दिलीप जोशी:संघर्ष से भरा था इनका शुरुआती सफर, बैकस्टेज आर्टिस्ट के तौर मात्र 50 रुपये ही मिलते थे

एक महीने पहले

जिंदगी ठोकर देती है, पर अगर जज्बा बुलंद हो तो इंसान हर एक चीज अपने जिंदगी में हासिल कर सकता है। यह बात बिल्कुल सटीक बैठती है दिलीप जोशी यानी जेठालाल पर। इन्हीं दिलीप जोशी का आज 54 वां बर्थडे है।

दिलीप जोशी का जन्म पोरबंदर में एक गुजराती फैमली में हुआ था। इनकी वाइफ का नाम जयमाला जोशी है। इन दोनों के दो बच्चे नियति और ऋत्विक जोशी है।

दिलीप जोशी का शुरुआती सफर आसान नहीं था। रोल नहीं मिलने के बावजूद इन्होंने अपने एक्टिंग के जुनून को मरने नहीं दिया था। तो चलिए आज इन्हीं के बर्थडे पर जानते है इनके लाइफ से जुड़े फैक्टस-

फिल्म मैनें प्यार किया से एक्टिंग डेब्यू किया

दिलीप जोशी ने अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत 1989 में आई फिल्म मैनें प्यार किया से किया था। इसके बाद यह कई गुजराती नाटकों में भी दिखाई दिए। दिलीप ने ये दुनिया है रंगीन शो में भी काम किया है। यह फिर भी दिल है हिंदुस्तानी, हम आपके हैं कौन जैसी फिल्मों में नजर आए थे। पर फिर भी वह पहचान नहीं मिली, जिसकी इन्हें चाह थी।

बैकस्टेज आर्टिस्ट के तौर पर मात्र 50 रुपये ही मिलते थे

रोल न मिलने के बावजूद भी दिलीप ने अपने एक्टिंग के जुनून को मरने नही दिया। लंबे समय तक काम नहीं मिलने के बाद इन्होंने थिएटर में काम करना शुरु किया। वहां इन्हें जो भी रोल मिलता था, यह उसे मन से किया करते थे। एक बैकस्टेज आर्टिस्ट के तौर पर भी इन्होंने काम किया। उस काम के लिए दिलीप जोशी को मात्र 50 रुपये ही मिलते थे।

TMKOC शो से इनको असली स्टारडम मिला

यह थिएटर के नाटकों के लिए पंचलाइन और जोक्स लिखते थे, जिन्हें लोग खूब इंजॉय करते थे। पर समय बदला और दिलीप जोशी जो चाहते थे वह इन्हें मिल गया। 2008 में तारक मेहता का उल्टा चश्मा शो शुरु हुआ। दिलीप जोशी को असली स्टारडम और शोहरत मिली इसी 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' शो से, जिसमें इन्होंने जेठालाल का रोल निभाया और अमर कर दिया।

खबरें और भी हैं...