पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एलोपैथी बनाम आयुर्वेद:बाबा रामदेव ने शेयर किया आमिर खान का पुराना वीडियो, लिखा- 'मेडिकल माफिया' में हिम्मत है तो एक्टर के खिलाफ मोर्चा खोलें

25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

एलोपैथी और आयुर्वेद के झगड़े के बीच अब बाबा रामदेव ने आमिर खान के शो 'सत्यमेव जयते' (2012) की एक क्लिप शेयर की है। इसके साथ उन्होंने चुनौती देते हुए लिखा है कि अगर मेडिकल माफियाओं में हिम्मत है तो वे आमिर खान के खिलाफ मोर्चा खोलकर दिखाएं। वीडियो में आमिर शो पर आए गेस्ट डॉ. समित शर्मा ने बाजार में उपलब्ध एलोपैथी की महंगी और जेनेरिक दवाओं पर चर्चा कर रहे हैं।

50 गुना तक महंगी बिकती हैं एलोपैथी दवाएं
डॉ. समित शर्मा वीडियो में कह रहे हैं, "दवाइयों की जो वास्तविक कीमत है, वह तो बहुत ही कम है। हम जब बाजार से दवाइयां खरीदकर लाते हैं तो वो हमें 5 गुना, 10 गुना, 20 गुना, कई बार तो 50 गुना से भी ज्यादा दामों पर खरीदनी पड़ती हैं। भारत में 40 करोड़ से ज्यादा लोग अपने लिए दो वक्त की रोटी नहीं जुटा पाते। क्या उस दवा को खरीद सकते हैं?" इस बीच आमिर कहते हैं, "बहुत सारे लोगों को इसी वजह से दवाई नहीं मिल पाती है।"

चिकित्सा व्यवसाय में दवाओं की ब्रांडिंग होती है
डॉ. समित आगे कह रहे हैं, "WHO कहता है कि स्वतंत्रता के 65 वर्षों पश्चात, आज भी भारत की 65 फीसदी जनसंख्या तक मुख्य दवाइयां नहीं पहुंच पाती हैं। सिर्फ उनकी कीमत की वजह से।" शर्मा के मुताबिक चिकित्सा के व्यवसाय में उन कंपनियों की ब्रांडिंग की जाती है, जो महंगी दवाएं बनाती हैं। उन्होंने उदाहरण देकर बताया कि डायबिटीज की जो दवा बाजार में 117 रुपए मिलती है, उसे जेनेरिक मेडिसिन के नाम से खरीदें तो 1 रुपए 95 पैसे में उसकी 10 गोलियां मिल जाती हैं।

जब आमिर ने हैरान होकर पूछा कि क्या गोलियों में कोई अंतर होता है तो शर्मा ने बताया कि दोनों 100 फीसदी सामान होती हैं। शर्मा ने कैंसर की दवा का उदाहरण भी दिया। उनके मुताबिक, बाजार में इसकी एक दवा एक महीने के लिए सवा लाख रुपए में मिलती है, जबकि जेनेरिक मेडिसिन के नाम से वही दवा 6 हजार, 8 हजार 8 सौ, और 10 हजार रुपए में उपलब्ध हो जाती है।

क्या है बाबा रामदेव और एलोपैथी से विवाद
कुछ दिनों पहले बाबा रामदेव का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें उन्होंने एलोपैथी को बकवास विज्ञान बताया था। उन्होंने रेमडेसिविर, फेवीफ्लू जैसी दवाओं का नाम लेकर कहा था कि कोरोना के इलाज में ये नाकामयाब रही हैं। बाबा ने यह भी कहा था कि अगर एलोपैथी इलाज कोरोना के इलाज में कारगर हो रहा होता तो डॉक्टर्स को बीमार नहीं पड़ना चाहिए और उनकी मौत नहीं होनी चाहिए थी। बाद में जब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने रामदेव के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया तो उन्होंने इसे वापस ले लिया था और इसके लिए माफी भी मांग ली थी।

मानहानि केस की धमकी, थानों में शिकायत
बयान से नाराज IMA, उत्तराखंड ने बाबा को 1000 करोड़ रुपए की मानहानि का नोटिस भेजा है। इसमें उन्होंने कहा है कि अगर बाबा 15 दिनों के भातर IMA से लिखित रूप में माफी नहीं मांगते तो उनसे 1000 करोड़ रुपए की भरपाई की मांग की जाएगी। इसके अलावा बाबा के खिलाफ दिल्ली के आईपी एस्टेट पुलिस स्टेशन में और रायपुर, छत्तीसगढ़ सिविल लाइंस थाने में शिकायत भी की गई है।

किसी का बाप भी गिरफ्तार नहीं कर सकता: रामदेव
इस बीच बाबा का एक अन्य वीडियो भी खूब चर्चा में रहा। 40 सेकंड के इस वीडियो में सभी विवादों के बीच रामदेव का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस 40 सेकंड के वीडियो में वे कह रहे हैं, 'स्वामी रामदेव को उनका कोई बाप भी गिरफ्तार नहीं कर सकता। सोशल मीडिया पर शोर मचा रहे हैं अरेस्ट स्वामी रामदेव। कुछ चला रहे हैं अरेस्ट रामदेव। कभी चलाते हैं ठग रामदेव, महाठग रामदेव। कभी गिरफ्तार रामदेव ट्रेंड चलाते हैं। चलाने दो।'

खबरें और भी हैं...