ट्रोलर्स के निशाने पर आए महेश बाबू:पिता का अंतिम संस्कार करने के बावजूद नहीं मुंडवाया सिर, अब सामने आई वजह

2 महीने पहले

साउथ के स्टार महेश बाबू ने हाल ही में अपने पिता को खोया है। एक बेटा होने के नाते उन्होंने अपने पिता सुपरस्टार कृष्णा के अंतिम संस्कार को पूरे विधि विधान से पूरा किया लेकिन इतना सब करने के बावजूद वो ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए। ट्रोलर्स का कहना है कि हिंदू धर्म के परंपराओं के अनुसार अंतिम संस्कार करने वाले व्यक्ति को अपना सिर मुंडवाना होता हैं लेकिन महेश बाबू ने ऐसा नहीं किया। अब कुछ मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो अपने अपकमिंग प्रोजेक्ट्स को देखते हुए महेश बाबू ने सिर मुंडवाने से मना कर दिया है।

ट्रोलर्स के निशाने पर आए महेश बाबू

2022 का साल महेश बाबू के लिए सबसे बुरा रहा है। उन्होंने इस साल अपनी मां,भाई और हाल ही में पिता को खो दिया है। उनके पिता और 70 और 80 के दशक में तेलुगु सिनेमा के सुपरस्टार रहे शिवा रामा कृष्णा घट्टामनेनी का हाल ही में तेरहवीं मनाया गया। चहेता बेटा होने के नाते पिता के अंतिम संस्कार की जितनी भी फॉर्मैलिटीज होती है वो सभी महेश बाबू ने पूरी की लेकिन उन्होंने अपने सिर नहीं मुंडवाया जिसकी वजह से वो ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए।

फिल्मों के कमिटमेंट की वजह से नहीं मुंडवाया सिर

हिंदू परंपराओं के अनुसार, जब कोई व्यक्ति अपने परिवार के किसी सदस्य का अंतिम संस्कार करता है, तो उसे अपना सिर मुंडवाना पड़ता है लेकिन महेश बाबू ने ऐसा नहीं किया। हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो महेश बाबू ने अपनी फिल्मों के कमिटमेंट की वजह से सिर नहीं मुंडवाया। सिर मुंडवाने के बाद नए बाल आने में करीब 6 महीने से ज्यादा का समय लग जाता है, इन्हीं वजहों से महेश बाबू ने अपना सिर मुंडवाना सही नहीं समझा।

ट्रांसप्लांटेड हेयर भी हो सकती है वजह

हालांकि एक वजह ये भी हो सकती है कि महेश बाबू के जो बाल हैं वो ट्रासप्लांटेड हैं। उन्होंने Q6 हेयर पैच टेक्निक से हेयर ट्रांसप्लांटेशन कराया, जो पूरी तरह नेचुरल दिखता है। इसलिए ऐसे बालों को मुंडवाया नहीं जा सकता। इसके अलावा महेश बाबू एक फैशन आइकॉन माने जाते हैं इसलिए वो अगर अपने सिर मुंडवाते हैं तो इससे उनका लुक और गेटअप खराब हो सकता है।

15 नवंबर को हुआ था सुपरस्टार कृष्णा का निधन

बता दें कि महेश बाबू के पिता और सुपरस्टार कृष्णा का निधन 15 नवंबर को कार्डियक अरेस्ट की वजह से हुआ था। करीब 350 फिल्मों में काम कर चुके कृष्णा तेलुगु सिनेमा के काफी बड़े नाम थे। इसी साल सितंबर में उनकी पत्नी इंदिरा के निधन के बाद से वो डिप्रेशन में थे। उन्हें सांस लेने में दिक्कत थी, जिसकी वजह से उनको 14 नवंबर को हैदराबाद के कॉन्टिनेंटल हॉस्पिटल में एडमिट भी कराया गया था लेकिन 15 नवंबर को उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया।

खबरें और भी हैं...