• Hindi News
  • Election 2022
  • Exit Poll Result 2022 LIVE Updates; Yogi Adityanath Akhilesh Yadav | Uttar Pradesh Punjab Goa Uttarakhand Manipur Assembly Election Exit Poll

5 राज्यों का मेगा एग्जिट पोल:BJP का यूपी गढ़ अभेद रहने के आसार; पंजाब से कांग्रेस बेदखल, AAP सबसे बड़ी पार्टी

7 महीने पहले

सबके लिए सबसे जरूरी खबर आ चुकी है, यानी 5 राज्यों के नतीजों से पहले उन पर बातें करने की सबसे बड़ी वजह… एग्जिट पोल

सबने सब तरह की बातें की हैं, लेकिन एक बात सबने की है- यूपी में योगीराज बरकरार रहेगा। हमने करीबन 10 एग्जिट पोल देखे, सब योगी के साथ हैं। पंजाब आप का हो सकता है। गोवा हंग असेंबली की ओर है, उत्तराखंड में आधे भाजपा की तो आधे कांग्रेस की सरकार बना रहे। मणिपुर भाजपा के हाथ में ही रह सकता है।

अब हम सब बातें करते रहें, दो दिन और, यानी 10 तारीख तक। फाइनल रिजल्ट उसी दिन जो आने हैं।

पहले बात यूपी की, जहां योगी का राजयोग

यूपी चुनाव के 10 से ज्यादा एग्जिट पोल में भाजपा को स्पष्ट बहुमत दिया गया है। इनमें भाजपा को 212 से 326 सीटें दी गईं। 2017 के चुनाव में भाजपा को 312 सीटें मिली थीं। यानी भाजपा पिछला प्रदर्शन नहीं दोहरा रही, पर सरकार तो बना रही है। इसके लिए 202 नंबर ही चाहिए। (यूपी के पोल ऑफ पोल्स को पढ़ने के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं…)

UP पर 300 करोड़ से ज्यादा का सट्‌टा, भाजपा को 230 तक सीटें दे रहे सटोरिए
यूपी चुनाव को लेकर सट्टा बाजार में भी भाजपा का भाव हाई है। यहां का ट्रेंड कह रहा कि भाजपा पहले नंबर पर और सपा दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बन रही है। भास्कर ने राजस्थान का फलौदी सट्‌टा बाजार, मध्य प्रदेश, गुजरात, दिल्ली और मुंबई के सट्‌टा बाजारों के सटोरियों से बात कर ये सब जाना। (सट्टा बाजारों का रुझान जानने के लिए यहां क्लिक करें...)

यूपी की 403 सीटों का एनालिसिस: अबकी बार 2017 से 0.94% कम वोटिंग
यूपी चुनाव में 60.31% वोटिंग हुई है। 2017 में 61.28% मतदान हुआ था। यानी इस बार पिछले चुनाव से 0.94% कम मतदान हुआ है। 2012 में 59.5% मतदान हुआ था। यानी 2017 में 1.2% मतदान में इजाफा होने पर भाजपा को 265 सीटों का फायदा हुआ था। (यूपी का एनालिसिस पूरा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...)

UP में वोट शेयर और जातीय गणित के दावे
माना जा रहा है कि यूपी में इस बार भाजपा+ को 43%, सपा+ को 35%, बसपा को 13% और कांग्रेस को 4% वोट शेयर मिल सकते हैं। 2017 में भाजपा+ का वोट शेयर 41.7% और सपा का वोट शेयर 22% था। चाणक्य के अनुसार भाजपा को 64% ओबीसी, 45% एससी और 34% जाटव वोट मिलने का दावा किया जा रहा है।

वहीं, सपा को 76% मुस्लिम, 73% यादव वोट मिलने का दावा किया जा रहा है। बसपा को 47% जाटव व 28% एससी वोट मिस सकते हैं।

पंजाब में भास्कर एग्जिट पोल सही तो 53 साल बाद स्पष्ट बहुमत नहीं

पंजाब में भास्कर एग्जिट पोल में किसी भी पार्टी को 59 नंबर, यानी बहुमत नहीं मिल रहा। अगर ये हुआ तो 53 साल बाद ऐसा होगा। इससे पहले 1969 में यहां त्रिशंकु टंगा था। इस बार 117 सीटों में से आप को 38 से 44 सीटें मिल सकती हैं। लेकिन सबसे बड़ी पार्टी यही बनेगी। (भास्कर एग्जिट पोल पढ़ने के लिए यहां आ सकते हैं...)

पंजाब में वोट शेयर और जातीय गणित के दावे
माना जा रहा है कि पंजाब में इस बार आप को 41%, कांग्रेस को 23%, अकाली दल को 18%, भाजपा- कैप्टन गठजोड़ को 7% वोट शेयर मिल सकते हैं। अनुमान के मुताबिक 47% जट्‌ट सिख और 52% दलित वोट आप को मिल सकते हैं। वहीं, 27% दलित और 24% ओबीसी वोट कांग्रेस को मिलने का अनुमान जताया गया है।

पंजाब, गोवा, उत्तराखंड और मणिपुर का पोल ऑफ पोल्स देखिए ग्राफिक्स में...

भास्कर इंडेप्थ: बिहार-हरियाणा और बंगाल में औंधे मुंह गिरे थे सभी पोल, जानिए इनका सच
सवाल यह उठता है कि क्या ये एग्जिट पोल भरोसे के लायक हैं? इसकी पड़ताल के लिए हमने पिछले 5 बड़े चुनावों के एग्जिट पोल का एनालिसिस किया है। आप जानकर हैरान रह जाएंगे कि इन 5 में से 4 चुनावों में एग्जिट पोल खोखले साबित हुए हैं। (एग्जिट पोल्स का एनालिसिस पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...)

20 साल में 37 बड़े एग्जिट पोल, जानिए उनमें से सबसे अहम 6 का हाल
1. 1999 में हुए चुनाव में ज्यादातर एग्जिट पोल्स ने NDA की बड़ी जीत दिखाई थी। उन्होंने NDA को 315 से ज्यादा सीटें दी थीं। नतीजों के बाद NDA को 296 सीटें मिली थीं।
2. 2004 में एग्जिट पोल पूरी तरह से फेल साबित हुए। अनुमानों में दावा किया गया था कि कांग्रेस की वापसी नहीं हो रही। सभी ने भाजपा को बहुमत मिलता दिखाया था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। NDA को 200 सीट भी नहीं मिल सकीं। इसके बाद कांग्रेस ने सपा और बसपा के साथ मिलकर केंद्र में सरकार बनाई।
3. 2009 में भी एजेंसियों ने UPA को 199 और NDA को 197 सीटें मिलने के कयास लगाए गए थे, लेकिन UPA ने 262 सीटें हासिल की थीं। NDA 159 सीटों पर सिमटकर रह गया था।
4. 2014 में एग्जिट पोल्स ने NDA को बहुमत मिलता दिखाया था। एक एजेंसी ने भाजपा को 291 और NDA को 340 सीटें मिलने का कयास लगाया था। नतीजा, अनुमान के काफी करीब रहा। भाजपा को 282 और NDA को 336 सीटें मिलीं।
5. 2019 के लोकसभा चुनाव की बात करें तो 10 एग्जिट पोल्स में NDA को दी गई सीटों का औसत 304 था। यानी NDA को दोबारा सत्ता मिलने का अनुमान ठीक था, लेकिन यहां भी सीटों के मामले में अनुमान गड़बड़ हो गए। नतीजों में NDA की बजाय अकेले भाजपा को 303 सीटें मिलीं। NDA के खाते में 351 सीटें आईं।
6. बिहार के विधानसभा चुनाव के वक्त भास्कर का एग्जिट पोल सबसे सटीक रहा था। भास्कर ने NDA को 120 से 127 सीटें मिलने का अनुमान जताया था। नतीजों में NDA को 125 सीटें मिलीं। जबकि ज्यादातर चैनलों के एग्जिट पोल में महागठबंधन की सरकार बनने का अनुमान जताया गया था।