• Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Ayushmann Khurrana Said – He Does Not Break His Head Thinking Of The Box Office, He Keeps Thinking That My Films Start A Nationwide Debate.

भास्कर बातचीत:आयुष्मान खुराना बोले- बॉक्स ऑफिस सोच कर सिर नहीं फोड़ता, मेंरी फिल्में नेशनवाइड बहस छेड़े वह सोचता रहता हूं

मुंबईएक महीने पहलेलेखक: अमित कर्ण
  • कॉपी लिंक

आयुष्मान खुराना की हालिया रिलीज 'चंडीगढ़ करे आशिकी’ भी क्रिटिकली एक्लेम हो रही है। यहां वो एक ट्रांस वुमन प्यार में पड़ने वाले इंसान का रोल प्ले किया है। इसने तीन दिनों में इंडिया में साढ़े 14 करोड़ की ओपनिंग हासिल की है। आयुष्मान कहते हैं, “विक्की डोनर में अपनी डेब्यू के बाद से, मैंने ऐसी फिल्मों को चुना है जिन्हें टैबू टॉपिक माना जाता रहा है। मैं खुशकिस्मत हूं कि मुझे अभिषेक कपूर के रूप में एक क्रिएटिव पार्टनर मिला। अभिषेक भी मानते हैं कि भारत में ट्रांसजेंडर कम्युनिटी को प्रभावित करने वाले विषयों को प्रकाश में लाने की जरूरत है। इस बातचीत को मेनस्ट्रीम कम्युनिटी में लाने का हमारा प्रयास था।"

रिस्क लेता रहूंगा
बाकी मैंने अपने बॉक्स ऑफिस फायदे को ध्यान में रखकर कभी कोई फिल्म नहीं की है। मुझे उस तरह से नहीं ढाला गया है और मुझे नहीं लगता कि लोग मुझसे किसी आसान किरदार की उम्मीद करते हैं। तभी चंडीगढ़ करे आशिकी मेरी अब तक की सबसे जोखिम भरी फिल्मों में से है और फिल्म बॉक्स ऑफिस जैसा भी करे, मैं रिस्क लेना जारी रखूंगा क्योंकि इंसान के तौर पर भी मैं वैसा ही हूं।

अपने सिनेमा से लोगों को इंगेज करूंगा
आयुष्मान आगे कहते हैं, "बॉक्स ऑफिस पर फिल्म कैसा प्रदर्शन करेगी यह सोच कर अपना सिर फोड़ने के बजाय अपनी फिल्मों के माध्यम से अपनी देशव्यापी बहस छेड़ना पसंद करूंगा। मैंने अपने दिल की आवाज सुनकर फिल्में चुनी हैं और आगे भी ऐसा ही करता रहूंगा। मैं एक एंटरटेनर हूं और अपनी पसंद के सिनेमा से लोगों को इंगेज करने की कोशिश करूंगा। मैं किसी भी चीज के लिए खुद को बदलते हुए नहीं देखता हूं।"

हम प्रोग्रेसिव जनरेशन का हिस्सा हैं
मैंने हमेशा महसूस किया है कि हम एक प्रोग्रेसिव जनरेशन का हिस्सा हैं, जो इनक्लूसिविटी के बारे में बातचीत करना चाहता है। मेरा बिलीव सिस्टम दरअसल मेरे परिवार और करीबी दोस्तों से आता है। यह उन विषयों पर देश का ध्यान आकर्षित करने की जरूरत को लेकर मुखर हैं, जिन पर देशव्यापी स्तर पर चर्चा करने की जरूरत है। मैं खुश हूं कि मुझे चंडीगढ़ करे आशिकी की स्क्रिप्ट मिली और मैंने अच्छे इरादों के साथ फिल्म बनाई। मुझे उम्मीद है कि फिल्म की शेल्फ लाइफ बड़ी होगी। यह इंडिया समेत दुनियाभर के लोगों को एंटरटेन कर सकेगी।

खबरें और भी हैं...