76 साल के हुए रैंबो:पैरालाइज्ड चेहरे के साथ हुआ जन्म, घरवालों ने निकाला तो बस स्टैंड पर सोए, पहली ही फिल्म ने जीता ऑस्कर

3 महीने पहलेलेखक: प्रियंका जोशी

एक एक्टर जो पैरालाइज्ड चैहरे के साथ पैदा हुआ। घर वालों ने घर से निकाला। मजबूरी के चलते अपने इकलौते दोस्त (कुत्ते) को 50 डॉलर में बेचा। पहली फिल्म के लिए दर-दर भटके, खुद स्क्रिप्ट लिखी और उसमें बने हीरो। पहला साइनिंग अमाउंट मिलते ही कुत्ते को वापस लाए। फिल्म रिलीज हुई तो हो गई कालजयी।

आज हॉलीवुड के मशहूर एक्टर सिल्वेस्टर स्टैलोन का बर्थडे है। सिल्वेस्टर आज 76 साल के हो चुके हैं। हॉलीवुड में अपनी पहली ही फिल्म से एक अलग छाप छोड़ने वाले सिल्वेस्टर का फिल्मों में आने तक का सफर बेहद कठिन था। ये वो थे, जिन्होंने तंगी के चलते अपने प्यारे कुत्ते को बेचा, तो उसे वापस लाने के लिए उतावले हो गए। पहले साइनिंग अमाउंट में ही कुत्ते को वापस लाए। जब उनकी फिल्म रिलीज हुई तो ये इतनी जबरदस्त हिट रही कि 10 कैटेगरी में ऑस्कर में नॉमिनेट की गई। सिल्वेस्टर ने 3 शादियां कीं। उनके दो बेटे हुए, पर एक की उनके सामने ही मौत हो गई। जब बेटे का चेहरा बार-बार आंखों के सामने आने लगा तो सिल्वेस्टर ने हिंदू रीति-रिवाज से उसका अंतिम संस्कार किया।

तो चलिए आज सिल्वेस्टर स्टैलोन के बर्थडे पर जानते हैं उनकी हैरान कर देने वाली कहानी के बारे में।

डिलीवरी गलत होने से पैरालाइज्ड हुआ चेहरा

सिल्वेस्टर स्टैलोन का जन्म 6 जुलाई 1946 को न्यूयॉर्क में हुआ था। उनके पिता मशहूर हेयर ड्रेसर फ्रांसिस्को स्टैलोन हैं। उनकी मां जैकलिन स्टैलोन एस्ट्रोलॉजर और डांसर रही हैं। सिल्वेस्टर की डिलीवरी में कॉम्प्लिकेशंस के चलते उनके चेहरे का एक हिस्सा पैरालाइज्ड हो गया था। होश संभालते ही उन्होंने बस पेरेंट्स के झगड़े ही देखे थे। जब वो 5 साल के हुए, तब उनके पेरेंट्स अलग हो गए। सिल्वेस्टर अपने पिता के साथ रहने लगे थे।

अलग चेहरा होने के कारण चिढ़ाते थे बच्चे

माता-पिता के लगातार होते झगड़ों से सिल्वेस्टर काफी तनाव में रहते थे। ऐसे में उनका चेहरा पैरालाइज्ड होने के कारण स्कूल के बच्चों से अलग दिखता था और बच्चे उन्हें चिढ़ाया करते थे। इस सबके चलते सिल्वेस्टर का स्वभाव चिड़चिड़ा हो गया था। नतीजा ये हुआ कि सिल्वेस्टर आए दिन स्कूल के बच्चों से मारपीट करने लगे। जिस वजह से बार-बार उन्हें स्कूल से निकाला जाता था। इसी तरह कई संघर्षों से जूझते हुए वो बड़े हुए। उनके पास कोई नौकरी नहीं थी, कोई कमाई का जरिया भी नहीं था। उनके हालात दिन-ब-दिन खराब हो रहे थे।

परिवार ने घर से निकाला

एक समय ऐसा भी आया कि सिल्वेस्टर को उनके परिवार ने घर से निकाल दिया। उस समय सिल्वेस्टर के पास न रहने का कोई ठिकाना था, ना ही खाने के लिए पैसे थे। इस समय सिल्वेस्टर को सॉफ्ट पोर्नोग्राफी फिल्म में काम करने के लिए 200 डॉलर ऑफर हुए। मरता क्या न करता, फिर सिल्वेस्टर के हाल भी कुछ ऐसे ही थे। उन्होंने इस काम के लिए मना नहीं किया।

3 हफ्ते बस स्टैंड में सोए

सिल्वेस्टर के पास अब भी घर नहीं था। उन्होंने 3 हफ्ते बस स्टैंड पर सो कर गुजारे। पैसों के लिए उन्होंने जू में साफ-सफाई का भी काम किया। कुछ दिन बाद उन्हें अपनी गर्लफ्रेंड के घर में आसरा मिला। उनकी गर्लफ्रेंड वेट्रेस का काम करती थी। इस दौरान तंगी खत्म नहीं हुई तो सिल्वेस्टर को अपने दुखों के साथी कुत्ते को बेचना पड़ा। उनका अपने कुत्ते से बहुत अटैचमेंट था।

छोटे-मोटे रोल मिले

सिल्वेस्टर को अपनी गर्लफ्रेंड से फिल्मों में काम करने की प्रेरणा मिलने लगी थी। उन्होंने फिल्मों में एक्टिंग शुरू कर दी। उनकी बॉडी काफी अच्छी थी इसलिए उन्हें छोटे-मोटे रोल मिल जाया करते थे। सिल्वेस्टर को अब लीड एक्टर बनने की भूख थी, लेकिन उन्हें ये पता चल गया था कि बस एक्टिंग आने से लीड एक्टर का रोल मिलना मुश्किल है। ऊपर से पैरालाइज्ड चेहरा और भारी आवाज होना भी उनके लिए मुश्किलें खड़ी कर रहा था।

बॉक्सिंग मैच देखकर लिखी फिल्म

1975 में एक दिन स्टैलोन मशहूर बॉक्सर मोहम्मद अली और चुक वैप्नर के बीच हो रहा बॉक्सिंग मैच देख रहे थे। इस मैच ने स्टैलोन की जिंदगी बदल दी। दरअसल इस मैच को देखकर स्टैलोन ने "रॉकी" फिल्म की स्क्रिप्ट लिखी। राइटिंग का उन्हें पहले से ही शौक था। इस फिल्म में लीड रोल भी उन्हें ही करना था। ऐसे में उन्हें फिल्म को प्रोड्यूस करने के लिए प्रोड्यूसर की तलाश थी। काफी तलाशने के बाद उन्हें एक प्रोड्यूसर तो मिला, पर उसने लीड रोल में किसी और एक्टर को साइन करने की शर्त रख दी। ये शर्त स्टैलोन को गंवारा नहीं थी। उन्होंने नए प्रोड्यूसर की तलाश जारी रखी। काफी परेशान होने के बाद आखिरकार उन्हें प्रोड्यूसर मिल ही गया।

पहले साइनिंग अमाउंट में कुत्ते को वापस घर लाए

स्टैलोन के दर-दर भटकने के बाद यूनाइटेड स्टेट्स और चार्टोफ रिंकल प्रोडक्शन ने इस फिल्म को बनाने के लिए हामी तो भर दी, पर शर्त ये रखी कि फिल्म का बजट ज्यादा नहीं होगा। स्टैलोन को ये शर्त मंजूर थी। फिल्म का बजट 1.2 करोड़ रखा गया। फिल्म का साइनिंग अमाउंट मिलते ही सबसे पहले स्टैलोन अपने प्यारे कुत्ते को घर वापस लाए।

1976 में रिलीज हुई फिल्म ने तोड़े सारे रिकॉर्ड

स्टैलोन की लीड एक्टर के तौर पर पहली फिल्म रॉकी 1976 में रिलीज हुई। इस फिल्म ने रिलीज होते ही धमाल मचा दिया। फिल्म ने जबरदस्त कमाई के साथ ही ऑस्कर अवॉर्ड जीत कर सभी को हैरान कर दिया। ये फिल्म 10 कैटेगरी में ऑस्कर में नॉमिनेट हुई थी। फिल्म इतनी हिट रही कि इसके 5 पार्ट बने।

13 फिल्मों में किया रॉकी और रैंबो का रोल

स्टैलोन ने लगभग 13 फिल्मों में रॉकी और रैंबो का रोल प्ले किया है। उन्होंने अपनी लाइफ में रैंबो, ऐस्कैप, द एक्पेन्डेबल्स जैसी कई बेहतरीन फिल्में की हैं। बॉलीवुड के कई स्टार्स उन्हें अपना आइडल मानते हैं।

बेटे की मौत पर हरिद्वार में हिंदू रीति-रिवाज से कराया श्राद्ध

स्टैलोन ने तीन शादियां की हैं। 28 साल की उम्र में उन्होंने साशा क्रेड से शादी की। दोनों के बीच विवाद बढ़ने लगे जिसके चलते कपल अलग हो गया। इसके बाद उन्होंने एक्ट्रेस और मॉडल ब्रिगीटी नैल्सन से शादी की, लेकिन ये रिश्ता भी ज्यादा नहीं चला। 1997 में स्टैलोन ने जेनिफर फ्लैविन से शादी की। तीनों शादियों से उनके पांच बच्चे हुए। उनके बड़े बेटे सागा की 35 साल की उम्र में ही हार्ट डिजीज के चलते मौत हो गई थी, जिसके बाद स्टैलोन को मरे बेटे का चेहरा बार-बार दिखाई देने लगा। दोस्तों से सलाह लेने के बाद उन्होंने हिंदू रीति-रिवाज से हरिद्वार में बेटे का श्राद्ध करवाया था।

3 हजार 171 करोड़ रुपए है नेटवर्थ

सिल्वेस्टर स्टैलोन की नेटवर्थ 3 हजार 171 करोड़ रुपए है। वो लग्जरी लाइफ जीते हैं और शानदार घर के मालिक हैं। उनके घर में हर सुविधाएं हैं। फिलहाल वो अपकमिंग ड्रामा सीरीज तुलसा किंग की मेकिंग में बिजी हैं।

खबरें और भी हैं...