पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Family Friend Faisal Farooqui Shares Health Update, Said Dilip Kumar Admitted To Hospital Due To Old Age Related 'medical Issues'

हेल्थ अपडेट:दोस्त फैसल फारूकी ने बताया-अस्‍पताल में अब कैसी है दिलीप कुमार की तबीयत, बोले-उम्र संबंधी दिक्कतों के कारण अस्पताल में कराया भर्ती

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दिग्गज एक्टर दिलीप कुमार को एक बार फिर सांस लेने में तकलीफ के चलते मंगलवार को मुंबई के पीडी हिंदुजा अस्‍पताल में एडमिट किया गया था। अब हाल ही में दिलीप कुमार के फैमिली फ्रेंड फैसल फारूकी ने एक्टर की हेल्थ को लेकर अपडेट दिया है। उन्होंने दिलीप कुमार के सोशल मीडिया अकाउंट से एक पोस्ट शेयर कर बताया है कि एक्टर को उम्र संबंधी दिक्कतों के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

दिलीप कुमार की तबीयत स्थिर है: फैसल फारूकी
फैसल फारूकी ने पोस्ट शेयर कर लिखा, "दिलीप साहब को उम्र संबंधी दिक्कतों के कारण हिंदुजा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी उम्र 98 है, जिसके कारण उन्हें कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। साहब ने आपके प्यार और प्रार्थना की सराहना की है।" फारूकी के इस पोस्ट पर कमेंट कर दिलीप कुमार के फैंस और कई सेलेब्स उनके जल्द ठीक होने की कामना कर रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, फैसल फारूकी ने बताया है कि दिलीप कुमार की तबीयत स्थिर है।

दिलीप कुमार को ICU वार्ड में रखा गया है
इससे पहले अस्‍पताल के सूत्रों ने बताया था, "दिलीप कुमार को एक नॉन-कोविड-19 ICU वार्ड में रखा गया है। उन्‍हें सांस लेने में तकलीफ हुई थी, जिसके बाद उन्‍हें दोबारा अस्‍पताल लाया गया। सांस लेने में तकलीफ और उनकी उम्र को देखते हुए फैमिली ने एहतियात के तौर पर उन्‍हें अस्पताल में भर्ती करने का फैसला किया है। वे अभी ठीक हैं और ICU में हैं, ताकि डॉक्‍टर्स उनकी अच्छे से देखरेख कर सकें। अस्‍पताल में दिलीप कुमार के साथ उनकी पत्‍नी और एक्‍ट्रेस सायरा बानो भी मौजूद हैं।"

6 जून को भी सांस लेने में तकलीफ के चलते अस्पताल में हुए थे भर्ती
इस महीने में यह दूसरी बार है, जब दिलीप कुमार को सांस लेने में तकलीफ होने के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दिलीप कुमार को इससे पहले 6 जून को अस्‍पताल में एडमिट किया गया था। तब उन्हें बाइलेटरल प्ल्यूरल इफ्यूजन हुआ था। इस बीमारी में छाती के अन्दर फेफड़े के चारों ओर पानी का जमाव हो जाता है, जिसे मेडिकल भाषा में 'प्ल्यूरल इफ्यूजन' कहते हैं। छाती में बार-बार पानी का जमाव होने से फेफड़े पर दबाव की वजह से सांस फूलने लगती है। डॉक्‍टर्स ने प्‍ल्‍यूरल एस्‍प‍िरेशन के जरिए उनके फेफड़ों के पास जमा पानी को बाहर निकाल दिया था। तब पांच दिन तक अस्‍पताल में रहने के बाद उन्‍हें छुट्टी दे दी गई थी।

खबरें और भी हैं...