC का जवाब:चुनाव आयोग ने ममता के आरोपों को खारिज किया; कहा- नंदीग्राम के पोलिंग बूथ पर धांधली की बात में सच्चाई नहीं

कोलकाता3 महीने पहले
पश्चिम बंगाल में दूसरे चरण की वोटिंग के दौरान 1 अप्रैल को ममता ने चुनाव आयोग से चिट्ठी लिखकर शिकायत की थी कि बूथ नंबर-7 में सेंट्रल फोर्स के जवानों ने वोटर को वोट डालने नहीं दिया।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नंदीग्राम में पोलिंग बूथ पर धांधली की शिकायत के बाद चुनाव आयोग (EC) ने रविवार को जवाब दिया। अपने जवाब में चुनाव आयोग ने ममता के सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। आयोग ने कहा कि ममता ने जो आरोप लगाए थे, उनमें कोई सच्चाई नहीं पाई गई। EC ने कहा कि BSF जवानों की ओर से वोटिंग के दौरान गड़बड़ी किए जाने का भी कोई सबूत नहीं मिला है। इस दौरान कोई बाहरी व्यक्ति पोलिंग बूथ के अंदर नहीं गया, जिससे पोलिंग प्रभावित हो सके।

चुनाव आयोग ने पूरी टाइमलाइन जारी की
ममता ने नंदीग्राम में प्राइमरी स्कूल में बने बूथ नंबर-7 में गड़बड़ी होने का आरोप लगाया था। जिसके बाद आयोग ने इसके जवाब में पूरी टाइमलाइन जारी की। इसमें सुबह 5.30 बजे की मॉकड्रिल से लेकर सुबह 7 बजे से वोटिंग शुरू होने और शाम तक वोटिंग खत्म होने तक का सिलसिलेवार ब्योरा दिया गया है। आयोग ने कहा कि बूथ नंबर-7 में वोटिंग शुरू होने से पहले वहां मौजूद सभी प्रमुख राजनीतिक पार्टियों के पोलिंग एजेंट्स की मौजूदगी में मॉकड्रिल हुई और उसके बाद वोटिंग हुई।

सेंट्रल फोर्स की भी कोई गलती नहीं : EC
आयोग ने कहा कि ड्यूटी के दौरान सेंट्रल फोर्स के जवान न बूथ के अंदर गए और न ही किसी वोटर को अंदर जाने से रोका। चुनाव आयोग ने अपने 6 पेज के जवाब के साथ ममता की चिट्ठी भी सार्वजनिक की है, जो उन्होंने आयोग को लिखी थी।

क्या है पूरा मामला?
बंगाल में दूसरे चरण की वोटिंग के दौरान 1 अप्रैल को ममता ने चुनाव आयोग से चिट्ठी लिखकर शिकायत की थी कि बूथ नंबर-7 में सेंट्रल फोर्स के जवानों ने वोटर को वोट डालने नहीं दिया। उस दिन ममता बूथ के बाहर धरने पर भी बैठ गई थीं। उन्होंने आरोप लगाया था कि बूथ पर भाजपा ने बंदूकधारी गुंडे भी बुलाए थे। उन्होंने कहा था कि शिकायत के बाद भी चुनाव आयोग कोई कार्रवाई नहीं कर रहा। अगर ऐसा जारी रहा, तो वे मामले को लेकर कोर्ट जाएंगी।

खबरें और भी हैं...