पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर एक्सक्लूसिव:दो राज्यों के IT अधिकारियों ने अनुराग-तापसी के यहां छापा मारा, अब दोनों के यहां ED भी रेड डाल सकती है

6 महीने पहलेलेखक: अमित कर्ण
  • कॉपी लिंक
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की इस रेड को तापसी पन्नू और अनुराग कश्यप की ओर से मोदी सरकार के खिलाफ बयानबाजी से जोड़कर देखा जा रहा है। - Dainik Bhaskar
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की इस रेड को तापसी पन्नू और अनुराग कश्यप की ओर से मोदी सरकार के खिलाफ बयानबाजी से जोड़कर देखा जा रहा है।

बुधवार को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू, विकास बहल और मधु मंटेना के यहां रेड डाली। सूत्र बताते हैं कि अनुराग और तापसी के यहां 2 राज्यों के इनकम टैक्स के अधिकारियों ने छापा मारा था। इनमें तीन अधिकारी यूपी से आए थे और तीन महाराष्ट्र जोन के थे। इस बीच यह भी कहा जा रहा है कि अनुराग और तापसी के यहां प्रवर्तन निदेशालय यानी इंफोर्समेंट डायरेक्टरेट (ED) का छापा भी पड़ सकता है।

आपत्तिजनक चीजें नहीं मिलीं
सूत्र बताते हैं कि अनुराग और तापसी के यहां से बहुत आपत्तिजनक चीजें अधिकारियों को हासिल नहीं हुई। हालांकि, दोनों के यहां से लैपटॉप और कुछ हार्ड ड्राइव जरूर जब्त किए गए। साथ ही उन दोनों के वॉट्सऐप चैट की डिटेल भी खंगाली जाएगी। उनकी फिल्मों में जिन लोगों के इन्वेस्टमेंट हैं, उनकी भी जांच की जाएगी। रेड की गाज उन लोगों पर भी गिर सकती है, जो अनुराग कश्यप के हितैषी रहे हैं। गुरुवार को अधिकारी अनुराग और तापसी से बातचीत करेंगे।

बुधवार को क्या हुआ?
इनकम टैक्स (IT) डिपार्टमेंट ने प्रोड्यूसर-डायरेक्टर अनुराग कश्यप, एक्ट्रेस तापसी पन्नू के घर और ऑफिस के अलावा फैंटम फिल्म्स के पार्टनर मधु मंटेना और डायरेक्टर विकास बहल के ठिकानों पर छापा पड़ा। रिलायंस एंटरटेनमेंट ग्रुप के CEO शिबाशीष सरकार के घर पर भी छापे मारे गए।

कितनी जगहों पर रेड?
मुंबई के लोखंडवाला, अंधेरी, बांद्रा और पुणे में बुधवार सुबह 8 से 9 बजे के बीच रेड शुरू हुई। करीब 30 जगहों पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने तलाशी ली। इनमें अनुराग कश्यप और तापसी पन्नू के मुंबई स्थित घर भी शामिल हैं।

छापों की वजह क्या है?
अब तक IT डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है, लेकिन डिपार्टमेंट को फैंटम फिल्म्स कंपनी के कामकाज और लेनदेन में गड़बड़ी का शक है। छापेमारी में मिले दस्तावेज और सबूतों के आधार पर जांच का दायरा बढ़ सकता है।

खबरें और भी हैं...