अपनी खूबसूरती छिपाने के लिए मेकअप करती थीं जीन:डिप्रेशन से पागल हुईं; 21 शॉक दिए तो याद्दाश्त गई, टॉप एक्ट्रेस से बन गईं सेल्सगर्ल

2 महीने पहलेलेखक: ईफत कुरैशी
  • कॉपी लिंक

अक्सर फिल्मों में नायिकाओं के लिए आपने झील सी नीली या सागर जैसी गहरी आंखों की मिसालें सुनी होंगी। खूबसूरती की ये मिसाल हॉलीवुड की एक एक्ट्रेस पर बिल्कुल फिट बैठती है। उनका नाम था जीन टियर्नी। 1940 के दशक में फिल्मों में आईं जीन इतनी खूबसूरत थीं कि इन्हें कई फिल्मों में अपनी खूबसूरती छिपाने के लिए मेकअप करना पड़ता था।

जीन को उनकी नीली आंखों और तीखे नैन-नक्श के कारण फिल्मों में बहुत आसानी से काम मिल गया। ये रईस घर से थीं और पिता फिल्मों में आने के खिलाफ थे। कुछ फिल्मों के बाद ये टॉप एक्ट्रेस बन गईं। ऑस्कर के नॉमिनेशन भी मिल गए। एक कमी थी इनकी आवाज। जीन की आवाज काफी पतली थी, उसमें भारीपन लाने के लिए कुछ दोस्तों ने सलाह दी कि सिगरेट पीना शुरू कर दो। जीन ने सिगरेट शुरू कि तो इस कदर कि वो चेनस्मोकर बन गईं। इस लत से वो डिप्रेशन में चली गईं।

अमेरिका के राष्ट्रपति रहे जॉन एफ. कैनेडी से इनका अफेयर रहा, लेकिन शादी नहीं हो पाई। जीन की निजी जिंदगी आसान नहीं रही। एक वायरस के इन्फेक्शन से इनकी बेटी दिमागी तौर पर कमजोर पैदा हुई तो ये और ज्यादा डिप्रेशन में चली गईं और पागल हो गईं। इलाज के लिए 21 इलेक्ट्रिक शॉक दिए गए, जिससे इनकी याद्दाश्त तक चली गई।

टॉप की एक्ट्रेस की ऐसी हालत हो गई कि वो अपना बीता कल भूलकर एक कपड़ों की दुकान पर सेल्सगर्ल बन गईं। कुछ फैंस ने इन्हें उस दुकान में पहचान लिया, तब लोगों को ये पता चला कि अपने दौर में दुनिया की सबसे खूबसूरत मानी गई एक्ट्रेस सेल्सगर्ल की जिंदगी जी रही है। जीन ने दो शादी की, अफेयर भी रहे और दो बच्चे भी हुए, लेकिन वो जिंदगी भर अपने डिप्रेशन से बाहर नहीं आ पाईं।

आज की अनसुनी दास्तानें में कहानी हॉलीवुड की सबसे खूबसूरत एक्ट्रेस जीन टियर्नी की....

खूबसूरती ऐसी थी कि मिल गईं फिल्में

नामी खानदान में जन्मीं जीन की पढ़ाई स्विट्जरलैंड में हुई। जीन को बचपन से ही हर सुख-सुविधा से भरी आरामदायक जिंदगी दी गई। वे दुनिया के छल-कपट से अनजान थीं। एक बार जीन फैमिली वेकेशन पर अपनी आंटी के पास कैलिफोर्निया गईं। जीन की आंटी वॉर्नर ब्रदर के लिए शॉर्ट फिल्में प्रोड्यूस करती थीं।

एक बार जीन भी आंटी के साथ वॉर्नर ब्रदर्स के स्टूडियो गईं, जहां 6 ऑस्कर जीतने वाले डायरेक्टर गोर्डोन हॉलिंगशेड ने उनकी खूबसूरती से प्रभावित होकर उन्हें फिल्म ऑफर की। जब ये बात जीन के पेरेटंस को पता चली तो घर में हंगामा हो गया।

जीन के पिता नहीं चाहते थे कि वो फिल्मों में आएं, क्योंकि ये उनके सोशल स्टेटस के लिए ठीक नहीं था। साथ ही यहां कमाई बेहद कम थी। जब जीन फिल्मों में आने के लिए अड़ गईं तो उन्हें मां ने सपोर्ट किया। कुछ समय बाद पिता को भी उनकी जिद के आगे झुकना पड़ा। जीन को पहले कुछ नाटकों में काम मिला, जहां उनके अभिनय से ज्यादा उनकी खूबसूरती की चर्चा हुई।

जीन की खूबसूरती देखते हुए 20 सेंचुरी फॉक्स स्टूडियो ने उनके साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन कर लिया। पहली फिल्म द रिटर्न ऑफ फ्रैंक जेम्स (1940) में सपोर्टिंग रोल निभाकर इन्होंने हॉलीवुड डेब्यू किया था।

1945 की फिल्म लीव हर टु हेवन के लिए जीन को ऑस्कर अवॉर्ड में बेस्ट एक्ट्रेस का नॉमिनेशन मिला। लगातार हिट फिल्में देते हुए जीन को पॉपुलैरिटी मिलने लगी, लेकिन पर्सनल जिंदगी की उथल-पुथल उनके करियर पर बुरा असर डालने लगी।

खूबसूरती छिपाने के लिए करती थीं मेकअप

जीन इतनी खूबसूरत थीं कि उन्हें सिर्फ हाई स्टैंडर्ड के रोल दिए जाते थे। जब फिल्ममेकर्स को उन्हें आम लड़की दिखाना होता था तो मेकअप के जरिए उनकी खूबसूरती कम की जाती थी।

आवाज भारी करने के लिए सिगरेट पी, लग गई लत

जीन की आवाज हमेशा से बच्चों की तरह हुआ करती थी। उन्हें लगता था कि उनकी आवाज कार्टून कैरेक्टर मिनी माउस से मिलती है। ऐसे में आवाज में भारीपन लाने के लिए पहली फिल्म की शूटिंग के समय ही उन्होंने सिगरेट पीना शुरू कर दिया। देखते ही देखते जीन चेनस्मोकर बन गई थीं।

शादीशुदा आदमी से शादी करनी चाही तो पिता हुए खिलाफ

फिल्मों में काम करते हुए जीन और फैशन डिजाइनर ओलेग कैसिनी एक-दूसरे को चाहने लगे। इस समय जीन महज 20 साल की थीं, जबकि ओलेग 28 साल के पहले से शादीशुदा थे। जब जीन के घरवालों को इस रिश्ते की जानकारी मिली तो उन्होंने साफ इनकार कर दिया, लेकिन जीन ने उनके खिलाफ जाकर 1 जून 1941 को शादी कर ली।

फैन की लापरवाही से मेंटल पैदा हुई बेटी

1943 में जीन प्रेग्नेंट हुईं। प्रेग्नेंसी के दौरान जीन एक ऐसे फैन के संपर्क में आ गईं जिसे रुबेला (जर्मन चेचक) था। संपर्क में आते ही जीन खुद भी इससे इन्फेक्टेड हो गईं और उनकी प्रेग्नेंसी पर बुरा असर पड़ा। हालत बिगड़ने पर जीन की वॉशिंगटन में प्रीमैच्योर डिलीवरी करनी पड़ी थी। इस हादसे से जीन बुरी तरह टूट गई थीं।

1948 में जीन ने दूसरी बेटी क्रिस्टीना को जन्म दिया, लेकिन डिप्रेशन के चलते उनकी पति से अनबन बढ़ने लगी। इसी साल दोनों ने तलाक ले लिया। कुछ समय बाद दोनों फिर साथ रहने लगे, लेकिन जब जीन की हालत और बिगड़ने लगी तो ओलेग उन्हें 1952 में अकेला छोड़कर चले गए।

जॉन एफ कैनेडी से रहा रिश्ता

पति से अलग होने के बाद जीन का रिश्ता जॉन एफ. कैनेडी से रहा, जो अमेरिका के प्रेसिडेंट बने थे। जीन, जॉन से बेहद प्यार करती थीं, लेकिन जॉन ने पॉलिटिक्स के लिए उनसे शादी करने से इनकार कर दिया। नतीजतन दोनों का रिश्ता एक साल में ही खत्म हो गया। जीन से ब्रेकअप के बाद जॉन एफ. कैनेडी का नाम मर्लिन मुनरो से भी जुड़ा था।

आगा खान के बेटे से टूटी थी सगाई

जॉन से ब्रेकअप होने के बाद जीन की जिंदगी में प्रिंस अली खान आए। ये रॉयल फैमिली के आगा खान-3 के बेटे थे, 48वें इमाम थे। 1952 में जीन ने प्रिंस अली से सगाई कर ली, लेकिन पिता आगा खान इस रिश्ते से खुश नहीं थे, उन्होंने विरोध किया। पिता के लिए प्रिंस अली ने जीन से सगाई तोड़ ली थी, जिससे वो और डिप्रेशन में चली गईं।

डिप्रेशन में थीं जीन, सेट पर करती थीं अजीब बर्ताव

बेटी की हालत और तीन रिश्ते टूटने से जीन सदमे में चली गईं। सदमे के चलते जीन अपनी फिल्मों पर ध्यान नहीं दे पाती थीं। जब सेट पर जीन अजीबो-गरीब बर्ताव करने लगीं तो डायरेक्टर्स भी परेशान रहने लगे।

1953 में उनकी हालत और बिगड़ गई। जीन को फिल्म मोगेंबो से निकाल दिया गया। वो उस समय फिल्म द लेफ्ट हैंड ऑफ गॉड में एक्टर हम्फ्री बोगार्ट के साथ काम कर रही थीं। हंफ्री की बहन फ्रांसेस भी मानसिक रोगी थीं, तो वो जीन से हमदर्दी रखते थे। वो चाहते थे कि जीन अपनी मेंटल कंडीशन को संजीदगी से लेते हुए इसका मेडिकल ट्रीटमेंट करवाए।

दिमागी हालत ठीक करने के लिए दिए गए 21 शॉक

इलाज के लिए जीन न्यूयॉर्क के अस्पताल में भर्ती हुईं, जिसके बाद उन्हें दूसरे अस्पताल भेजा गया। जीन की हालत इतनी गंभीर थी कि उन पर काबू पाने के लिए 21 शॉक दिए गए थे। ये शॉक उनके डीप डिप्रेशन के लिए दिए गए थे, हालांकि इससे उनकी हालत नहीं सुधरी। इलाज के दौरान एक बार जीन ने अस्पताल से भागने की भी कोशिश की, लेकिन उन्हें पकड़कर दोबारा अस्पताल में रखा गया। इस बार सुरक्षा और कड़ी कर दी गई।

14वीं मंजिल से कूदकर जान देने वाली थीं जीन

1957 में एक रात जीन टियर्नी अपनी मां के घर मैनहट्‌टन गईं। वो 14वीं मंजिल पर रहती थीं। अचानक ही जीन आत्महत्या की मंशा से 14वीं मंजिल की बालकनी पर चढ़ गईं। वो करीब 20 मिनट तक वहीं खड़ी कुछ सोचती रहीं। मां ने उन्हें देखते ही तुरंत पुलिस को खबर दी। 20 मिनट तक हालात पर काबू पाया गया, लेकिन अब उनके आसपास के लोग समझ चुके थे कि उन्हें इलाज की सख्त जरूरत है। मां ने जीन को अस्पताल में भर्ती करवाया।

ग्लैमर वर्ल्ड से दूर होकर बन गईं मामूली सेल्सगर्ल

इलाज से हालत सुधरने के बाद जीन पूरी तरह से ग्लैमर वर्ल्ड से दूर हो गईं। लग्जरी बचपन जीने वालीं और हॉलीवुड की टॉप एक्ट्रेसेस में से एक जीन एक कपड़े की दुकान में मामूली सेल्स गर्ल बनकर काम करने लगीं।

एक फैन ने देखा तो बन गईं अखबारों की हेडलाइन

एक दिन एक शख्स उस कपड़े की दुकान पर पहुंचा, जिसने अपनी फेवरेट एक्ट्रेस जीन को देखते ही पहचान लिया। उस फैन ने मीडिया में खबर कर दी और अगले दिन से हर अखबार में जीन की खबर छपने लगी। जीन और उनकी हालत की चर्चा हुई।

जीन की खबर जैसे ही 20 फॉक्स सेंचुरी स्टूडियो तक पहुंची तो स्टूडियो के लोगों ने उनसे संपर्क किया। प्रोडक्शन हाउस ने उन्हें हॉलिडे फॉर लवर्स फिल्म ऑफर की। पहले ही तंगहाल जिंदगी जी रहीं जीन इसके लिए राजी हो गईं। जब फिल्म में काम करने में उन्हें दबाव महसूस हुआ तो उन्होंने फिल्म छोड़ दी और फिर साइकेट्रिस्ट के पास आ गईं।

हालत सुधरने के बाद जीन ने एडवाइज एंड कंसेंट (1962) से फिल्मों में दमदार वापसी की। इसके बाद से ही जीन को लगातार बड़ी फिल्मों के ऑफर मिलने लगे। उन्होंने भी फिल्मों में काम करना जारी रखा। वापसी के बाद जीन को उनके अभिनय के लिए सराहना मिली।

तेल कारोबारी से की दूसरी शादी

1958 में जीन की मुलाकात टेक्सास के तेल कारोबारी हावर्ड ली से हुई। हावर्ड से उनकी दोस्ती हो गई। 1960 में दोनों शादी कर हॉस्टन, टेक्सास में ही गुमनाम जिंदगी जीने लगे।

वापसी करनी चाही, लेकिन मिसकैरेज के बाद छोड़ दी फिल्में

शादी के बाद भी जीन को लगातार हॉलीवुड फिल्मों के ऑफर मिलते रहे। 1960 में जीन प्रेग्नेंट हुईं, ठीक इसी समय उन्हें रिटर्न टु पेटन प्लेस में लीड रोल निभाने का बड़ा ऑफर मिला। जीन मान तो गईं, लेकिन जैसे ही उनका मिसकैरेज हुआ तो उन्होंने फिल्म छोड़ दी। इसके बाद जीन कभी मां नहीं बन सकीं। 1964 में जीन ने अचानक फिल्मों से रिटायरमेंट की घोषणा कर दी। उनकी आखिरी फिल्म द प्लेजर सीकर (1964) थी।

आगे जीन महज चंद टेलीविजन टॉक शोज में नजर आईं। 1981 में पति हावर्ड की मौत के बाद जीन ताउम्र अकेली रहीं। 6 नवंबर 1991 को जीन की भी मौत हो गई। इनकी मौत अपने 71वें जन्मदिन से ठीक 13 दिन पहले हुई थी।

फिल्मी सितारों की ये अनसुनी दास्तानें भी पढ़िए

78 साल की उम्र में की तीसरी शादी:जेमिनी ने कभी अपनी बेटी नहीं माना तो रेखा ने भी मौत के बाद उनका चेहरा नहीं देखा

जेमिनी गणेशन जितने फेमस थे, उतने ही विवादों में भी रहे। एक्ट्रेस रेखा और उनकी मां से जेमिनी का रिश्ता हमेशा विवादों में रहा। सावित्री टॉप एक्ट्रेस थीं, लेकिन धीरे-धीरे बर्बाद हो गईं, इसका कारण भी जेमिनी को ही माना गया। किंग ऑफ रोमांस की जिंदगी में जितना रोमांस था, उतनी ही कंट्रोवर्सीज भी थीं।

पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें-

5000 जूते, 8000 ड्रेसेस रखने वालीं एक्ट्रेस कुक्कू:कुत्ते भी लग्जरी गाड़ी में घुमातीं; आखिरी समय में सड़कों से उठाकर खाया खाना

40 से 60 के दशक के बीच बमुश्किल ही कोई ऐसी फिल्म होती थी, जिसमें कुक्कू का डांस ना हो। ये हिंदी सिनेमा की पहली आइटम गर्ल मानी जाती हैं। इनके एक गाने पर डांस की फीस 6000 रुपए होती थी, उस समय इतने पैसे किसी एक्ट्रेस को पूरी फिल्म में काम करने के लिए भी नहीं मिलते थे। 3 लग्जरी कारें थीं, जिनमें से एक इनके कुत्तों के लिए ही थी। रोज 5 स्टार होटल से खाना मंगवाती थीं, लेकिन वक्त ने करवट ली और एक समय ऐसा आया कि कुक्कू सड़क पर आ गईं। गुजारे तक के पैसे नहीं बचे थे। ये सड़कों पर फेंकी गई सब्जियां बीनकर लातीं और पकाकर खाती थीं। इनकी मौत पर फिल्मी दुनिया का कोई साथी इन्हें आखिरी विदाई तक देने नहीं आया।

पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें-

शमशाद बेगम ने बॉलीवुड छोड़ा था क्योंकि गंदगी बढ़ गई:गायिका बनीं तो पिता ने शर्त रखी- बुर्के में ही गाना होगा, फोटो भी नहीं खिचवाएंगी

सैयां दिल में आना रे, आ के फिर ना जाना रे', ये गाना गाने वाली महिला थीं हिंदी सिनेमा की पहली प्लेबैक सिंगर शमशाद बेगम। करीब 4000 गीत गाने वाली शमशाद बेगम का वो रुतबा था कि शुरुआती दिनों में लता मंगेशकर और आशा भोसले से भी इन्हीं की तरह गाने को कहा जाता था। ये अपने जमाने की सबसे महंगी गायिका थीं। उन दिनों जब एक गाने के लिए सिंगर्स को 50 से 100 रुपए के बीच मिलते थे, उस दौर में शमशाद बेगम एक गाने के एक हजार रुपए लेती थीं। कई फिल्म मेकर्स तो उन्हें अपनी फिल्मों के लिए अफोर्ड ही नहीं कर पाते थे। जब ये सिंगर बनीं तो पिता ने शर्त रखी थी कि बुर्का पहनकर ही गाना और कभी तस्वीरें क्लिक मत करवाना।

पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें-