पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना ट्यून पर बिग बी की माफी:फैन ने कहा- कॉलर ट्यून बंद करवा दीजिए, अमिताभ बोले- कष्ट के लिए क्षमा प्रार्थी

4 महीने पहले
अमिताभ ने कहा- कोरोना ट्यून मेरा फैसला नहीं है, मैं देश-समाज के लिए जो भी करता हूं, फ्री करता हूं।- फाइल फोटो।

कोरोना कॉलर ट्यून को लेकर अमिताभ बच्चन इन दिनों काफी चर्चा में हैं। एक फैन ने तो अमिताभ से सोशल मीडिया पर पूछ ही लिया कि कोरोना वाली कॉलर ट्यून कब बंद होगी? इस पर अमिताभ ने जवाब भी दिया और माफी भी मांग ली।

अमिताभ ने कहा- क्षमा प्रार्थी हूं, लेकिन कॉलर ट्यून बंद करवाना मेरे हाथ में नहीं
क्षमा त्रिपाठी नाम की फैन ने सोशल मीडिया पर अमिताभ से कहा था कि "हम आपकी ईमानदारी और कन्फेशन को प्यार करते हैं और यही वजह है कि आपको बिग बी कहते हैं। बस अब वो कोरोना कॉलर ट्यून और बंद करवा दीजिए। जवाब में अमिताभ ने लिखा, "मैं देश, प्रांत और समाज के लिए जो भी करता हूं, वो निशुल्क करता हूं। आपको कष्ट हो रहा हो तो मैं क्षमा प्रार्थी हूं, लेकिन ये विषय मेरे हाथों में नहीं है।"

कविता चोरी के आरोप के बाद भी माफी मांगी थी
पिछले गुरुवार को अमिताभ ने सोशल मीडिया पर एक कविता शेयर की थी, जो जिंदगी की चाय के बारे में थी। इस पर सोशल मीडिया यूजर तृषा अग्रवाल ने दावा किया कि कविता उनकी है और बिग बी को इसे शेयर करते वक्त उन्हें क्रेडिट देना चाहिए था। कई सोशल मीडिया यूजर्स ने तृषा की पोस्ट शेयर की और अमिताभ पर कविता चोरी का आरोप लगाना शुरू कर दिया। 3 दिन बाद जब उन्होंने अपने खिलाफ चल रहे इस ट्रेंड को देखा तो तृषा से माफी मांग ली।

रविवार रात अमिताभ ने अपने माफीनामे में लिखा, "भूल सुधार। यह कविता और विचार तृषा अग्रवाल द्वारा लिखी गई है। मैं इसके बारे में नहीं जानता था। किसी ने मुझे यह अपनी फोटो के साथ भेजी थी, जो मुझे पसंद आई और मैंने इसे पोस्ट कर दिया। मैं माफी चाहता हूं, यह किसी के अपमान के इरादे से नहीं किया गया था। आई एम सॉरी।"

तृषा ने भी आभार जताया

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

और पढ़ें