भाजपा दफ्तर से / पार्टी ऑफिस में कार्यकर्ताओं से ज्यादा प्रवक्ता, एक नेता ने कहा- अमित शाह की वजह से मिल रहीं ज्यादा सीटें

मतगणना के दौरान सुबह करीब 11 बजे दिल्ली भाजपा प्रदेश कार्यालय का नजारा कुछ ऐसा था।
X

  • 2015 चुनाव में भाजपा को महज तीन सीटें मिली थीं, इस बार पार्टी पांच गुना सीटों पर बढ़त बनाती दिख रही है
  • भाजपा ने मीडिया के लिए चाय-नाश्ते का भी इंतजाम किया, मीडिया की मौजूदगी कार्यकर्ताओं से ज्यादा

शिव ठाकुर

शिव ठाकुर

Feb 11, 2020, 11:23 PM IST

नई दिल्ली. दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कुछ दिनों पहले एक ट्वीट में दावा किया था कि उनकी पार्टी 55 से ज्यादा सीटें जीतेगी। हालांकि, नतीजे इसके उलट आए। मतगणना शुरू होने के बाद देर शाम तक भाजपा की दिल्ली इकाई का दफ्तर सूना नजर आया। वहां टीवी चैनलों से बातचीत के लिए प्रवक्ता तो मुस्तैद थे, लेकिन कार्यकर्ता गिने-चुने ही दिखे। एक नेता बढ़त का श्रेय अमित शाह को देते नजर आए। 

आप से दोगुना ऑफिस
14 पंत मार्ग पर मौजूद भाजपा के दफ्तर में सिर्फ ग्राउंड फ्लोर है। आकार के लिहाज से यह आप के दफ्तर से करीब दोगुना है। यह ऑफिस सिर्फ भाजपा की दिल्ली इकाई इस्तेमाल करती है। यहां हम पहुंचे तो कार्यकर्ता काफी कम दिखे। ये आपसी बातचीत में मशगूल थे, लेकिन मीडिया के लिए पार्टी की तैयारी तगड़ी दिखी। करीब 30 कैबिन में पार्टी प्रवक्ता मुस्तैद थे। हर चैनल के लिए एक अलग प्रवक्ता। बीच-बीच में ये फोन पर बतियाते। मीडियाकर्मियों के लिए चाय-नाश्ते की व्यवस्था की गई थी।

शाह की मेहनत रंग लाई
पार्टी के बड़े नेता तो यहां मौजूद नहीं थे, लेकिन कार्यकर्ता और प्रवक्ता हर पल टीवी स्क्रीन पर नजरें गढ़ाए थे। कार्यकर्ताओं के बीच जब हम खड़े हुए तो एक बात खुलकर साफ हुई। दरअसल, हर कार्यकर्ता की जुबान पर एक ही बात थी। सबका यही कहना था कि अगर दिल्ली में भाजपा 2015 की तुलना में दो अंकों तक पहुंची तो इसका श्रेय अमित शाह को जाता है। अमित शाह ने पूरी ताकत झोंक दी। उन्होंने करीब 55 रैलियां और रोड शो किए। एक नेता ने नाम न बताने की शर्त पर कहा- अमित शाह ने दिखा दिया कि अगर नेता-कार्यकर्ता मेहनत करें तो नतीजे क्या से क्या हो सकते हैं।  

कांग्रेस के दफ्तर में सन्नाटा
आप दफ्तर से करीब 100 कदम दूरी पर दिल्ली कांग्रेस का ऑफिस है। यहां सिर्फ सफाई कर्मचारी और रोजमर्रा का स्टाफ नजर आया। प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा समेत सभी बड़े पदाधिकारियों के केबिन में लगे ताले मीडिया को जैसे मुंह चिढ़ा रहे थे। मीडियाकर्मी आए। लेकिन, बैरंग लौट भी गए। हमने दिल्ली कांग्रेस के प्रवक्ता अनिल भारद्वाज से फोन पर बातचीत की। उन्होंने कहा, “हम एक राज्य में हार से निराश नहीं हैं। परिणाम अपेक्षा के अनुरूप नजर नहीं आते। लेकिन, कांग्रेस जनसेवा करती रहेगी।”

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना