रो पड़े रावत:उत्तराखंड में कैबिनेट मंत्री रहे हरक सिंह रावत फूट-फूटकर रोए, मंत्रिमंडल से बर्खास्तगी और पार्टी से निकालने का दर्द छलका

नई दिल्ली6 महीने पहले

उत्तराखंड में कैबिनेट मंत्री रहे हरक सिंह रावत भाजपा से निकाले जाने पर दुखी हैं। पार्टी से निकाले जाने के बाद हरक सिंह रावत एक इंटरव्यू के दौरान फूट-फूटकर रोते हुए दिखाई दे रहे हैं। उन्होंने कहा, 'BJP ने इतना बड़ा फैसला लेने से पहले मुझसे एक बार भी बात नहीं की। मुझे मंत्री बनने में ज्यादा दिलचस्पी नहीं है, मैं सिर्फ काम करना चाहता था। मैं इतने दिनों से घुटन में जी रहा था। अब उत्तराखंड के लोगों के लिए खुलकर काम करूंगा।'

कल देर रात उन्हें मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया था। BJP ने भी 6 साल के लिए उनकी पार्टी सदस्य खत्म कर दी है। इसके बाद अब हरक सिंह रावत ने बीजेपी पर हमला बोला है, साथ ही साथ यह भी साफ किया कि वह कांग्रेस के लिए काम करेंगे।

उत्तराखंड में बन रही कांग्रेस की सरकार
हरक सिंह रावत ने दावा किया कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बन रही है। वह बोले कि मैं नहीं भी जॉइन करता तो भी कांग्रेस की सरकार आती। उत्तराखंड के लोगों ने मन बना लिया है कि राज्य में कांग्रेस की सरकार लानी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेताओं से उनकी बात हुई है, हालांकि, अभी सोनिया गांधी से वह नहीं मिले हैं।

कुछ दिन पहले कैबिनेट मीटिंग में दिया था इस्तीफा
कुछ दिन पहले कैबिनेट मीटिंग में इस्तीफा देने के बाद मना लिए गए वरिष्ठ मंत्री हरक सिंह रावत को पार्टी ने रविवार को बाहर का रास्ता दिखा दिया। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री कार्यालय ने देर रात बयान जारी कर बताया कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उन्हें अपने मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया है और इसकी जानकारी राज्यपाल को भी भेज दी है। वहीं, रावत को 6 साल के लिए भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से भी बर्खास्त कर दिया गया है।

हरक सिंह रावत ने इससे पहले भी अपने इलाके में सुविधाओं की मांग करते हुए इस्तीफा दे दिया था। हालांकि, उस समय भाजपा आलाकमान के दखल देने से वे मान गए थे। इसके बाद भी चर्चा चल रही थी कि उनके और CM धामी के बीच खींचतान खत्म नहीं हुई है।

रिश्तेदारों के लिए मांग रहे थे टिकट
सूत्रों के मुताबिक, हरक सिंह अपने परिवार के लिए विधानसभा चुनावों में तीन सीटों पर अपने रिश्तेदारों व खुद के लिए टिकट मांग रहे थे। इनमें से एक टिकट वह अपनी पुत्रवधू अनुसूया को दिलाना चाहते थे, लेकिन पार्टी एक परिवार-एक टिकट के फॉर्मूले पर ही अड़ी थी। हरक सिंह इसके खिलाफ राज्य में टिकट वितरण के लिए चल रही मीटिंग में भी शामिल नहीं हुए। इसके चलते उनके खिलाफ यह कार्रवाई की गई है। हालांकि, एक मीडिया चैनल से बातचीत में हरक सिंह रावत ने कहा कि उन्हें अभी तक पार्टी की तरफ से अपनी बर्खास्तगी की कोई जानकारी नहीं दी गई है।

आज शामिल हो सकते हैं कांग्रेस में
सूत्रों ने यह भी कहा है कि हरक सिंह रावत सोमवार को कांग्रेस में वापसी कर सकते हैं। कांग्रेस सूत्रों ने भी कहा है कि सोमवार को हरक सिंह रावत दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय पहुंचकर पार्टी की सदस्यता लेंगे। इस दौरान उनके साथ भाजपा के 2 से 3 मौजूदा विधायक भी कांग्रेस की सदस्यता लेंगे। पिछले विधानसभा चुनाव से ठीक पहले हरक सिंह ने कांग्रेस का मंत्री पद छोड़कर ही कई अन्य विधायकों को साथ लेकर भाजपा की सदस्यता ली थी।

रविवार शाम को दिल्ली पहुंचे थे शाह और नड्डा से मिलने
सूत्रों के मुताबिक, अपने रिश्तेदारों को टिकट नहीं मिलने से नाराज हरक सिंह रावत रविवार शाम को दिल्ली पहुंच गए थे। यहां वे पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह से मिलने पहुंचे। उनके साथ रायपुर सीट से विधायक उमेश शर्मा काऊ भी थे, जिन्होंने कुछ दिन पहले हरक सिंह के कैबिनेट से इस्तीफा देने पर अपना विधायक पद छोड़ने की घोषणा कर दी थी। सूत्रों का कहना है कि इस बैठक में उन्हें पार्टी प्रबंधन से कोई खास आश्वासन नहीं मिला था। इसके बाद उन्होंने कांग्रेस के कुछ नेताओं से मुलाकात की थी, जिस पर पार्टी प्रबंधन नाराज था।

खबरें और भी हैं...