संकट में मददगार:कोरोना ने बिगाड़े दिल्ली के हालात, अमिताभ बच्चन और बंगला साहिब गुरुद्वारा जरूरतमंदो की मदद के लिए तैयार

8 महीने पहलेलेखक: ज्योति शर्मा
  • कॉपी लिंक

आजादी के बाद भारत के इतिहास में कोरोना बड़ा संकट बनकर खड़ा है। बीमारी की दूसरी लहर ने देश में कहर मचा दिया है। राजधानी दिल्ली सहित पूरे भारत में ऑक्सीजन सिलेंडर, अस्पताल के बिस्तर और चिकित्सा उपकरणों की आवश्यकता और किल्लत तेजी से बढ़ रही है। कोरोनावायरस की मार से दिल्ली शहर अपने सबसे कठिन समय से गुजर रहा है। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए अभिनेता अमिताभ बच्चन, और बंगला साहिब गुरुद्वारा मदद के लिए आगे आए हैं।

गुरुद्वारा समित ने ऑक्सीजन लंगर शुरू किए
जरुरतमंदों की मदद के लिए समिति ने अपने गुरुद्वारों में चिकित्सा सुविधाओं को स्थापित करने की व्यवस्था की है। समिति द्वारा प्रबंधित कुछ गुरुद्वारों ने हाल ही मे 'ऑक्सीजन लंगर' की शुरुवात की है। जहां कोविड मरीजों के लिए मुफ्त में ऑक्सीजन सुविधा की व्यवस्था की गई है। इस उपक्रम का सबसे ज्यादा लाभ उन नागरिकों को होगा, जिनकी आर्थिक परिस्थिति सही नही है।

'लोगों को इतना दुखी देखना मुश्किल है'
दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के एक प्रवक्ता ने बताया, "इस बार कोरोनावायरस ने 2020 से भी ज्यादा भयानक तरीके से दिल्ली को संक्रमित किया है। हमारे आस-पास मौजूद सभी लोगों को इतना दुखी देखना मुश्किल है। हर दिन कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या एक नया कीर्तिमान बना रही है। हम उनकी मदद करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। आखिर हमारे पास आशा की एक किरण होती है,जो हमें लड़ने की ऊर्जा देती है। इस मामले में, यह ऊर्जा और आशा हमे मानवता दे रही है। हमारी पूरी कोशिश है कि हम मानवता की इस लड़ाई में लोगों की भरसक मदद कर सकें।"

पिछले साल बिग बी ने पहुंचाई थी मदद
प्रवक्ता ने आगे बताया, "इस संकट में प्रत्याशित तरीकों से हमारे पास मदद आई है। पिछले साल भी हमे श्री अमिताभ बच्चन जी से मदद आई थी। उन्होंने बंगला साहिब गुरुद्वारा में हमारे गुरु हरकिशन पॉलीक्लिनिक / डायग्नोस्टिक सेंटर के लिए एमआरआई मशीन और सीटी स्कैनर प्रदान दिए हैं, जो दिल्ली के नागरिकों के लिए बहुत मददगार रहे हैं। इन मशीनों ने पिछले कुछ महीनों में असंख्य लोगों की जान बचाई है। हमारे दरवाजे पर दस्तक देने वाले कई कोविड मरीजों के इलाज में बड़े पैमाने पर यह मशीनों का उपयोग हुआ है। बच्चन साहब की सहायता के कारण हमे भी हौसला मिलता है और संकट की स्थिति पर काबू पाने की इच्छाशक्ति दोगुनी हो जाती हैं।"