पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोविड-19 से रिकवरी का अनुभव:कंगना रनोट बोलीं- टेस्ट निगेटिव आने के बाद बाहर निकली तो खुद को बीमार महसूस कर रही थी और बिस्तर पर पहुंच गई थी

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कंगना रनोट इन दिनों मनाली में हैं और परिवार के साथ क्वालिटी टाइम बिता रही हैं। होम टाउन जाने से पहले जब कंगना मुंबई में थीं, तब वे कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गई थीं। हालांकि, वे होम आइसोलेशन में रह कर ही रिकवर हो गईं। अब उन्होंने एक वीडियो शेयर कर कोरोना की रिकवरी को लेकर अपना अनुभव साझा किया है। एक्ट्रेस की मानें तो कोरोना झूठी रिकवरी की उम्मीद देता है और इसी के चलते लोग मर रहे हैं। कंगना के मुताबिक, टेस्ट निगेटिव आने के दो दिन बाद जब वे घर से बाहर निकलीं तो फिर से खुद को बीमार महसूस करने लगी थीं और बिस्तर पर पहुंच गई थीं।

कंगना ने वीडियो में क्या कुछ कहा?
कंगना वीडियो में कह रही हैं- आम सर्दी जुकाम की तरह ही मेरा कोरोना का अनुभव रहा। लेकिन रिकवरी में जो चीजें हुईं, वो मैंने पहले कभी महसूस नहीं की थीं। अक्सर हमने देखा है कि बचपन से ही हम कभी भी जब बीमार हों, मुझे तो बहुत पीलिया हुआ था, फिर बहुत ज्यादा एक्सीडेंट हो गया था, जिसमें मैं डेढ़ साल बेड पर थी, मेरी टांग टूट गई थी, तो हमने हमेशा देखा है कि इस तरह की दुर्घटना से जब हमारा शरीर रिकवर होने लगता है तो वह रिकवर होता चला जाता है। फिर चाहे कम समय में हो या फिर ज्यादा समय में। लेकिन कोरोना में मैंने जो शॉकिंग चीज महसूस की, वह यह कि ये आपको फाल्स रिकवरी देता है।

मेरा टेस्ट निगेटिव आने के एक-दो दिन में ही मुझे ऐसा लगने लगा था कि मैं 100 फीसदी ठीक हो चुकी हूं। मैं कोई भी काम कर सकती हूं। फिर चाहे वह वर्कआउट हो, एक्टिंग शिफ्ट हों या फिर दोस्तों के साथ काम हो, बातें करना हो। मुझे लगने लगा था कि मैं पहले जिस क्षमता से करती थी, अब भी उसी क्षमता से ये सब काम कर सकती हूं। लेकिन वह एक फाल्स रिकवरी थी।

जैसे ही मैं घर से निकली या फिर कुछ करने की कोशिश की तो पता चल रहा है कि मैं फिर से बीमारी की शिकार हो जा रही हूं। फिर से बिस्तर पर पहुंच जा रही हूं। ऐसा लग रहा है जैसे बिस्तर से उठा ही नहीं जा रहा। हल्का गला दर्द होना भी शुरू हो गया है और ऐसा लग रहा है कि लगभग बुखार भी आना शुरू हो गया है।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि ये वायरस जेनेटिकली मॉडिफाइड है, ट्रीटेड है। क्योंकि ये हमारे शरीर के अंदर होने वाले डैमेज (ऑर्गन फेल, ब्रेन फॉग, हार्ट अटैक आदि) के खिलाफ इसके नैचुरल रिस्पॉन्स को म्यूट कर देता है। ये एक झूठी रिकवरी की उम्मीद देता है और इसी के चलते अचानक से लोग ऑर्गन फेलियर या सांस संबंधी समस्या से मर जा रहे हैं। इसलिए जितना जरूरी कोरोना से लड़ना है, उतना ही ज्यादा जरूरी रिकवरी पीरियड भी है।

मुझे लगता है कि आपके निगेटिव आने के बाद यह वायरस शरीर में असली काम करने लगता है। कई डॉक्टर्स और कोरोना पेशेंट्स से बातचीत के आधार पर मैं यही कहना चाहूंगी कि रिकवरी पीरियड को नजरअंदाज मत कीजिए। अपनी स्ट्रीमिंग भी चालू रखिए। लेकिन रेस्ट बहुत जरूरी है। आइए इस वायरस को मात देते हैं। थैंक यू। जय हिंद।

8 मई को दी थी पॉजिटिव होने की जानकारी
कंगना ने 8 मई को उनके कोविड पॉजिटिव होने की जानकारी दी थी। उन्होंने योग मुद्रा में अपनी एक फोटो शेयर करते हुए लिखा था, 'मैं बीते कुछ दिनों से थकान और कमजोरी महसूस कर रही थी। आंखों में हल्की जलन भी हो रही थी। हिमाचल जाने का सोच रही थी, इसलिए कल कोरोना टेस्ट कराया, आज रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मैंने खुद को क्वारैंटाइन कर लिया है। मुझे कोई आइडिया नहीं था कि यह वायरस मेरे शरीर में पार्टी कर रहा था। अब मुझे पता चल गया है तो मैं इसे ध्वस्त कर दूंगी।" इसके 10 दिन बाद यानी 18 मई को उन्होंने सोशल मीडिया पर ही बताया था कि उनका कोरोना टेस्ट निगेटिव आ गया है। 20 मई को वे मुंबई से मनाली रवाना हो गई थीं।

खबरें और भी हैं...