2022 में रिलीज हुईं 6 बायोपिक फिल्में:10 सालों की हिट फिल्मों की रेस में दंगल सबसे आगे, चक दे इंडिया बॉलीवुड की पहली स्पोर्ट्स बायोपिक

5 दिन पहले

हिंदी बेल्ट के दर्शक भी बाॅलीवुड फिल्मों के बजाए साउथ की फिल्मों को ज्यादा पंसद कर रहे हैं। इसकी बड़ी वजह ये है कि साउथ की फिल्में एक्शन और इमोशन से भरपूर होती है और वहीं बाॅलीवुड में रीमेक और बायोपिक फिल्मों का ट्रेंड चला आ रहा है। विक्की कौशल की आगामी फिल्म सैम बहादुर भी एक बायोपिक फिल्म है। इसकी कहानी फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ के लाइफ पर बेस्ड है।

2022 के इन सात महीनों में करीब 6 बायोपिक फिल्में रिलीज हुई हैं। इनमें ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’, ‘रॉकेट्री: द नंबी इफेक्ट’ और ‘मेजर’ ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा कलेक्शन किया तो वहीं झुंड, ‘सम्राट पृथ्वीराज’, और ‘शाबाश मिठु’ जैसी फिल्में औसत कमाई से आगे भी नही बढ़ पाईं।

बायोपिक फिल्में बनने की शुरुआत कैसे हुई

बायोपिक फिल्मों का मतलब होता है कि वो फिल्में जो किसी वास्तविक, ऐतिहासिक या लीजेंड व्यक्ति के जीवन पर बेस्ड होती है। दुनिया में पहली बायोपिक फिल्म का क्रेडिट Joan of Arc को दिया जाता है।

‘संजू’, ‘भाग मिल्खा भाग’, ‘एमएस धोनी’, और ‘मैरी कॉम’ जैसी बायोपिक फिल्में ऑडियंस के दिलों पर एक अलग छाप छोड़ने में कामयाब रही थी। इन फिल्मों ने ये साबित किया कि अगर किसी की भी कहानी को पर्दे पर बखूबी ढंग से उतारा जाए तो लोग उसे जरूर देखेंगे।

बायोपिक फिल्मों का सिलसिला पिछले कुछ सालों में बढ़ गया है। चाहे राजनीति हो, स्पोर्ट्स या कोई बड़ी घटना, लगभग हर जाॅनर पर बायोपिक फिल्में बनी हैं।

2007 की फिल्म चक दे इंडिया बॉलीवुड की पहली स्पोर्ट्स बायोपिक है। ये फिल्म इंडियन महिला हॉकी टीम के कोच मीर रंजन नेगी के लाइफ पर बेस्ड है।

सियासी किरदारों पर बनी ये फिल्में बाॅक्स आफिस पर सफल नहीं रही हैं। 2017 में ‘इंदु सरकार’ की विफलता के बाद ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’, ‘ठाकरे’ और ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ में से कोई भी फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कमाल नहीं कर पाई है।

आगामी दिनों में द गुड महाराजा, द बैटल ऑफ भीमा कोरेगांव, सैम बहादुर और गोरखा जैसी बायोपिक फिल्में रिलीज होने वाली हैं। अब ये देखना दिलचस्प होगा कि ये फिल्में बॉक्स ऑफिस पर जोरदार कमाई करने में सफल होती हैं या नहीं।

खबरें और भी हैं...