लोकसभा चुनाव / दूसरा चरण: भाजपा ने 23% टिकट उद्योगपतियों और कांग्रेस ने 15% टिकट नेताओं के रिश्तेदारों को दिए



lok sabha election second phase candidates background analysis
X
lok sabha election second phase candidates background analysis

  • 18 अप्रैल को दूसरे चरण का मतदान, 13 राज्यों में 95 सीटों के लिए होगी वोटिंग
  • भाजपा ने सबसे ज्यादा 12 ऐसे नेताओं को टिकट दिए जो उद्योग या कारोबार चलाते हैं
  • कांग्रेस और द्रमुक ने 7-7 टिकट नेताओं के रिश्तेदारों को दिए

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2019, 08:48 AM IST

नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव के तहत दूसरे चरण की वोटिंग 18 अप्रैल को होगी। इसमें 13 राज्यों की 95 सीटों पर मतदान होगा। दैनिक भास्कर प्लस ऐप ने इन 95 सीटों के 201 प्रमुख उम्मीदवारों का विश्लेषण किया तो पाया कि 43 प्रत्याशी ऐसे हैं जो उद्योगपति-कारोबारी हैं। 29 ऐसे उम्मीदवार भी हैं, जिन्हें परिवारवाद की वजह से टिकट मिला है। दूसरे चरण में भाजपा 51 और कांग्रेस 46 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। इसमें से भाजपा ने 12 सीटों पर उद्योगपतियों और कांग्रेस ने 7 सीटों पर परिवारवाद को तरजीह दी है।

 

दूसरे चरण में सबसे ज्यादा कर्नाटक-तमिलनाडु की 53 सीटों पर वोटिंग
राज्यवार कितनी सीटों पर वोटिंग: 18 अप्रैल को कर्नाटक की 14, तमिलनाडु की 39, महाराष्ट्र की 10, उत्तर प्रदेश की 8, असम की 5, बिहार की 5, ओडिशा की 5, पश्चिम बंगाल की 3, छत्तीसगढ़ की 3, जम्मू-कश्मीर की 2, मणिपुर की 1, त्रिपुरा की 1 और पुड्डुचेरी 1 सीट पर मतदान होगा।

 

प्रीतम मुंडे को दोबारा टिकट 
भाजपा ने ओडिशा की बोलांगीर सीट से वहां के पूर्व महाराजा और भाजपा नेता कनकवर्धन सिंह की पत्नी संगीता कुमारी सिंह को टिकट दिया है, जबकि 2014 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए रामकृष्णा पटनायक की बेटी अनीता शुभदर्शिनी को कंधमाल से उम्मीदवार बनाया है। महाराष्ट्र की बीड सीट से भाजपा के दिवंगत नेता गोपीनाथ मुंडे की बेटी प्रीतम मुंडे दोबारा चुनाव लड़ रही हैं। कांग्रेस ने बिहार की पूर्णिया सीट पर यहां से दो बार सांसद रहीं माधुरी सिंह के बेटे उदय सिंह को टिकट दिया है। कर्नाटक की बेंगलौर ग्रामीण से डीके शिवकुमार के भाई डीके सुरेश और तमिलनाडु की शिवगंगा सीट से पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को उतारा है।

 

कर्नाटक में पूर्व प्रधानमंत्री और उनके दो पोते मैदान में
दूसरे चरण में कर्नाटक की 14 सीटों पर वोटिंग होनी है। कर्नाटक में मुकाबला भाजपा और कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के बीच है। इन 14 सीटों में से भाजपा ने तीन सीटों पर उद्योगपतियों को टिकट दिया है, जबकि मांड्या सीट पर अभिनेत्री ए. सुमालता निर्दलीय लड़ रही हैं लेकिन उन्हें भाजपा ने समर्थन दिया है। ए. सुमालता के पति अंबरीश भी कन्नड़ एक्टर हैं। वे कर्नाटक की कांग्रेस सरकार में मंत्री भी रहे हैं। वहीं, जेडीएस के संस्थापक और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा और उनके दो पोते भी चुनाव लड़ रहे हैं। एचडी देवेगौड़ा जहां तुमकुर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं, वहीं उनके पोते- प्रज्ज्वल रेवेन्ना हासन से और निखिल गौड़ा मांड्या से उम्मीदवार हैं।

 

दूसरे चरण की सीटों पर किस तरह बंटे टिकट

मुख्य पार्टियां परिवारवाद उद्योगपति-कारोबारी किसान
भाजपा 4 12 5
कांग्रेस 7 7 10
अन्नाद्रमुक 4 4 1
द्रमुक 7 7 3
जदयू 0 0 3
शिवसेना 0 4 1
बसपा 0 2 1
राकांपा 1 2 0
बीजद 2 0 2
अन्य 4 5 4
कुल 29 43 30

 

तमिलनाडु में डिप्टी सीएम के बेटे चुनाव लड़ रहे
तमिलनाडु में भी उप-मुख्यमंत्री और अन्नाद्रमुक के संयोजक ओ. पन्नीरसेल्वम के बेटे रबींद्रनाथ कुमार, थेनी सीट से पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं। जबकि, तिरुनेलवेली सीट से अन्नाद्रमुक ने तमिलनाडु विधानसभा के पूर्व स्पीकर और लोकसभा सांसद पीएच पांडियन के बेटे पॉल मनोज पांडियन को टिकट दिया है। वहीं, तुतुकुड़ी सीट से द्रमुक ने करुणानिधि की बेटी कनिमोझी को उम्मीदवार बनाया है। तमिलनाडु में अन्नाद्रमुक 22 और द्रमुक 23 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। इसमें अन्नाद्रमुक और द्रमुक ने 4-4 सीटों पर परिवारवाद को तरजीह दी है।

 

भाजपा ने असम की मंगलदोई सीट से बिजनेसमैन दिलीप सैकिया और नौगांव से रुपक शर्मा को टिकट दिया है। कर्नाटक की चित्रदुर्गा सीट से उद्योगपति ए. नारायणस्वामी और चामराजनगर से कारोबारी श्रीनिवास प्रसाद को उम्मीदवार बनाया है। इसके अलावा कर्नाटक की बेंगलौर मध्य, महाराष्ट्र की अकोला और लातूर, उत्तर प्रदेश की बुलंदशहर, अलीगढ़ और फतेहपुर-सीकरी सीट से भी उद्योगपति-कारोबारी को टिकट दिया है। वहीं, कांग्रेस ने असम की करीमगंज, बिहार की किशनगंज, उत्तर प्रदेश की मथुरा, कर्नाटक की बैंग्लोर मध्य, महाराष्ट्र की नांदेड़, लातूर और तमिलनाडु की कन्याकुमारी सीट से उद्योगपति-कारोबारी को प्रत्याशी बनाया है।

 

4 राज्यों की 24 सीटों पर 13 उद्योगपति उम्मीदवार
दूसरे चरण में चार राज्य- असम, बिहार, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र की 24 सीटों पर वोटिंग होनी है। इनमें से भाजपा ने 7 और कांग्रेस ने 6 सीटों पर ऐसे उम्मीदवारों को उतारा है जो उद्योगपति हैं। इसके साथ ही उत्तरप्रदेश की 8 सीटों पर भी वोटिंग होगी। इनमें से 4 सीटों पर भाजपा और दो सीटों पर बसपा ने उद्योगपतियों को उम्मीदवार बनाया है। इन 5 राज्यों की 32 सीटों में सिर्फ 5 सीटों पर परिवारवाद को तरजीह दी गई है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना