कंगना पर भड़के 'शक्तिमान':कंगना रनोट के आजादी वाले बयान पर मुकेश खन्ना बोले-मेरे हिसाब से ये स्टेटमेंट बचकाना था, विवादित बयान देना बंद करो

11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

एक्ट्रेस कंगना रनोट को बिते दिनों अपने आजादी वाले बयान पर काफी विवाद का सामना करना पड़ा था। दरअसल, कंगना ने अपने एक बयान में कहा था कि भारत को 1947 में 'भीख' में आजादी मिली थी। उनके इस बयान के बाद कई सेलेब्स ने भी कंगना की जमकर आलोचना की थी। अब हाल ही में दिग्गज एक्टर मुकेश खन्ना ने भी सोशल मीडिया पर एक लंबा पोस्ट शेयर कर कंगना की आलोचना की है। साथ ही उन्होंने कंगना के बयान को बचकाना भी बताया है।

मेरे हिसाब से ये स्टेट्मेंट बचकाना था: मुकेश खन्ना
'महाभारत' और 'शक्तिमान' जैसे सीरियलों से मशहूर हुए मुकेश खन्ना ने पोस्ट में कंगना की एक फोटो शेयर करते हुए लिखा, "कई लोग बार बार मुझसे कह रहे हैं कि आपने देश की आजादी पर किए गए कटाक्ष पर कोई टिप्पणी नहीं दी। क्यों ?? तो मैं बताऊं कि दे चुका हूं, पर शायद पढ़ा नहीं गया। तो सोचा पब्लिकल्ली ही कह दूं। मेरे हिसाब से ये स्टेटमेंट बचकाना था। हास्यास्पद था। चापलूसी से प्रेरित था। अज्ञानता दर्शाता है या पद्म अवार्ड का साइड इफेक्ट था। मैं नहीं जानता।"

इस तरह के विवादित बयान देना बंद करो
मुकेश खन्ना ने पोस्ट में आगे लिखा, "पर सब ये जानते हैं और मानते भी हैं कि हमारा देश आजाद 1947 की 15 अगस्त को ही हुआ था। इसको अलग जामा पहनाने की कोशिश करना भी किसी के लिए मूर्खता से कम नहीं होगा। पर यहां मैं ये खुलासा भी करना चाहूंगा कि ये कहना या गाना की.. दे दी हमें आजादी बिना खड़ग बिना ढाल, साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल.. भी वास्तविकता से उतना ही दूर है, जितना ऊपर वाला स्टेट्मेंट। हकीकत ये है कि अंग्रेजी हुकूमत के मन में अगर किसी ने भागने का खौफ पैदा किया तो वो था देश के असंख्य क्रांतिकारियों का बलिदान, सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फैज का डर और अपने ही सैनिकों की बगावत। तो इस तरह के विवादित बयान देना बंद करो।"

खबरें और भी हैं...