आजम फिल्म के डायरेक्टर श्रवण तिवारी से खास बातचीत:शेयर किया शूटिंग का किस्सा, कहा- स्क्रिप्ट सुनकर जिम्मी शेरगिल ने कम कर दी फीस

3 महीने पहलेलेखक: उमेश कुमार उपाध्याय
  • कॉपी लिंक

बॉलीवुड में माफिया डॉन पर अब तक कई फिल्में बन चुकी हैं। इसी क्रम में एक और फिल्म माफिया डॉन के उत्तराधिकारी पर बुनी गई है, जिसका नाम आजम है। यह फिल्म जल्द रिलीज होने वाली है। इसमें जिम्मी शेरगिल ने लीड रोल निभाया है। इसका लेखन-निर्देशन श्रवण तिवारी ने किया है। फिल्म को 60 फीसदी साउथ मुंबई के रियल लोकेशन पर शूट किया गया है। आगे जानिए निर्देशक श्रवण तिवारी की जुबानी, कैमरे के पीछे की कहानी-

सभी ने कर दिया था रिजेक्ट, लेकिन जिम्मी को खूब पसंद आई थी स्क्रिप्ट

आजम की स्क्रिप्ट को नाना पाटेकर से लेकर विवेक ओबेराय, रोनित राय आदि को दिया गया था, लेकिन किसी न किसी वजह से सबकी तरफ से रिजेक्ट होते चली गई। जब पांच-छह लोग स्क्रिप्ट को मना कर देते हैं, तब बतौर राइटर खुद से सवाल होता है कि पता नहीं इसमें क्या दिक्कत है। खैर, जिम्मी शेरगिल को जब अप्रोच किया गया, तब उन्हें इतनी पसंद आई कि उन्होंने कहा कि इसे हर हाल में करना है।

उनको स्क्रिप्ट इतनी पसंद आई कि उन्होंने फीस में भी रियायत बरती। इतना ही नहीं, जिम्मी शेरगिल ने फिल्म करने के लिए हां बोला, तब एकदम से माहौल ही चेंज हो गया। अभिमन्यु सिंह इतना छोटा रोल करते नहीं हैं, क्योंकि वे अभी सलमान खान के अपोजिट मेन विलेन रोल प्ले कर रहे हैं, लेकिन वो भी फिल्म करने के लिए तैयार हो गए।

एक्शन सीक्वेंस शूट करते समय हो गई थी मुसीबत

ऐसी गैंगस्टर वाली फिल्मों की शूटिंग रात में करनी हो, तब प्रॉब्लम तो हो ही जाती है। कहानी में जब गैंगवार शुरू होता है, तब हर आदमी एक-दूसरे को जान से मारने की कोशिश करता है। इस पोर्शन की शूटिंग साउथ मुंबई में लाइब्रेरी सर्कल पर कर रहा था, तब एक आदमी ने ट्रक में तलवार लेकर सवार लोगों की फोटो फोन खींचकर क्राइम ब्रांच, कमिश्नर को टैग करते हुए टि्वट कर दिया कि ये लोग हुल्लड़ करने जा रहे हैं। मैंने अभी देखा।

उसके बाद तो कमिश्नर का फोन पीआई को आया कि तुम्हारी एरिया में यह क्या हो रहा है? उन्होंने बताया कि सर! यहां तो शूटिंग चल रही है। ये तलवार मेटल की नहीं, बल्कि पेपर की है। मेरे पास फोन तो नहीं आया, पर मेरे को-ऑर्डिनेटर जो लोकेशन आदि की परमीशन लिए थे, उन्हें फोन आया कि प्रूव करो कि यह शूटिंग का हिस्सा है। फिर तो उन्होंने बाकायदा शूटिंग की फोटो लेकर उन्हें भेज कर संतुष्ट किया।

उम्र दराज एक्टर को रात में जल्दी शूट करके फ्री करना पड़ता था

रात में शूटिंग करना बड़ा चैलेंजिंग होता है। फिल्म में ज्यादातर एक्टर गोविंद नामदेव, रजा मुराद, अनंग देसाई आदि एजेड हैं। उन्हें रात में शूटिंग करने का इश्यू होता है। वे साफ बोल देते हैं कि रात 12 बजे के बाद शूटिंग नहीं कर पाऊंगा। दरअसल, एक उम्र के बाद रात में जागना पॉसिबल नहीं होता है। दूसरी बात रात में एक्टर पर एक्टिंग का दबाव पड़ता है। अगर वह थका हुआ है, तब अच्छे से सीन नहीं कर पाता है। वह एक चैलेंज था, इसलिए उम्रदराज एक्टर को 12 से 1 बजे तक शूट करके फ्री कर देता था। उसके बाद अन्य कलाकारों के साथ 4 से 5 बजे तक शूट करता था।

जिम्मी के हां कहने पर, सभी ने हां कह दिया

जिम्मी शेरगिल के हां कहने के बाद सबका जवाब न-न से बदलकर हां-हां में हो गया। जहां लोगों की डेट नहीं मिल रही थी, एक-एक दिन की डेट अर्जेस्ट कर रहे थे, वहीं सबने कहा कि मेरी कोई भी डेट ले लो। जिम्मी के मैनेजर ने सितंबर से लेकर नवंबर तक तीन महीने की डेट ओपन कर दी। उन्होंने कहा कि तीन महीने में जो डेट आपको चाहिए, वह आप ले लो उसके बाद दूसरों को डेट देंगे। ऐसा करके सारा नजारा ही बदल गया।

पूरी फिल्म को रात में शूट किया गया
चूंकि फिल्म की कहानी एक रात की है, इसलिए पूरी फिल्म रात में शूट की गई है। अगर स्टूडियो के अंदर दिन में शूट कर रहे थे, तब वहां भी दिन को रात बनाकर शूट किया गया। फिल्म की शूटिंग मुंबई स्थित बीटी, चर्चगेट आदि जगहों पर हुई है। बाकी पुलिस स्टेशन आदि सीन को अलग-अलग जगहों पर स्टूडियो के अंदर शूट किया है। अभी पैक वर्क थोड़ा बाकी है, उसे स्टूडियो वगैरह में कर लेंगे।

आजम के लिए जिम्मी शेरगिल ने कर दी फीस में कटौती

जिम्मी शेरगिल को आजम की स्क्रिप्ट इतनी पसंद आई कि अपनी फीस भी कम कर दी। दरअसल, आजम फिल्म का प्रोड्यूसर दुबई से हैं। वे पहली बार फिल्म प्रोड्यूसर कर रहे हैं। उन्होंने बोला था कि बजट इससे ज्यादा नहीं कर पाएंगे। वहीं जिम्मी की जो फीस बताई गई थी, वह बजट से बहुत ज्यादा यानी दोगुना हो रही थी। मैंने कहा कि इतने में तो नहीं हो पाएगा। लेकिन उन्हें स्क्रिप्ट इतनी पसंद आ गई थी कि मैंने फीस का जो फीगर बोला, उसमें उन्होंने नेगोशिएट ही नहीं किया।

खबरें और भी हैं...