पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मसीहा बनने के बाद की जिंदगी:फिल्म के सीन में चिरंजीवी ने सोनू सूद को पीटने से इनकार किया, बोले- लोग मुझे गालियां देंगे

9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सोनू सूद ने कहा है कि अब फिल्म मेकर्स उनकी इमेज के मुताबिक स्क्रिप्ट में बदलाव कर रहे हैं। सोनू को अब हीरो के रोल भी ऑफर किए जा रहे हैं। -फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
सोनू सूद ने कहा है कि अब फिल्म मेकर्स उनकी इमेज के मुताबिक स्क्रिप्ट में बदलाव कर रहे हैं। सोनू को अब हीरो के रोल भी ऑफर किए जा रहे हैं। -फाइल फोटो।

सोनू सूद की मानें, तो लॉकडाउन में उनके नेक काम की वजह से फिल्ममेकर उन्हें लीड रोल के लिए अप्रोच करने लगे हैं। इतना ही नहीं, लोग उनकी छवि को देखते हुए स्क्रिप्ट भी बदल रहे हैं। सोनू ने शुक्रवार को 'वी द वीमेन' के वर्चुअल सेशन के दौरान साउथ इंडियन फिल्म 'आचार्य' से जुड़ा रोचक किस्सा भी साझा किया। उनके मुताबिक, इस फिल्म के एक सीन में सुपरस्टार चिरंजीवी ने उन्हें पीटने से इनकार कर दिया।

सोनू ने बताया- हम एक एक्शन सीक्वेंस शूट कर रहे थे। इस दौरान चिरंजीवी सर ने कहा- फिल्म में तुम्हारा होना हमारे लिए सबसे बड़ी समस्या है, क्योंकि मैं एक्शन सीन में तुम्हे पीट नहीं सकता। उन्होंने कहा कि अगर उन्होंने ऐसा किया तो लोग उन्हें गालियां देंगे। सोनू ने आगे कहा- फिल्म में एक सीन और था, जिसमें उन्होंने मेरे ऊपर अपने पैर रखे थे, उसे भी फिर से शूट किया गया।

इमेज के मुताबिक स्क्रिप्ट बदल रहीं

सोनू बताते हैं कि एक तेलुगु फिल्म के मेकर ने उनकी नई इमेज के अनुसार स्क्रिप्ट में बदलाव किए हैं। इसके चलते फिल्म में उन्हें अपना पोर्शन फिर से शूट करना पड़ेगा। सोनू के मुताबिक, 2020 ने उनकी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ को पूरी तरह बदल दिया है। वे कहते हैं- अब मुझे हीरो के रोल मिल रहे हैं। मुझे चार-पांच बेहतरीन स्क्रिप्ट्स मिली हैं। देखते हैं। यह मेरी नई शुरुआत है। यह नई पिच है, जो अच्छी और मजेदार होगी।

प्रवासी मजदूरों को पहुंचाया था घर

लॉकडाउन के दौरान सोनू सूद ने मुंबई में फंसे प्रवासी मजदूरों को देश के दूर-दराज इलाकों में स्थित उनके घर तक पहुंचाने में मदद की थी। उन्होंने और उनकी टीम ने मजदूरों के लिए टोल फ्री नंबर और वॉट्सऐप नंबर जारी किए थे। सोनू ने मजदूरों के लिए बस, ट्रेन और चार्टर्ड फ्लाइट का इंतजाम भी कराया था। साथ ही फंसे हुए लोगों के खाने-पीने का इंतजाम भी किया था।