पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

नहीं रहीं 'गांधी' की कॉस्ट्यूम डिजाइनर:देश के लिए पहला ऑस्कर जीतने वालीं भानु अथैया का 91 की उम्र में निधन, अवॉर्ड स्टेच्यू सेफ रहे इसलिए 8 साल पहले लौटा दिया था

6 दिन पहले
  • मार्च 2010 में भानु अथैया ने अपनी किताब 'द आर्ट ऑफ कॉस्ट्यूम डिजाइन' रिलीज की थी
  • 2012 में ऑस्कर स्टेच्यू लौटाते हुए कहा था मेरी मौत के बाद परिवार इसकी सुरक्षा नहीं कर सकेगा

1983 में डायरेक्टर रिचर्ड एटनबरो की फिल्म 'गांधी' के लिए ऑस्कर में बेस्ट कॉस्ट्यूम डिजाइनर अवार्ड जीतने वाली भानु अथैया का गुरुवार को निधन हो गया। वे 91 साल की थीं। भानु ने कॉस्टयूम डिजाइनर के तौर पर 100 से ज्यादा बॉलीवुड फिल्मों में काम किया था। भानु का अंतिम संस्कार साउथ मुंबई के चंदनवाड़ी श्मशान घाट में हुआ।

8 साल पहले हुआ था ट्यूमर
भानु की बेटी ने बताया कि उन्होंने गुरुवार सुबह आखिरी सांस ली। 8 साल पहले उन्हें ब्रेन ट्यूमर डाइग्नोस हुआ था। पिछले 3 साल से वे बिस्तर पर ही थीं। भानु के शरीर का एक हिस्सा पैरालाइज हो गया था। भानु का जन्म कोल्हापुर में हुआ था और उन्हें कॅरियर का पहला काम गुरु दत्त के साथ 1956 में सीआईडी फिल्म के जरिए मिला था। जबकि आखिरी बार आमिर की फिल्म लगान और शाहरुख की फिल्म स्वदेस के लिए कॉस्ट्यूम डिजाइन किए थे।

2012 में लौटा दिया था ऑस्कर
रिचर्ड एटनबरो की फिल्म गांधी के लिए जॉन मोलो के साथ संयुक्त रूप से ऑस्कर मिला था। लेकिन 2012 में भानु ने यह अवॉर्ड एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंस को वापस कर दिया था। इसके पीछे वजह उसकी सुरक्षा थी। 5 दशक के अपने फिल्मी कॅरियर में भानु ने दो नेशनल अवॉर्ड्स भी जीते थे। पहला गुलजार की फिल्म लेकिन के लिए 1990 में और दूसरा लगान के लिए 2001 में।

15 मिनट में भानु को किया था फाइनल
रिचर्ड ने एक इंटरव्यू में कहा था- मुझे अपनी ड्रीम फिल्म गांधी बनाने में 17 साल लग गए थे। लेकिन महज 15 मिनट में मेरे दिमाग ने यह फाइनल कर लिया था कि फिल्म में कॉस्ट्यूम डिजाइनिंग भानु ही करेंगी। 55वें ऑस्कर अवॉर्ड 11 अप्रैल 1983 को ऑर्गनाइज हुए थे। भानु के ऑस्कर जीतने के करीब 26 साल बाद भारत की झोली में दूसरा ऑस्कर म्यूजिक डायरेक्टर एआर रहमान लेकर आए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कड़ी मेहनत और परीक्षा का समय है। परंतु आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल रहेंगे। बुजुर्गों का स्नेह व आशीर्वाद आपके जीवन की सबसे बड़ी पूंजी रहेगी। परिवार की सुख-सुविधाओं के प्रति भी आपक...

और पढ़ें