दिल्ली महाभारत 2020 / भाजपा और कांग्रेस के नेता अपने बच्चों को चुनावी मैदान में उतारने के लिए पैरवी में जुटे

दर्जनों सीट ऐसी है जहां नेता अपने बच्चों को उतारना चाहते हैं दर्जनों सीट ऐसी है जहां नेता अपने बच्चों को उतारना चाहते हैं
X
दर्जनों सीट ऐसी है जहां नेता अपने बच्चों को उतारना चाहते हैंदर्जनों सीट ऐसी है जहां नेता अपने बच्चों को उतारना चाहते हैं

  • परंपरागत सीटाें पर परिवार के सदस्य काे ही देखना चाहते हैं नेता, दोनों पार्टी युवा भागीदारी बढ़ाने के लिए चाहती हैं नई पौध उतारना
  • विधान सभा चुनाव में 70 सीटों पर सभी पार्टियां युवाओं को मौका देने की बात कह रही हैं लेकिन पुराने नेता भी जोर लगा रहे हैं

Dainik Bhaskar

Jan 12, 2020, 07:25 AM IST

नई दिल्ली . विधानसभा चुनाव में भाजपा, आप और कांग्रेस 70 विधानसभा सीटों की जंग जीतने के लिए लगातार बैठकें कर रही हैं। भाजपा और कांग्रेस के पास पुराने नेताओं की फौज है लेकिन दोनों पार्टी युवा भागीदारी बढ़ाने के लिए नई पौध उतारना चाहती है। ऐसे में दोनो दलों के अंदर एक दर्जन से ज्यादा ऐसे नेता हैं जो सीट की विरासत बढ़ाने के लिए बेटी-बेटा या परिवार के किसी अन्य सदस्य को उतारना चाहते हैं। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष जेपी अग्रवाल पूरी ताकत से बेटी और बेटे के लिए जुटे हैं तो भाजपा में दिवंगत पूर्व सीएम मदनलाल खुराना के बेटे व पूर्व प्रदेश अध्यक्ष दिवंगत मांगेराम गर्ग के बेटे को भी टिकट दिए जाने की चर्चा है। भास्कर ने नजरिए से तीनाें पाटिर्याें की थाह ली ताे कई राेचक पहलु सामने अाए।

भाजपा में दिवंगत नेताओं के परिवार के लोगों को टिकट पर मंथन, कांग्रेस में प्रदेश अध्यक्ष सहित कई नेता परिजन के लिए चाह रहे टिकट

भाजपा:  प्रत्याशी जिताऊ व साफ छवि का  तो परिजन को दे सकते है टिकट

भाजपा में पूर्व सीएम मदन लाल खुराना के बेटे हरीश खुराना को मोती नगर सीट पर आजमाने की चर्चा है। दिल्ली भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मांगे राम गर्ग का परिवार भी बेटे सतीश गर्ग के लिए वजीरपुर से टिकट मांग रहा है। बल्लीमारान से पूर्व विधायक मोती लाल सोढ़ी का परिवार बहू लता सोढ़ी के लिए उसी सीट से टिकट मांग रहा है। जगदीश मुखी की सीट जनकपुरी रही है। वो बेटे अतुल मुखी के लिए टिकट मांग रहे हैं। पूर्व विधायक ब्रह्म सिंह तंवर छतरपुर से बेटे विकास तंवर के लिए टिकट मांग रहे हैं। भाजपा के एक बड़े नेता ने भास्कर से कहा, परिवारवाद को बढ़ावा नहीं देंगे लेकिन प्रत्याशी जीताऊ और साफ छवि का होने के साथ पार्टी में बड़े योगदान देने वाले के परिवार से जुड़ा रहा है 

कांग्रेस : सुभाष चोपड़ा सहित कई नेता परिजन के लिए चाहते हैं टिकट

बच्चों के लिए टिकट मांगने वालों में प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष जेपी अग्रवाल का नाम सबसे ऊपर है। विधायक रहे हसन अहमद बेटे अली मेंहदी के लिए टिकट मांग रहे हैं। दिल्ली विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष डॉ. योगानंद शास्त्री बेटी प्रियंका सिंह की टिकट मांग रहे हैं। पूर्व विधायक कंवर करण सिंह बेटी आकांक्षा ओला के लिए टिकट मांग रहे हैं। पूर्व सांसद सज्जन कुमार के बेटे जगप्रवेश और महाबल मिश्रा अपने बेटे विनय मिश्रा के लिए टिकट मांग रहे है। पूर्व विधायक मतीन अहमद, पूर्व सांसद परवेज हाशमी, सदर बाजार से पूर्व विधायक राजेश जैन भी शुरुआत में बच्चों की पैरवी में थे लेकिन अब ये खुद मैदान में उतरना चाहते हैं।

आप : संजय सिंह बोले- पार्टी संविधान में परिवार के दो लोगों को टिकट नहीं

परिवारवाद को लेकर जब भास्कर ने आप के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह से बात की तो उन्होंने कहा कि पार्टी के संविधान के अनुसार परिवार में दो लोगों को टिकट देने की मनाही है। कांग्रेस में नेहरू जी, इंदिरा जी, राजीव जी, संजय जी, सोनिया जी, राहुल जी और प्रियंका जी हैं। भाजपा में रमन जी-अभिषेक जी, वसुंधरा जी-दुष्यतं जी, राजनाथ जी-पंकज जी, कल्याण जी- राजवीर जी, प्रेम कुमार धूमिल जी- अनुराग ठाकुर जी हैं। दोनों पार्टियों में यही ’जी’ हैं। आप इसी व्यवस्था को बदल रही है। अब जनता परिवारवाद की राजनीति करने वाली पार्टियों की नींद उड़ाने जागरूक हो गई है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना