• Hindi News
  • Election
  • Delhi Election
  • Manish Sisodia Delhi Election Result | Manish Sisodia (AAP) Patparganj Seat Election Result 2020 Latest News and Updates; Manish Sisodia wins, BJP's Ravi Negi Votes

दिल्ली चुनाव / पटपड़गंज से मनीष सिसोदिया आगे-पीछे होते रहे, यहां विकास के साथ क्षेत्रीय समीकरण भी हावी

मनीष सिसोदिया ने पटपड़गंज सीट से लगातार तीसरा चुनाव जीता।  (फाइल) मनीष सिसोदिया ने पटपड़गंज सीट से लगातार तीसरा चुनाव जीता। (फाइल)
X
मनीष सिसोदिया ने पटपड़गंज सीट से लगातार तीसरा चुनाव जीता।  (फाइल)मनीष सिसोदिया ने पटपड़गंज सीट से लगातार तीसरा चुनाव जीता। (फाइल)

  • मतगणना के दौरान पटपड़गंज में मतदाताओं से बातचीत, ज्यादातर लोगों को सिसोदिया की जीत का भरोसा था
  • शुरुआती दौर में जब दिल्ली के उपमुख्यमंत्री पीछे हुए तो आप नेताओं के माथे पर चिंता की लकीरें साफ दिखाई दीं

अक्षय बाजपेयी

अक्षय बाजपेयी

Feb 11, 2020, 11:16 PM IST

नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में आप ने लगातार तीसरी बार जीत हासिल की। हालांकि, शुरुआत में उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के पटपड़गंज से पीछे चलने की खबर आई तो पार्टी के नेताओं की चिंता बढ़ गई।इस दौरान दैनिक भास्कर संवाददाता ने क्षेत्र का दौरा किया। ज्यादातर लोगों ने भरोसा जताया कि आखिर में मनीष सिसोदिया ही जीत हासिल करेंगे। ऐसा हुआ भी। दरअसल, यहां कुछ क्षेत्रीय समीकरण और मिलीजुली आबादी है। बड़ी सोसायटी हैं तो झुग्गी एरिया भी। गढ़वाली वोटर हैं तो मुस्लिम और गुर्जर भी। यहां इस उतार-चढ़ाव वाले मुकाबले की पड़ताल करती यह ग्राउंड रिपोर्ट। 

क्षेत्रीय समीकरण
पटपड़गंज का एक क्षेत्र या कहें कॉलोनी, विनोद नगर। यहां करीब 90 फीसदी लोग गढ़वाली या कहें उत्तराखंड के हैं। भाजपा ने रविंदर सिंह नेगी और कांग्रेस ने लक्ष्मण रावत को प्रत्याशी बनाया। दोनों ही गढ़वाली हैं। जब यहां की ईवीएम खोली गईं तो भाजपा के रविंदर नेगी आगे थे। यहीं से कुछ दूरी पर पटपड़गंज गांव है। ब्राह्मण-वैश्यों के अलावा मुस्लिम और गुर्जर की भी तादाद काफी बड़ी है। 12 सोसायटीज भी हैं। मंडवाली, मयूर विहार फेस 2, पांडव नगर और प्रताप नगर भी हैं। कुल मिलाकर मध्यमवर्ग वोटर यहां आपको मिलता है। इनमें भी गढ़वाली समुदाय के लोग ज्यादा हैं। 

झुग्गी बस्तियों से जीत का सफर 
सिसोदिया लगातार तीसरी बार इस सीट से चुनाव जीते। इसके पहले यह सीट परंपरागत तौर पर कांग्रेस की मानी जाती थी। कांग्रेस के अनिल कुमार चौधरी एक बार और अंबरीश गौतम 2 बार यहां से जीते। पटपड़गंज विधानसभा में शशि नगर झुग्गी बस्ती है। यहां की ईवीएम खुलनी शुरू हुईं तो सिसोदिया आगे निकलते चले गए। हमने कुछ लोगों से बातचीत कर यह जानने का प्रयास किया कि सिसोदिया पहले क्यों पिछड़े और फिर क्यों जीते?

क्या कहते हैं पटपड़गंज के मतदाता?
क्षेत्र के कुछ मुस्लिम मतदाताओ ने साफ कहा कि वो पहले कांग्रेस को वोट देते आए हैं। लेकिन, इस बार वो अगर कांग्रेस को वोट देते तो फायदा भाजपा को होता क्योंकि वोटों का बंटवारा हो जाता। इसलिए, सिसोदिया को वोट देने का फैसला किया और इस बारे में आपसी चर्चा भी की। एक सोसायटी में रहने वाले अशोक पटेल ने कहा, “यहां सिर्फ स्वच्छता ही नहीं बल्कि कई काम हुए। सीसीटीवी लगे। एक बड़ा आरओ फिल्टर प्लांट लग रहा है।” समय सिंह भी अशोक की बात से सहमत हैं। उन्होंने कहा, “पहले यहां गाड़ियों की चोरी आम बात थी। अब सीसीटीवी हैं तो चोरी रुक गई।” यहीं मंजर खान भी मिलते हैं। वो कहते हैं, “यहां मुस्लिमों की बड़ी तादाद है। सहमति से वोट आप को ही दिए। बिजली-पानी फ्री मिले। शशि नगर में अब सीवर लाइन भी डल गई है।” सिद्धांत शर्मा ने कहा, “स्कूलों को छोड़ दें तो बाकी काम काम 10 महीने पहले ही हुए। यहां वाईफाई और सीसीटीवी जैसी सुविधाएं हैं।”

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना